बद्रीनाथ उपचुनाव धामी चक्रव्यूह में विपक्ष

बद्रीनाथ उपचुनाव सीट पर राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी अपने राजनैतिक कौशल से विरोधियों पर भारी पढ़ते देखें जाते है हारी बाजी को जीत में बदलने का हुनर धामी बखूबी जनाते है कुछ ऐसा ही मंजर रविवार को यहां की उपचुनाव सीट पर देखने को मिला है सियासत के युद्ध में अर्जुन की तरह मछली की आंख पर निशाना साधते PSD उत्तराखंड नजर आए।

बद्रीनाथ सीट पर उपचुनाव में बीजेपी प्रत्याशी राजेंद्र भंडारी के पक्ष में माहौल बनाकर धामी ने बद्रीनाथ उपचुनाव में बीजेपी को एक तरफा लाकर खड़ा कर दिया है PSD उत्तराखंड बद्रीनाथ में धामी का चक्रव्यूह ऐसे नजर आया जिसमे विपक्ष के कई नेता अभिमन्यु बनते देखे गए है धामी के राजनैतिक युद्ध कौशल से हुए हमले विपक्ष को पूरी तरह घेरने के साथ साथ राजनैतिक रूप से फिजा को सनातनी सीट में बदलते रहे मौसम के बदले मिजाज पर धामी का सियासत वाला युद्ध कौशल हर कोई देखता नजर आया।

सियासत के बेताज बादशाह जानते है कैसे हारी बाजी को जीत में बदला जाता है खटीमा से लेकर चंपावत फिर बागेश्वर और अब बद्रीनाथ सीट पर धामी का जादू चलता देखा गया धामी जहां भी गए हूटिंग करते यूथ उनकी नजर पाने को बेताब देखे गए धामी ने किसी को निराश नहीं किया सेल्फी से लेकर महिला वर्ग और उम्र दराज हर मतदाता तक अपनी छाप छोड़ पाने में कामयाब धामी उपचुनाव में बड़ी जीत का माहौल बनाते देखे गए।

उत्तराखंड सीएम पुष्कर सिंह धामी ने बद्रीनाथ उपचुनाव में कई जगह पर बड़ी रैली जनसभा के माध्यम से बीजेपी प्रत्याशी राजेंद्र भंडारी के पक्ष में माहौल बनाकर पूरी विधानसभा में भगवा माहौल बना दिया जिसने विपक्ष की उम्मीदों पर बरसात में पानी फेर देने वाला काम किया है।

बद्रीनाथ उपचुनाव में दस जुलाई को मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करके उपचुनाव में एक ऐसी परिपाटी को बदलने के लिए धामी के साथ कदम ताल करते देखे गए जो राजनैतिक नजीरिये से आज तक यहां नही देखा गया पहले सीएम धामी है जो जोशीमठ में जनसभा करने वाले नेता बने है मतदाता इसी बात के कायल होते नजर आए है पहले के चुनाव में चमोली और दूसरी जगह पर रैली और जनसभा हुआ करती थी लेकिन धामी ने बद्रीनाथ उपचुनाव में जोशीमठ तपोवन एरिया में जिस तरह से राजनैतिक पिच पर बैटिंग की है जिसका परिणाम ऑल राउंडर विजेता के रूप में सामने आता हुआ नजर आएगा।

राजनैतिक गलियारों में चर्चा है कि बद्रीनाथ में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने जिस तरह से राजेंद्र भंडारी के पक्ष में माहौल बनाने का काम किया है वह विपक्ष को पूरी तरह घेरने में कामयाब रहा है चुनाव परिणाम 13 जुलाई को आएंगे तो एक नया अध्याय जो धामी ने लिखा है उसको राजनैतिक सुरमायो के लिए सबक बनेगा।