2017 की गलती 22 में नहीं दोहराएगी कांग्रेस

2017 की गलती 22 में नहीं दोहराएगी कांग्रेस Congress Not Repeat 2017 Galti देहरादून विधानसभा चुनाव 2022 उत्तराखंड में कांग्रेस सामूहिक नेतृत्व में लड़ेगी एक या दो अपवाद को छोड़ कर कांग्रेस में कोई भी नेता अपनी ढपली बजाता हुआ नज़र नहीं आयेगा उत्तराखंड में कांग्रेस की ख़राब की गयी हालात का इलाज कांग्रेस हाईकमान करता हुआ नज़र आएगा जमीनी पकड़ वाले नेताओं का टिकट पहली लिस्ट में फाइनल किया जायेगा कुछ ऐसे ही संकेत कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने देहरादून में मीडिया से साझा किये है।

उत्तराखंड में 2017 के विधानसभा चुनाव में हरीश रावत को एक तरफ नेता घोषित करते हुए हरदा की टीम में जो गुल राज्य में खिलाया था उसको दोहराने के लिए कांग्रेस तैयार नहीं है उत्तराखंड में प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से लेकर प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय सहित नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह भी सबके नेतृत्व में चुनाव 2022 को लड़ने की हामी भर चुके है उत्तराखंड में अकेले हरीश रावत कैंप चुनावी ताल में हरीश रावत को आगे करते हुए नेता घोषित किये जाने की जुगत में जुटा हुआ है।

कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने 2022 के विधानसभा चुनाव में महिलाओं और युवाओं की टिकट पर ज्यादा दावेदारी पर विचार करने के संकेत दिए। जिन विधानसभा क्षेत्रों में महिलाएं सशक्त दावेदार होंगी, उन्हें मौका दिया जाएगा। टिकट को लेकर पार्टी में आम राय बनाने में कामयाब रहने वाले युवा भी टिकट के हकदार होंगे। उन्होंने कहा कि कमेटी आने वाले दिनों में दोनों मंडलों गढ़वाल और कुमाऊं का दौरा कर टिकट के दावेदारों के साथ ही पार्टी की जिला इकाइयों से भी मुलाकात करेगी।

कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड में जमीनी पकड़ वाले नेताओं को टिकट देने के लिए ज़िलों से आने वाले फीडबैक पर भी नज़र बनाये हुए है समीकरण बता रहे है कांग्रेस में टिकट की दावेदारी ऐसे नेता भी कर रहे है जो जनता के बीच विधानसभा में गायब रहते है कांग्रेस ऐसे नेताओं से किनारा करते हुए विनिंग उम्मीदवार को अपना प्रत्याशी बनाकर चुनाव में उतारेगी।

चुनावी बिसात का गणित समीकरण समझ कर कांग्रेस अपने उम्मीदवार पर इस बार दांव लगाने जा रही है ताकि चुनावी 22 के समीकरण में सरकार बनाये जाने के लिए अधिक विधायक चुनकर आ सके कांग्रेस के चुनावी गणित पर राजनैतिक नजरिया बता रहा है अगर कांग्रेस उत्तराखंड में गुटबाजी की चादर को ओढ़ कर चुनावी समर में जाएगी तो परिणाम 2017 की तरफ कांग्रेस के लिए नुकसान वाले हो सकते है 2022 की चुनावी महाभारत के लिए युद्ध को लड़ने के लिए कांग्रेस के पास अभी तक कोई अर्जुन नज़र नहीं आ रहा है क्योकि कहावत है राजनैतिक युद्ध में चुनावी प्लानिंग वाला ही विजेता बनता है अभी तक कांग्रेस के आपसी गुटबाजी की हवा को हरीश रावत कैंप घी डालने का काम कर रहा है।

error: Content is protected !!