Google search engine
Thursday, July 7, 2022
Google search engine
Home Blog Page 52

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना जनता व सरकार के बीच सेतू

मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना जनता व सरकार के बीच सेतू Cm Swarojgar Yojana Uttarakhand देहरादून मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पंचायतों को लगातार सशक्त करने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश की तरक्की, मजबूती में त्रि-स्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों का सबसे बड़ा योगदान है। त्रि-स्तरीय पंचायत प्रतिनिधि जनता व सरकार के बीच सेतू का कार्य कर रहे है।

पंचायते आज लोकतंत्र की मूलभूत ईकाईयां है। पंचायतें सामाजिक न्याय एवं आर्थिक विकास का आधार भी है। सरकारी योजनाओं को क्रियान्वयन करने की असली जिम्मेदारी त्रि-स्तरीय प्रतिनिधियों की है। त्रि-स्तरीय प्रतिनिधि पहले पायदान पर आते हैं, जहॉ से विकास की नीव शुरू होती है।

उन्होंने कहा कि उनका वोट तथा आवास सब ग्राम सभा में होने के कारण उनका रिश्ता-नाता सीधे-सीधे पंचायत से है। त्रि-स्तरीय प्रतिनिधियों की मान्यता व जिम्मेदारी से परिचित हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व में न्याय हेतु सरपंच होता था, जिसके फैंसले को सब मानते थे। जनता की सेवा करने का अवसर मिला है, इसमें कैसे, अपने ग्राम, क्षेत्र, ब्लॉक एवं जिले को अच्छे से अच्छा कर सकते हैं, सभी को आपसी भागीदारी व तालमेंल से कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि राज्य को आगे बढ़ाने के लिए सभी की सामूहिक यात्रा है। हम सभी एक-एक कड़ी के रूप में है, सभी कड़ियों को पूरी जिम्मेदारी से कार्य करना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना में आवेदकों को शीघ्रता से ऋण मुहैया कराने हेतु बैंकों को 15 दिसम्बर की डेड लाइन तय की है। उन्होंने कहा कि 24000 रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया गतिमान है। उन्होंने कहा कि बेरोजगार युवाओं को भर्ती परीक्षा हेतु आवेदन शुल्क निःशुल्क किया गया है। उन्होंने कहा कि सीडीएस सिविल सेवा एवं अन्य प्रारम्भिक परीक्षाऐं पास करने वाले विद्यार्थियों को कोचिंग, किताबों आदि के लिए धनराशि की व्यवस्था की गयी है।

सबकी योजना सबका विकास कोविड में दर्ज मुकदमे वापस

सबकी योजना सबका विकास कोविड में दर्ज मुकदमे वापस Sabki Yojana Sabka Vikas Uttarakhand 2021 देहरादून मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार को गांधी पार्क, रूद्रपुर में आयोजित लोक योजना अभियान ’’सबकी योजना सबका विकास’’ के अंतर्गत कुमाऊं मंडल के पंचायत प्रतिनिधियों की राज्य स्तरीय अभिमुखीकरण कार्यशाला में प्रतिभाग किया।

इस दौरान मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने ग्राम प्रधानों द्वारा कोरोना काल में विपरीत परिस्थितियों में सराहनीय कार्य करने पर 10 हजार रूपये प्रोत्साहन राशि देने, कोविड-19 के दौरान कोविड में दर्ज मुकदमे वापस लेने, बाटा चौक का नाम डॉ.भीमराव अम्बेडकर के नाम पर करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि उपाध्यक्ष जिला पंचायत का मानदेय 5000 हजार से बढ़ाकर 7000 करने, उप प्रमुख, ज्येष्ठ कनिष्ठ क्षेत्र पंचायत का 1500 से 2500 करने का प्रस्ताव किया गया है।

