पेटीएम पेमेंट्स बैंक और मनीग्राम में साझेदारी

पेटीएम पेमेंट्स बैंक और मनीग्राम में साझेदारी Paytm And MoneyGram Collaboration भारत के देशी पेटीएम पेमेंट्स बैंक और डिजिटल पी2पी पेमेंट्स के विकास में वैश्विक अग्रणी मनीग्राम इंटरनेशनल, इंक  (एनएएसडीएक्युःएमजीआई) ने आज एक साझेदारी की घोषणा की है। इस साझेदारी से पूरी दुनिया में मनीग्राम के ग्राहक भारत के पेटीएम वॉलट यूजर को रियल-टाइम में पैसा भेज सकेंगे। यह ग्लोबल रिसीव नेटवर्क के डिजिटाइजेशन में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।

इस साझेदारी से विदेशों में अपने घर पर बैठे मनीग्राम के यूजर्स अब सुविधा के साथ भारत में फुल केवायसी पेटीएम वॉलट यूजर्स को पैसा ट्रांसफर कर सकते हैं। पेटीएम पेमेंट्स बैंक के पास लाखों वॉलट कस्टमर्स हैं, जो सुविधा के लिये पेटीएम वॉलट का इस्तेमाल करते हैं, जैसे खर्च पर ज्यादा नियंत्रण, अत्यंत सुरक्षित भुगतान, यूटिलिटी बिलों का तेजी से भुगतान और मोबाइल, ऑनलाइन तथा इन-स्टोर पेमेंट्स में आसान इंटीग्रेशन, आदि।

यह भारत में मनीग्राम की पहली मोबाइल वॉलट पार्टनरशिप है, जो एक महत्वपूर्ण घटना है, क्योंकि डिजिटल रिसीव्स में देश का विकास तेज गति से हो रहा है। भारत में डिजिटल तरीके से रिसीव होने वाले मनीग्राम के ट्रांजैक्शंस अभी देश में रिसीव होने वाले सभी ट्रांजैक्शंस का लगभग 50 प्रतिशत हैं। सीधे बैंक खातों में भेजे जाने वाले ट्रांजैक्शंस की संख्या केवल दो साल पहले 10 प्रतिशत ही थी, जो अब करीब छह गुना बढ़ गई है। इसके साथ मनीग्राम को वृद्धि की उच्च दरों की उम्मीद है, क्योंकि भारत में ग्राहक डिजिटल रिसीव्स की सुविधा को महत्व दे रहे हैं।

मनीग्राम के चेयरमैन और सीईओ एलेक्स होल्म्स ने कहा, “हम विश्व के सबसे बड़े रिसीव मार्केट्स में से एक में मोबाइल वैलेट की अपनी क्षमताओं को बढ़ाने के लिये पेटीएम पेमेंट्स बैंक के साथ भागीदारी करके उत्साहित हैं। हमारे रिसीव नेटवर्क का डिजिटाइजेशन हमारी वृद्धि की रणनीति का मुख्य घटक है, जिसने बेहतरीन परिणाम दिये हैं, जैसे कि इस साल की तीसरी तिमाही में डिजिटल तरीके से रिसीव हुए हमारे कुल ट्रांजेक्शंस में सबसे उच्च वृद्धि। भारत और अन्य देशों में उपभोक्ता ट्रांसफर्स को डिजिटली रिसीव करना पसंद कर रहे हैं, इसलिये मनीग्राम मांग को पूरा करते रहते की सुदृढ़ स्थिति में है।”

पेटीएम पेमेंट्स बैंक लिमिटेड के एमडी और सीईओ सतीश कुमार गुप्ता ने कहा, “हम हमेशा भारतीयों को सरल डिजिटल बैंकिंग सेवाओं से सशक्त करने की कोशिश में रहते हैं और सीधे पेटीएम वॉलट में इंटरनेश्नल रेमिटेंस की पेशकश इसी दिशा में उठाया गया एक अन्य कदम है। पेटीएम वॉलट का इस्तेमाल लाखों भारतीय करते हैं और हमें उम्मीद है कि यह भागीदारी पूरे विश्व में भारतीय समुदाय को बेजोड़ सुविधा और लचीलापन देगी, ताकि वे रियल-टाइम में अपने घर पैसा भेज सकें।”

वर्ल्ड बैंक के साल 2020 के आकलनों के अनुसार, भारत विश्व का सबसे बड़ा इनबाउंड मार्केट है, जिसने उस साल के लिये 83 बिलियन अमेरिकी डॉलर का अनुमानित धन विप्रेषण (रेमिटेंस) किया था।

error: Content is protected !!