spot_img
Thursday, February 9, 2023
spot_imgspot_img
spot_imgspot_imgspot_imgspot_img
Homeराष्टीयइगास पर अवकाश अनिल बलूनी त्रिवेद्र में हुई थी राजनैतिक खटास

इगास पर अवकाश अनिल बलूनी त्रिवेद्र में हुई थी राजनैतिक खटास

इगास पर अवकाश अनिल बलूनी त्रिवेद्र में हुई थी राजनैतिक खटास देहरादून संस्कृति पर्व इगास पर अवकाश घोषित किया गया है उत्तराखंड के मुख्यमंत्री उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने संस्कृति पर्व इगास पर अवकाश घोषित करने की घोषणा की है उत्तराखंड में इस पर्व को मनाए जाने के लिए संस्कृति के वाहक पुरजोर कोशिश करते हैं इस पर्व को मनाने के लिए अपने अपने गांव के घरों में इस पर्व को मनाने की अनूठी परंपरा है।

उत्तराखंड में इस पर्व को धूमधाम से मनाने के लिए बीजेपी के सांसद अनिल बलूनी ने बड़ी कोशिश की थी त्रिवेंद्र सिंह रावत की सरकार के समय इस पर्व को लेकर दोनों ही नेताओं के बीच काफी विरोधाभास भी हुआ था हालाकि इस दिन राजकीय अवकाश घोषित नहीं किया गया था जिसको लेकर विवाद काफी बड़ा था अब दोनों ही नेताओं के बीच राजनीतिक रूप से क्या दूरियां है यह तो वह दोनों नेता ही जानते होंगे लेकिन फिलहाल राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दूसरी बार अवकाश घोषित करने की घोषणा की है।

उत्तराखंड की सियासत में कदम रखने से लेकर कई तरह की भावी योजनाएं आज भी अनिल बलूनी के मन में घर करती है पिछले कुछ सालों में उनका राजनैतिक दखल उत्तराखंड में साफ तरह से देखा गया है कुमायूं ट्रेन हो या फिर गढ़वाल में विकास का नया मॉडल दोनो ही रीजन में अनिल बलूनी अपनी राजनैतिक पहुंच के चलते उत्तराखंड को कई तरह की सौगात देते रहे है त्रिवेंद्र सिंह रावत की सरकार के समय उनकी चर्चा उत्तराखंड के भावी सीएम के रूप में भी हो चुकी थी लेकिन अपने स्वस्थ खराब होने के चलते वो मौका चूक गए भविष्य में अनिल के पास संभावना के रूप में उत्तराखंड पहली नजर में है।

 

विकास को लेकर अपनी संस्कृति की झलक देखने को मिलती है उत्तराखंड में इस पर्व को मनाने के लिए गढ़वाल क्षेत्र में इसकी बड़े पैमाने पर देखी जाती है लेकिन कुमाऊं का कुछ क्षेत्र विकास पर्व को मनाने के लिए व्याकुल रहता है संस्कृति की तरफ लोगों को जोड़ने की एक अनूठी पहल है दीपावली के 11 दिन बाद मनाया जाने वाला पर्व एक अनूठी पहल है। हर साल प्रवासी उत्तराखंडी से लेकर गढ़वाल मंडल में इस पर्व को मनाए जाने के पीछे अपनी संस्कृति की तरफ लोगों को जोड़े रखने के लिए भी ये दिन यादगार रहता है।

उत्तराखंड में ज्योति पर्व दीपावली के 11 दिन बाद मनाए जाने वाले लोक पर्व इगास में देश-विदेश में रह रहे प्रवासी उत्तराखंडी जुड़ते है। राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी की अगुआई में इगास महोत्सव समिति वृहद आयोजन हर साल करती है। पिछले वर्ष इगास का मुख्य आयोजन देहरादून में किया गया था, जबकि राज्य के कुछ अन्य स्थानों पर भी बड़े कार्यक्रम किए जाते है । प्रवासियों को आनलाइन इनसे जोड़ा जा चुका है , ताकि वे दूर रहकर भी अपनी जड़ों से जुड़ाव महसूस कर सकें।

उत्तराखंड के लोक पर्वों, त्योहारों से प्रवासियों को जोड़ने के उद्देश्य से राज्यसभा सदस्य अनिल बलूनी निरंतर प्रयास करते रहे हैं। इस क्रम में उन्होंने इगास से प्रवासियों को जोड़ने की मुहिम को कुछ वर्षो में तेज किया है। इसके लिए गठित इगास महोत्सव समिति इस पर्व पर होने वाले कार्यक्रम की तैयारियों में जुटी है। समिति से जुड़े सदस्य इस बार भी इगास पर भव्य कार्यक्रम करेगे। देहरादून में होने वाले मुख्य आयोजन में पूजा-अर्चना के बाद शाम को भैलो नृत्य का कार्यक्रम प्रस्तावित है। इसके लिए स्थान चयनित किया जा रहा है।

Uttarakhand News उत्तराखंड हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे वेब पोर्टल भड़ास फॉर इंडिया Bhadas4india को विजिट करे आपको हमारी वेबसाइट पर Dehradun News देहरादून न्यूज़ के साथ Uttarakhand Today News Breaking News हर खबर मिलेगी हमारी हिंदी खबरे शेयर करना नहीं भूले

RELATED ARTICLES

Most Popular

error: Content is protected !!