उन्होंने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्षों को पूर्व की भांति राज्यमंत्री का दर्जा दिये जाने का भी प्रयास किया जायेगा। पीएम आवास योजना ग्रामीण का लाभ अभी वर्ग-1 क की भूमि व स्वामित्व कार्ड वालों को ही आवास दिया जा रहा है। जिससे उधम सिंह नगर में 1000 लोग आवास से वंचित रह रहे हैं। इस सम्बन्ध में चौहद्दी निर्धारित कर आवास दिये जाने की व्यवस्था होने तक किसी भी आवास को सूची से डिलीट न किया जाये, इसके लिए डीएम व सीडीओ कार्यवाही करें। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य के प्रति बेहद सजग व संजीदगी से कार्य किये जा रहे हैं। आयुष्मान योजना से सम्बन्धित शिकायत मिलने पर सम्बन्धितों के खिलाफ तुरन्त कार्यवाही की जायेगी।

मुख्यमंत्री ने डीआईजी को निर्देशित करते हुए कहा कि पुलिस थानों एवं चौकियों में जनप्रतिनिधियों को सम्मान मिले। उन्होंने कहा कि ग्राम प्रधानों का मानदेय बढ़ाकार उनका सम्मान किया है। यह हमारी भावना है कि जो समय, संसाधन है उससे किया है।

पूर्व फौजी और पत्नी की गोली से मौत घर पर कटे मिले तार

पूर्व फौजी और पत्नी की गोली से मौत घर पर कटे मिले तार Ex Army Men Wife Death Case Ranipokhari देहरादून जिले के थाना रानीपोखरी क्षेत्र के इठरना मार्ग पर एक पूर्व सैनिक और उसकी पत्नी की लाइसेंसी बंदूक से गोली मारे जाने पर दोनों की मौके पर ही मौत हो गई। मामले का पता चलते ही मोके पर पहुंची पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है वारदात के पुलिस को अहम् सुराग हाथ लगे होने की जानकारी मिल रही है सबसे बड़ा खुलासा पुलिस को तब हुआ है जब मोके पर जाने के बाद पता चला की घर में लगे सी सी टी वी के सभी तार कटे हुए मिले है जिसके कारण पुलिस मामले में जांच को आगे बड़ा रही है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार देहरादून जिले के थाना रानीपोखरी क्षेत्र के इठरना मार्ग में रहने वाले पूर्व सैनिक ब्रजी कृषाली(58 वर्ष) और पत्नी कुसुम कृषाली (55 वर्ष) घर पर थे घर पर ही उनकी बहु भी मौजूद थी गोली चलने के समय बहु ने आलावा माँ भी घर ही थी रखवाल गांव के प्रधान दीपक चंद ने बताया कि घटना के वक्त पूर्व सैनिक और उनकी पत्नी कुसुम के अलावा उनकी मां और पुत्र वधु घर पर थे।

नगर में हुई ये घटना चर्चा का विषय बनी हुई है पुलिस मामले में फोरंसिक टीम के माध्यम से ये पता लगाने का काम कर रही है आखिर बन्दुक में किसके हाथो के निशान मौजूद है और आखिर दोनों पति पत्नी की मौत का कारण क्या रहा है मामले में पुलिस को कई खास जानकारी मिली है आस पड़ोस के लोगो से भी पुलिस ने जानकारी लेकर मामले का पता किया है बरहाल मामले में घर पर लगे सीसीटी वी कैमरे के कटे हुए तार कब से थे पुलिस इसका भी पता कर रही है। पुलिस को अब फोरंसिक टीम की रिपोर्ट का इंतज़ार है

2017 की गलती 22 में नहीं दोहराएगी कांग्रेस

0

2017 की गलती 22 में नहीं दोहराएगी कांग्रेस Congress Not Repeat 2017 Galti देहरादून विधानसभा चुनाव 2022 उत्तराखंड में कांग्रेस सामूहिक नेतृत्व में लड़ेगी एक या दो अपवाद को छोड़ कर कांग्रेस में कोई भी नेता अपनी ढपली बजाता हुआ नज़र नहीं आयेगा उत्तराखंड में कांग्रेस की ख़राब की गयी हालात का इलाज कांग्रेस हाईकमान करता हुआ नज़र आएगा जमीनी पकड़ वाले नेताओं का टिकट पहली लिस्ट में फाइनल किया जायेगा कुछ ऐसे ही संकेत कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने देहरादून में मीडिया से साझा किये है।

