Google search engine
Thursday, July 7, 2022
Google search engine
Homeउधम सिंह नगरअजय तिवारी हुए फुर्र शिक्षा मंत्री करते रह गए घेरा बंदी

अजय तिवारी हुए फुर्र शिक्षा मंत्री करते रह गए घेरा बंदी

अजय तिवारी हुए फुर्र शिक्षा मंत्री करते रह गए घेरा बंदी Uttarakhand Assembly Election 2022 किच्छा उत्तराखंड में हॉट सीट बनी किच्छा विधानसभा में शुक्रवार को राजनैतिक समीकरण अलग तरह से देखने को मिला है किच्छा सीट पर निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में अजय तिवारी ने अपना नामांकन पत्र भरा जिसके बाद वो भूमिगत बताये जा रहे है किच्छा विधानसभा सीट से अजय तिवारी बीजेपी से टिकट की डिमांड कर रहे थे बीजेपी के सर्वे से लेकर राजनैतिक समीकरण हर तरह से अजय तिवारी के पक्ष में नज़र आ रहा था लेकिन बीजेपी ने उनको टिकट नहीं दिया।

किच्छा सीट पर हॉट होने की बातें ऐसे ही साफ सामने नज़र नहीं आ रही है नामांकन पत्र भरे जाने पहले उनको मनाए जाने की कोशिश के रूप में गदरपुर से विधायक एवं शिक्षा मंत्री अरविन्द पाण्डेय सहित बीजेपी के कई नेता उनको नामांकन नहीं किये जाने को लेकर उनके आवास ओमेक्स पर पहुंचे थे लेकिन खबर है अजय तिवारी मोरिंग से ही अपना फ़ोन ऑफ करके गायब रहे वो सिर्फ दिन में निर्वाचन ऑफिस में अपना नामांकन पत्र भरते हुए देखे गए उसके बाद से लगातार वो किच्छा विधानसभा से गायब बताये जा रहे है वो कहाँ है इसके बारे में उनके समर्थक भी कुछ नहीं बता पा रहे है।

किच्छा सीट पर राजनैतिक समीकरण को अगर देखा जाएं तो यहाँ पर अजय तिवारी के निर्दलीय चुनाव लड़ने के बाद मुकाबला अब आमने सामने का बीजेपी के लिए नहीं रहने वाला है बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला से लोकल का बीजेपी वर्कर नाराज बताया जा रहा है जबकि कांग्रेस के तिलक राज बेहड़ को अपने कांग्रेसी चुनाव नहीं जीतने की ताल ठोक रहे है ऐसे में किच्छा के राजनैतिक समीकरण में अजय तिवारी ने निर्दलीय के रूप में अपना पेच फॅसा दिया है।

बीजेपी उनको मनाये जाने की कोशिश में जुटी हुई है लेकिन अजय तिवारी के समर्थक चुनाव लड़ने के लिए पूरी ताकत लगाए बैठे हुए है अब तीस जनवरी तक नामांकन को वापिस लिए जाने का समय बचा है अगर अजय तिवारी के नामांकन पत्र में सब कुछ सही रहा तो वो चुनाव में जीत दर्ज़ करने के लिए अपनी पहली राजनैतिक पारी की शुरुवात करते हुए देखे जा सकते है वही चर्चा ये भी चल रही उनके घर पर किच्छा से बीजेपी विधायक राजेश शुक्ला ने मुलाकात की लेकिन वो चुनाव लड़ने से नहीं माने वही दूसरी चर्चा ये भी चल रही है की अजय तिवारी को मैनेज करने के लिए लगातार कोशिश जारी है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!