Monday, March 4, 2024
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeउत्तरकाशीपीएम मोदी सीएम धामी श्रमिको के बने मसीहा हौसले से जंग जीत...

पीएम मोदी सीएम धामी श्रमिको के बने मसीहा हौसले से जंग जीत की तैयारी

देहरादून सिलक्यांरा उत्तरकाशी टनल में 41 श्रमिको को जिंदगी की जंग में जीत दिलाने के लिए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी बुधवार को कैंप ऑफिस में शाम तीन बजे हाई पावर मीटिंग में आगे का ब्लू प्रिंट तैयार करेंगे अफसरों को भविष्य में कैसे प्लान बनाया जाना है उनके लिए तैयारी के साथ आने को कहा गया है

श्रमिको के मसीहा बने मोदी धामी की जोड़ी ने मिलकर वो करिश्मा कर दिखाया है जिसकी गूंज एक बार फिर देश दुनिया देख रही है हलाकि मोदी धामी के टनल मिशन पर सियासत करने वालो के मुँह पर कड़ा तमाचा जंग जीतकर नज़र आने लगा है मामले पर सियासत करने के लिए उत्तरकाशी की टनल में ऐसे शिखंडी भी अपनी चाल चलते रहे लेकिन कामयाबी मोदी धामी के खेमे में देखी जा रही है पूरा देश श्रमिको को सकुशल बहार लाने के लिए पूजा करता देखा जा रहा है

पुष्कर सिंह धामी दीपवाली के दिन हादसे से लगातार टनल में अफसरों से फीड बैक लेते देखे गए है देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी टनल मामले पर लगातार जानकारी लेते हुए उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से जानकारी ले रहे है बुधवार को होने वाली मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की अध्यक्षता मीटिंग में टनल में फाइनल ड्रील किये जाने को लेकर अहम् फैसला लिया जा सकता है।

 

सिलक्यारा सुरंग में फंसे श्रमिकों को बचाने के लिए मंगलवार रात भर ड्रिलिंग का काम चला। ऑगर मशीन से 800 एमएम के छह पाइप डाले जा चुके हैं। सिलक्यारा सुरंग में ऑगर मशीन से 39 मीटर तक ड्रिलिंग हो चुकी है। कुल 57 से 60 मीटर तक ड्रिलिंग होनी है। सातवें पाइप की वेल्डिंग का काम चल रहा है। ड्रिलिंग सकारात्मक दिशा में बढ़ रही है। अब सुरंग में करीब 20 से 22 मीटर की दूरी रह गई है। मजदूर करीब 56 मीटर अंदर हैं। ऐसे में रेस्क्यू आपरेशन के लिए आज का दिन अहम है।

उत्तरकाशी की सिलक्यारा सुरंग में फंसे 41 मजदूरों को निकालने के लिए बचाव अभियान आज 11वें दिन भी जारी है। मंगलवार को सिलक्यारा सुरंग के भीतर फंसे मजदूरों की पहली तस्वीर सामने आई थी। इससे पहले टीम को सफलता मिली और छह इंच का दूसरा फूड पाइप मजदूरों तक पहुंचा दिया गया था। इसी पाइप से उन्हें खाने के लिए खिचड़ी और मोबाइल चार्ज करने के लिए चार्जर भेजे गए थे। वहीं अगर सबकुछ ठीक रहा तो बृहस्पतिवार को मजदूर बाहर की दुनिया में सांस ले सकते हैं।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

HTML tutorial

Most Popular

error: Content is protected !!