उत्तराखंड में 2017 के विधानसभा चुनाव में हरीश रावत को एक तरफ नेता घोषित करते हुए हरदा की टीम में जो गुल राज्य में खिलाया था उसको दोहराने के लिए कांग्रेस तैयार नहीं है उत्तराखंड में प्रदेश प्रभारी देवेंद्र यादव से लेकर प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय सहित नेता प्रतिपक्ष प्रीतम सिंह भी सबके नेतृत्व में चुनाव 2022 को लड़ने की हामी भर चुके है उत्तराखंड में अकेले हरीश रावत कैंप चुनावी ताल में हरीश रावत को आगे करते हुए नेता घोषित किये जाने की जुगत में जुटा हुआ है।

कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने 2022 के विधानसभा चुनाव में महिलाओं और युवाओं की टिकट पर ज्यादा दावेदारी पर विचार करने के संकेत दिए। जिन विधानसभा क्षेत्रों में महिलाएं सशक्त दावेदार होंगी, उन्हें मौका दिया जाएगा। टिकट को लेकर पार्टी में आम राय बनाने में कामयाब रहने वाले युवा भी टिकट के हकदार होंगे। उन्होंने कहा कि कमेटी आने वाले दिनों में दोनों मंडलों गढ़वाल और कुमाऊं का दौरा कर टिकट के दावेदारों के साथ ही पार्टी की जिला इकाइयों से भी मुलाकात करेगी।

कांग्रेस की प्रदेश स्क्रीनिंग कमेटी के अध्यक्ष अविनाश पांडेय ने 2022 के विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड में जमीनी पकड़ वाले नेताओं को टिकट देने के लिए ज़िलों से आने वाले फीडबैक पर भी नज़र बनाये हुए है समीकरण बता रहे है कांग्रेस में टिकट की दावेदारी ऐसे नेता भी कर रहे है जो जनता के बीच विधानसभा में गायब रहते है कांग्रेस ऐसे नेताओं से किनारा करते हुए विनिंग उम्मीदवार को अपना प्रत्याशी बनाकर चुनाव में उतारेगी।

चुनावी बिसात का गणित समीकरण समझ कर कांग्रेस अपने उम्मीदवार पर इस बार दांव लगाने जा रही है ताकि चुनावी 22 के समीकरण में सरकार बनाये जाने के लिए अधिक विधायक चुनकर आ सके कांग्रेस के चुनावी गणित पर राजनैतिक नजरिया बता रहा है अगर कांग्रेस उत्तराखंड में गुटबाजी की चादर को ओढ़ कर चुनावी समर में जाएगी तो परिणाम 2017 की तरफ कांग्रेस के लिए नुकसान वाले हो सकते है 2022 की चुनावी महाभारत के लिए युद्ध को लड़ने के लिए कांग्रेस के पास अभी तक कोई अर्जुन नज़र नहीं आ रहा है क्योकि कहावत है राजनैतिक युद्ध में चुनावी प्लानिंग वाला ही विजेता बनता है अभी तक कांग्रेस के आपसी गुटबाजी की हवा को हरीश रावत कैंप घी डालने का काम कर रहा है।

56 सीटों का इतिहास कसरत करती पुष्कर सिंह धामी सरकार

56 सीटों का इतिहास कसरत करती पुष्कर सिंह धामी सरकार 56 Seats History Pushkar Singh Dhami 2022 देहरादून भाजपा ने आगामी विधानसभा चुनाव 2022 के मद्देनजर पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र को लेकर कसरत शुरू कर दी है। इस सिलसिले में पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक की अध्यक्षता में गठित चुनाव घोषणा पत्र समिति की मंगलवार को हुई बैठक में विमर्श किया गया। सूत्रों के अनुसार इस अवसर पर तय किया गया कि विभिन्न विषयों को घोषणा पत्र में शामिल करने के सिलसिले में जिलों से भी फीडबैक लिया जाएगा। उत्तराखंड में बीजेपी सरकार ने 2017 के विधानसभा चुनाव में 56 सीट जीत कर इतिहास बनाया था जिसको बरक़रार रखने की कसरत पुष्कर सिंह धामी सरकार कर रही है

विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर कसरत तेज होने के बाद उत्तराखंड में चुनाव में दावेदारी वाले नेता अपना टिकट पक्का किये जाने को लेकर नेताओं की चरण वन्दना करने में जुटे हुए है चुनावी जीत के लिए बीजेपी ने अपना प्लान तैयार कर लिया है ज़िलों में मिलने वाले फीडबैक के आधार पर बीजेपी टिकट बटेगी जीत दर्ज़ करने वाले दावेदारो को चुनाव 2022 में सबसे पहले टिकट देने पर मंथन चल रहा है।

विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर बीजेपी में राज्य में राजनैतिक तैयारी को तेज किया है पिछले कई दिनों से उत्तराखंड में बीजेपी नेता चुनावी तैयारी को लेकर जुटे हुए है सत्ता में वापसी के लिए बीजेपी ने हर ज़िले में एक्टिव बीजेपी कार्यकर्ताओं को तैयार कर लिया है चुनाव में जीत का मन्त्र बीजेपी नेता दे रहे है कैसे चुनाव में जीत का परचम उत्तराखंड में लहरा कर सत्ता में सरकार को बचाये रखने के लिए सरकार की योजनाओं को जनता के बीच लेकर जाया जा रहा है।

उत्तराखंड में अगले महीने देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तराखंड में चुनावी शंखनाद करने के लिए तीन दिसम्बर को देहरादून में चुनावी रैली को करने के लिए आ रहे है उत्तराखंड में वो अगले विजन के लिए कई बड़ी घोषणा उत्तराखंड के लिए कर सकते है चुनावी मोड में जाने से पहले उत्तराखंड सरकार के मुखिया का लगातार राज्य में चुनावी दौरा शुरू हो चूका है अपने अभी तक के कार्यकाल में पुष्कर सिंह धामी जनता के बीच पहुंच बना पाने में बीजेपी को राजनैतिक रूप में मजबूत करते हुए देखे जा रहे है।

उत्तराखंड में पुष्कर सिंह धामी को समय सरकार चलाने के लिए अधिक समय नहीं मिल पाया है महज 6 महीने की सरकार के कार्यकाल में वो अगले दस सालो का विजन बनाये जाने में जुटे हुए है युवा सोच के बुते राज्य की जनता के बीच उम्मीद का भरोसा पुष्कर सिंह धामी की सरकार ने बनाया है कई ज़िलों में सरकार का बेहतर काम धरताल पर नज़र आ रहा है पहाड़ी ज़िलों में राज्य सरकार को बेहतर ताल मेल मिलता हुआ नज़र आया है बीजेपी संघठन पर भी जनता के बीच पहुंच बना पाने में सफल होने का दारोमदार है सफलता का कितना होम वर्क बीजेपी राज्य में कर चुकी है इसका भी आकलन किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना सरकार बनी अभिभावक

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना सरकार बनी अभिभावक Mukhmnatri Vatsalya Yojana Uttarakhand देहरादून मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बुधवार को मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत मुख्यमंत्री आवास में महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून की तीन छात्राओं को चेक प्रदान किये। मुख्यमंत्री द्वारा कम्प्यूटर साइंस एवं इंजीनियरिंग की तृतीय वर्ष की छात्रा कु. गरिमा शर्मा को 01 लाख 70 हजार 950 रुपये का चेक प्रदान किया गया। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की चतुर्थ वर्ष की छात्रा कु. अलविना खानम को 56 हजार 100 रुपये का चेक प्रदान किया गया। इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की चतुर्थ वर्ष की छात्रा कु. शिप्रा नेगी को 27 हजार 500 रुपये का चेक प्रदान किया गया।

मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना के तहत इन छात्राओं का 01 मार्च 2020 से 31 मार्च 2022 की अवधि का लिया गया शुल्क महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून द्वारा वापस किया गया है। भविष्य में भी संस्थान द्वारा इन छात्राओं से कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा। राज्य सरकार के प्रयासः ऐसे छात्रों के लिए हुए जो कोविड-19 में अपने अभिभावकों को खोने के बाद अपने को अकेले नहीं समझे मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना शुरू का लाभ उनको देकर सरकार अब उनके अभिभावक के रूप में सामने आई है

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा 02 अगस्त 2021 को कोविड-19 में अपने अभिभावकों को खोने वाले बच्चों के लिए मुख्यमंत्री वात्सल्य योजना शुरू की गई। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना काल में जिन बच्चों ने अपने अभिभावकों को खोया, इस कमी को कभी पूरा नहीं किया जा सकता, लेकिन सरकार का प्रयास है कि इन बच्चों की जो भी मदद हो सकती है, वह राज्य सरकार करेगी। इस अवसर पर अपर मुख्य सचिव श्रीमती राधा रतूड़ी, निदेशक महिला प्रौद्योगिकी संस्थान देहरादून प्रो. आर.पी.एस. गंगवार, एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. अंकुर दुम्का भी मौजूद थे।

पोस्टरबाज पैराशूट कांग्रेसी उम्मीदवारो की चरण वंदना

पोस्टरबाज पैराशूट कांग्रेसी उम्मीदवारो की चरण वंदना Congress Posterbaaj 2022 देहरादून कांग्रेस में 2022 विधानसभा चुनाव को लेकर दावेदारों के कदम ताल देहरादून के कांग्रेस भवन में नज़र आने लगी है सोशल मीडिया में पोस्टरबाज कई नेता भी अपनी राजनैतिक दुकान चलाने के लिए नेताओं की चरण वंदना करते हुए देखे जा रहे है जमीनी हकीकत में भले ही वो चुनाव में जीत दर्ज़ करने का मादा नहीं रखते हो लेकिन नेताओं से मुलाकात के फोटो चर्चे में आकर उनकी विधानसभा में चटकारे लेकर पड़े जा रहे है।

उत्तराखंड में 2022 विधानसभा चुनाव को सबसे अधिक मारामारी टिकट को लेकर देहरादून में स्क्रनिंग कमेटी की बैठक में भी नज़र आई है एक विधानसभा सीट पर कई दावेदार अपनी टिकट पक्की होने का दावा अपने समर्थको से करते हुए नज़र आ रहे है कई दावेदार ऐसे भी जो जमीनी पकड़ विधानसभा में नहीं रखते जबकि वो पैराशूट उम्मीदवार के रूप में जाने जाते है लेकिन वो अपना टिकट पक्का बताकर पोस्टरबाजी में बखूबी नज़र आ रहे है।

2022 विधानसभा चुनाव को देहरादून में उमड़ा उम्मीदवारो का जमावड़ा कांग्रेस में आपसी गुटबाज़ी के रूप में भी साफ तरफ से नज़र आ रहा है अपने अपने पाले में विधानसभा सीट पर अपनी दावेदारी को मजबूत करने के लिए कांग्रेसी उम्मीदवार टिकट के लिए करते हुए देखे जा रहे है सबसे अधिक हरीश रावत कैंप में दावेदारी को लेकर आपसी भीड़ साफ तरह से नज़र आ रही है।

2017 के विधानसभा चुनाव में हरीश रावत को चुनाव हरवाने वाले कई नेता भी टिकट की दौड़ में अपने अपने राजनैतिक आकाओं के दरबार में दस्तक दे रहे है देखना होगा हरीश रावत अपने कितने राजनैतिक विरोधी कांग्रेसी नेताओं के टिकट कटवाना पाने में कामयाब हो पाते है क्योकि उन नेताओं को कांग्रेस के दूसरे नेताओं का समर्थन मिलता हुआ नज़र आ रहा है जो हरीश रावत से राजनैतिक दूरी बनाकर चल रहे है।

