विकास का महायज्ञ ध्वज वाहक पुष्कर सिंह धामी

विकास का महायज्ञ ध्वज वाहक पुष्कर सिंह धामी Viksh Ka Maha Yagya Dhwajwahak Pushkar Singh Dhami बाबा केदारनाथ धाम में देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सातवीं बार बाबा की नगरी में पूजा अर्चना करने के साथ-साथ यहां विकास कार्यों का भी लोकार्पण किया बाबा केदार की नगरी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे तो उन्होंने आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण करने के बाद केदारनाथ धाम के गर्भ गृह में विधि विधान से पूजा अर्चना करते हुए देश में खुशहाली की कामना की।

नरेंद्र मोदी का केदारनाथ धाम में आना हमेशा से ही लगा रहा है वह पिछले लंबे समय से बाबा केदार की नगरी में ध्यान मग्न और पूजा में शामिल होते रहे हैं प्रधानमंत्री बनने से पहले भी कई वर्षों तक वह बाबा केदार की नगरी में तपस्या कर चुके हैं गिने-चुने लोग ही जानते हैं कि बाबा केदार की नगरी के प्रति नरेंद्र मोदी की आस्था अपार है और शायद यही वजह थी कि देश के प्रधानमंत्री को चिंता थी कि वह बाबा केदारनाथ की नगरी को भव्य और दिव्य बनाने में जुटे।

2013 की आपदा से तहस-नहस हो चुका केदारनाथ धाम एक बार फिर से नहीं ऊंचाइयों को छू रहा है यह तमाम विकास कार्य भाजपा की सरकार के शासनकाल में तेजी से हुए हैं वर्तमान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को केदार नगरी में भव्य और दिव्य आयोजन का श्रेय देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया है उन्होंने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की पीठ थपथपाते हुए कहा कि वह युवा मुख्यमंत्री हैं और आने वाला भविष्य भी युवाओं का ही है इसे एक तरीके से उत्तराखंड की सियासत से जोड़कर भी देखा जा रहा है विकास का महायज्ञ उत्तराखंड सरकार कर रही है जिसमे सभी का साथ मिल रहा है।

नरेंद्र मोदी ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को युवा मुख्यमंत्री बताते हुए उनके कामों की तारीफ की है यह कोई पहला मौका नहीं है जब केदारनाथ धाम में नरेंद्र मोदी ने पुष्कर सिंह धामी की तारीफ की हो उन्होंने यह भी कहा कि आने वाला युग युवाओं का है और उत्तराखंड इसकी मिसाल कायम कर रहा है केदारनाथ धाम में नरेंद्र मोदी का जनसभा को संबोधित भी किया वह बिना राजनैतिक बातों को कहे उत्तराखंड की भाजपा सरकार के कामों पर फोकस करते हुए नजर आए।

अगर देखा जाये तो एक तरीके से कहा जाए तो नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ धाम से उत्तराखंड में धार्मिक आस्था को देश-दुनिया में पहुंचाने की अलख जगाने का आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण करने के बाद इसे बड़ा रूप दिया देश भर के 12 ज्योतिर्लिंगों के साथ-साथ पूरी दुनिया के तमाम ऐसे साधु संत समाज के लोग भी इस केदारनाथ धाम के आयोजन में जुड़े हुए थे जो लंबे समय से बाबा केदार की नगरी का दीदार करना चाह रहे थे तमाम ऐसे लोग भी थे जो देश दुनिया के अंदर बैठकर इस कार्यक्रम को ऑनलाइन माध्यम से देख रहे थे।

आदि गुरु शंकराचार्य का ऐतिहासिक महत्व धार्मिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण था जिसे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुनिया के सामने रखा है आदि गुरु शंकराचार्य ने धार्मिक यात्राओं को आगे बढ़ाने का काम किया इसके इतिहास पर भी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनकी तुलना शंकर से की बहुत कम लोग हैं जो यह जानते हैं कि आदि गुरु शंकराचार्य ने देश के अलग-अलग जगहों पर धार्मिक यात्राओं का लोगों के बीच प्रचार-प्रसार उस समय किया था जब लोग धर्म की स्थापना के लिए ध्वज वाहक के रूप में जाने जाते थे।

आदि गुरु शंकराचार्य भी उसी का एक रूप थे और उन्होंने धर्म की स्थापना के लिए अलग-अलग जगहों पर धार्मिक यात्राएं की वह बाबा केदारनाथ धाम में भी आए और बद्रीनाथ धाम भी गए उनके अलौकिक दर्शन देश-दुनिया मूर्ति अनावरण होने के बाद उस पल को महसूस कर पाएगा जो वर्षों पहले उनके द्वारा तपस्या के रूप में की गई थी फिलहाल बाबा केदारनाथ की नगरी में आदि गुरु शंकराचार्य की मूर्ति का अनावरण हो चुका है और आने वाले समय में आदि गुरु शंकराचार्य के दर्शन यहां आने वाले श्रद्धालु कर सकेंगे फिलहाल बाबा की नगरी से नरेंद्र मोदी ने एक नयी धार्मिक यात्रा का आगाज किया है।

error: Content is protected !!