spot_img
Thursday, September 29, 2022
spot_img
Homeहरिद्वारधाकड़ धामी का धाकड़ फैसला एक दर्जन से अधिक सस्पेंड

धाकड़ धामी का धाकड़ फैसला एक दर्जन से अधिक सस्पेंड

हरिद्वार जहरीली शराब कांड को लेकर एक बार फिर से धर्म नगरी हरिद्वार का जिला सुर्खियों में है इसके सुर्खियों में रहने का प्रमुख कारण शराब पीने से हुई मौतों को बताया जा रहा है हालांकि आधिकारिक रूप से अभी इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है कि मरने वालों की मौत शराब पीने से हुई है या फिर कोई दूसरा कारण है.

हरिद्वार में शनिवार को सुबह अचानक से ही 5 लोगों के मरने की सूचना प्रशासन को मिली सूचना मिलते ही जिला प्रशासन और पुलिस अलर्ट मोड पर आ गई जब तक पूरे मामले का पता चलता तो इसकी खबर सोशल मीडिया के माध्यम से उड़ी की जहरीली शराब पीने से कुछ लोगों की मौत हुई है हालांकि इस मामले को लेकर हरिद्वार के जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने स्थिति स्पष्ट करते हुए कहा कि अभी बिना पोस्टमार्टम के यह कहना संभव नहीं है कि मरने वालों की मौत का कारण क्या है.

मामले ने तूल पकड़ा तो दिन भर हरिद्वार में जहरीली शराब कांड मीडिया की सुर्खियां बन गया मामले का संज्ञान लेते हुए राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कड़ी कार्रवाई करने का ऐलान कर दिया देर शाम तक राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर आबकारी सचिव ने आबकारी विभाग के 9 कर्मचारियों और अफसरों को सस्पेंड करने के आदेश जारी कर दिए मतलब साफ था कि इस मामले को लेकर कहीं ना कहीं कोई ऐसी खामी रही जिसके चलते इतना बड़ा फैसला हो सका यही नहीं पुलिस विभाग ने भी थाना क्षेत्र के इलाके में एरिया आता है वहां के थाना प्रभारी और सिपाहियों को सस्पेंड किया है.

उत्तराखंड में जहरीली शराब कांड का यह कोई पहला मामला नहीं है इससे पहले भी हरिद्वार जिले में और देहरादून जिले के साथ-साथ दूसरे जिलों में भी शराब कांड सुर्खियों में रहा है लेकिन इस बार कार्रवाई का डंडा पुष्कर सिंह धामी की सरकार ने चलाया है और अभी तक आबकारी और पुलिस विभाग के  एक दर्जन से अधिक कर्मचारियों को सस्पेंड किया है लेकिन बड़ा सवाल ये उठता है कि ऐसा भविष्य में नहीं होगा इसकी नजीर भी मुख्यमंत्री को तय करनी है.

इस मामले को लेकर  विपक्ष भी राज्य सरकार पर हमला कर रहा है अब देखना है कि राज्य के मुख्यमंत्री उत्तराखंड में जहरीली शराब कांड को लेकर क्या कड़ा फैसला लेते है क्योंकि अभी तक अफसरों की जिम्मेदारी कोई भी मामला होने के बाद तय होती है जबकि उनकी पहले से ही जवाब दारी तय होनी चाहिए  बरहाल सबकी नजरें धामी के कड़क फैसले का इंतजार कर रही है.

Uttarakhand News उत्तराखंड हिंदी न्यूज़ के लिए हमारे वेब पोर्टल भड़ास फॉर इंडिया Bhadas4india को विजिट करे आपको हमारी वेबसाइट पर Dehradun News देहरादून न्यूज़ के साथ Uttarakhand Today News Breaking News हर खबर मिलेगी हमारी हिंदी खबरे शेयर करना नहीं भूले

RELATED ARTICLES
- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments

error: Content is protected !!