विधानसभा चुनाव 2022 में सजाने वाली राजनैतिक बिसात पर हरीश रावत अपने को जननायक घोषित करते हुए सोशल मीडिया पर उनसे जुड़ने की अपील कर चुके है उनके राजनैतिक विरोधी इस मुहीम की हवा निकाले जाने में कामयाब होने की जुगत में जुटे हुए है ऐसा कोई पहली बार नहीं हो रहा जब हरीश रावत अपने को नेता के रूप में तैयार करने के लिए चुनावी मैदान उतर रहे हो।

2017 में वो अपने को बड़ा नेता साबित करने में जुटे थे जिसका नतीजा रहा हरीश रावत को चुनाव में हार का स्वाद चखना पड़ा था आपसी गुटबाज़ी में कांग्रेस के कई नेता चुनाव हार गए थे राज्य में खत्म हो चुकी कांग्रेस को बचाने के लिए कुछ कांग्रेसी नेता लगे रहे लेकिन अब हरीश रावत का वजन बढ़ाये जाने के बाद ऐसे नेता उत्तराखंड में किसी भी कीमत पर हरीश रावत को कांग्रेस का खेवनहार बनाये जाने के पक्ष में नहीं है हालकि हरदा का ग्राफ ऊंचा करने में जुटे कुछ लोग परदे के पीछे से बैटिंग करते हुए भी नज़र आ रहे है ये वही लोग है जो हरीश रावत की सरकार के समय सत्ता का जमकर दखल रखा करते थे बरहाल सोशल मीडिया में पोस्टरबाज कांग्रेसी नेताओं की कांग्रेस भवन में दस्तक नज़र आई है जिसने कांग्रेस भवन को गुलजार कर दिया है।

हरीश रावत की रेल में सवार नहीं होंगे किशोर

हरीश रावत की रेल में सवार नहीं होंगे किशोर Harish Rawat Rail Not Join Kishor 2022 देहरादून उत्तराखंड में कांग्रेस के लीडर हरीश रावत अपने सामने किसी भी नेता का वजूद देखना नहीं चाहते यही वजह है उनके सबसे खास पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्यय ने अपना दुःख सोशल मीडिया के माध्यम से जनता के बीच रखा है चुनावी 2022 की बिसात पर जाने वाली कांग्रेस के लिए आपसी विवाद की आग में किशोर की हवा एक नया गुल खिला सकती है उत्तराखंड में हरीश रावत को उनके राजनैतिक विरोधी स्वयं भू नेता की उपाधि देकर बखान कर चुके है।

किशोर ने हरीश रावत पर बड़ा राजनैतिक हमला करते हुए कहा कैसे उनको सहसपुर से 2017 में चुनाव हरवाने के लिए एक बड़े नेता ने खेल खेला था बीते दिनों हरीश रावत ने सहसपुर विधानसभा में पद यात्रा के माध्यम से एक रैली का आयोजन किया था जिसकी जानकारी किशोर को सोशल मीडिया के माध्यम से मिलने की बात कही थी।

विवाद में अब मामला आगे बड़ा तो हरीश रावत ने भी सोशल मीडिया पर किशोर को बार बार ऐसी बातो को लिखने पर जवाब दिया गया है दोनों नेता 2017 से पहले एक ही थे लेकिन राजनैतिक विवाद को हवा देने का काम हरीश रावत के खास लोगो ने किया जिसकी वजह से दोनों नेता अपना राजनैतिक किला नहीं बचा सके चुनाव में मिली हार का स्वाद चख चुके दोनों नेता अब एक दूसरे पर भड़ास निकाल रहे है।

सोशल मीडिया पर उनकी आपसी लड़ाई साफ तरह से नज़र आ रही है लेकिन खबर है किशोर इस बार कोई नया राजनैतिक धमाका करने की कोशिश में जुटे हुए है। हरीश रावत की 2022 रेल में सवार नहीं होने के लिए किशोर ने अपना ट्रैक बदलते समय के अनुसार चेंज कर लिया है खबर है कांग्रेस में हरीश रावत का जमकर विरोध हो रहा है 2022 में विधानसभा चुनाव की रेल को रोकने के लिए कांग्रेस में एक बड़ी तैयारी शुरू हो चुकी है जिसका परिणाम अभी सामने आना शेष है।

