Google search engine
Monday, July 4, 2022
Google search engine
Homeदेहरादूनभाजपा का सोशल मीडिया प्रचार हावी

भाजपा का सोशल मीडिया प्रचार हावी

भाजपा का सोशल मीडिया प्रचार हावी Uttarakhand Assembly Election 2022 देहरादून उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने राज्य में अपनी वर्चुअल रैलियों के माध्यम से जनसभाओं को संबोधित करना शुरू कर दिया है भाजपा 2022 के विधानसभा चुनाव में इन्हीं वर्चुअल रैली के माध्यम से जनता के बीच अपनी पकड़ बनाने की कोशिश कर रही है राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने वर्चुअल रैली के माध्यम से सोमवार को इसका आगाज शुरू किया।

विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर कोविड-19 रैलियों पर फिलहाल प्रतिबंध लगाया गया है माना जा रहा है कि उत्तराखंड में जनता के बीच रेलिया नहीं हो सकेगी इसी को देखते हुए भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड में वर्चुअल रैलियों के माध्यम से जनता के बीच राज्य सरकार की विकास योजनाओं और केंद्र सरकार की योजनाओं को सुनाना शुरू कर दिया है राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर पूरी मुस्तैदी से चुनावी समर में पहुंच रहे हैं भाजपा संगठन स्तर पर बूथ को तैयार करके अपनी चुनावी रणनीति तैयार की है उत्तराखंड की विधानसभा सीटों पर भाजपा सोशल मीडिया का सहारा लेकर जनता के बीच सरकार के विकास कार्यों को पहुंचाने में जुट गई है देखा जाए तो सोशल मीडिया पर भाजपा का प्रचार मजबूत नजर आ रहा है।

उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में भाजपा का सोशल मीडिया पर जिस तरह से प्रचार तेजी से आगे बढ़ रहा है उसमें बाकी दलों को पीछे छोड़ दिया है अगर देखा जाए तो राज्य की 70 विधानसभा सीटों पर भाजपा अपने चुनावी प्रचार के माध्यम से ताल ठोक भी नजर आ रही है शायद यही वजह है कि सबसे बड़े संगठन के रूप में भाजपा उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में जनता के बीच पकड़ बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही।

सोशल मीडिया पर कम्पैन के चलते भाजपा सबसे आगे निकल गई है जबकि दूसरे राजनीतिक दल अभी तक सोशल मीडिया पर कहीं भी दूर-दूर तक नजर नहीं आते इसकी सबसे बड़ी वजह सोशल मीडिया पर भाजपा का बड़ा नेटवर्क काम कर रहा है 2022 के विधानसभा चुनाव में 14 फरवरी को उत्तराखंड में मतदान होना है इससे पहले भाजपा ने अपनी रणनीति को तेज कर दिया है और रैलियों के माध्यम से विधानसभाओं में भी शुरू वर्चुअल प्रचार शुरू कर दिया है।

उत्तराखंड में अगर कांग्रेस की बात की जाए तो कांग्रेस के सिर्फ हरीश रावत सोशल मीडिया के माध्यम से जनसभा को संबोधित करते हुए सोशल मीडिया पर नज़र आ रहे हैं जबकि कांग्रेस सोशल मीडिया पर अपना प्रचार उस तेजी से नहीं कर पा रही जो भाजपा को टक्कर दे सके कांग्रेसमें गुटबाजी की पराकाष्ठा भी साफ तौर से देखने को मिल रही है कई विधानसभा सीटों पर कांग्रेस का समीकरण बिगड़ता हुआ नजर आ रहा है ऐसे में माना जा रहा है कि सोशल मीडिया में कांग्रेस पूरी तरह से भाजपा से हारती हुई नजर आ रही है प्रचार के माध्यम से कांग्रेसी तेजी से आक्रामक नजर नहीं आ रहे जैसा चुनाव में नजर आता है।

उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी भी सोशल मीडिया के माध्यम से प्रचार में पिछड़ नजर आ रही है राज्य सरकार के खिलाफ नेगेटिव प्रचार वाली पोस्टों से भाजपा को फायदा मिलता हुआ नजर आ रहा है ऐसा माना जा रहा है कि जनता के बीच आम आदमी पार्टी नकारात्मक सोच के साथ भाजपा को टारगेट कर रही है लेकिन इसका फायदा भारतीय जनता पार्टी को मिलता हुआ नजर आ रहा है चुनावी समर में ऐसी पोस्टों को जनता नकार रही है माना जा रहा है आम आदमी पार्टी की उत्तराखंड में सोशल मीडिया पर प्रचार की प्लानिंग पूरी तरह से फेल नजर आ रही है।

भाजपा की उत्तराखंड के विधानसभा चुनाव में सोशल मीडिया पर प्रचार की प्लानिंग पूरी तरह से सफल होती दिख रही है जबकि कांग्रेस पिछड़ रही है अगर बात आम आदमी पार्टी की जाए तो कुछ ही विधानसभाओं में उसके प्रत्याशी चुनावी जीत के लिए कोशिश करते नजर आ रहे हैं बाकी अन्य विधानसभा सीटों पर आम आदमी पार्टी का कोई भी वजूद नजर नहीं आता ऐसे में यह कहना जल्दबाजी होगी कि चुनाव का गणित किस तरफ जाएगा लेकिन समझा जा सकता है कि भारतीय जनता पार्टी ने उत्तराखंड में जिस तेजी से चुनावी प्रचार को धार दी है वह जनता के बीच तेजी से पकड़ बनाता हुआ नजर आ रहा है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!