2025 का उत्तराखण्ड मिशन

2025 का उत्तराखण्ड मिशन Uttarakhand 2025 Misson पिथौरागढ़ मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अपेक्षानुसार हमारा लक्ष्य है कि 2025 में हम उत्तराखण्ड को देश का हर क्षेत्र में अग्रणी राज्य बनायेंगे। उन्होंने इस अवसर पर केन्द्रीय रक्षा मंत्री से अनुरोध किया कि पिथौरागढ़ क्षेत्र में पहले बी.आर.ओ. काम करता था, जो यहां से शिफ्ट हो गया, इस बी.आर.ओ. केन्द्र की यहां पर पुनः स्थापना होनी चाहिए। यह सैनिक बहुल एवं सीमांत क्षेत्र है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शहीद सम्मान यात्रा का पहला शुभारम्भ सवाड़ मे किया गया। सवाड़ में केन्द्रीय विद्यालय की लंबे समय से मांग है, उसके लिए सभी औपचारिकताएं पूर्ण कर केन्द्रीय विद्यालय खोलने का प्रस्ताव भारत सरकार को भेजा जायेगा। सवाड़ में स्मारक की देखरेख के लिए कर्मचारियों की व्यवस्था की जायेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पुराने सैनिक स्मारकों के जीर्णोधार एवं जनपद पिथौरागढ़ में नये सैनिक विश्राम गृह के लिए धनराशि तत्काल जारी की जायेगी।

सैनिक कल्याण मंत्री गणेश जोशी ने कहा कि जिस प्रकार सैनिक सीमाओं में रहकर देश की रक्षा करता है तथा देश की रक्षा के लिए अपने प्राणों को न्यौछावर कर देता है, इससे बड़ा बलिदान और कुछ नहीं हो सकता है। यह भूमि वीरों की भूमि है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि उत्तराखण्ड में 5वें धाम के रूप में सैन्यधाम होना चाहिए। देहरादून में भव्य सैन्यधाम बनाया जा रहा है।

केन्द्रीय रक्षा एवं पर्यटन राज्य मंत्री अजय भट्ट ने कहा कि शहीद सम्मान यात्रा वीर सैनिकों के सम्मान को बढ़ाने का कार्य कर रही है। देश की रक्षा के लिए उत्तराखण्ड के जवानों ने हमेशा अपना सर्वस्व अर्पित किया है। यह देवभूमि के साथ ही वीर भूमि भी है।

इस अवसर पर अध्यक्ष जिला पंचायत श्रीमती दीपिका बोहरा, अध्यक्ष नगर पालिका राजेन्द्र रावत, भाजपा प्रदेश कोषाध्यक्ष पुनीत मित्तल, जिलाध्यक्ष भाजपा वीरेन्द्र वल्दिया, जिलाधिकारी डॉ आशीष चौहान, सैनिक, पूर्व सैनिक एवं शहीदों के परिजन मौजूद थे।

शहीदो की वीर भूमि देवभूमि उत्तराखंड

शहीदो की वीर भूमि देवभूमि उत्तराखंड Sahid Veerbhumi Devbhumi Uttarakhand पिथौरागढ़ उनकी यादें आज भी परिवार के लिए अनमोल है सीमा पर शहीद हुए सैनिक परिवारों के लिए केंद्र से लेकर उत्तराखंड सरकार हर संभव मदद कर रही है देवभूमि उत्तराखंड आने पर केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के साथ शहीद के परिजनों से मिलकर हर मदद का भरोसा दिया है राज्य में कारगिल के समय कई सैनिक परिवार इस दुःख को भूल नहीं पाते जिसकी वजह उनके अपने सीमा पर शहीद हुए थे।

पिथौरागढ़ केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह एवं मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शनिवार को मणेगांव तिराहा ,पिथौरागढ़ में कारगिल युद्ध के दौरान शहीद हुए हवलदार कुंदन सिंह खड़ायत की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित कर श्रद्धांजलि दी। केंद्रीय रक्षा मंत्री एवं मुख्यमंत्री ने शहीद के परिवार जनों से मुलाकात कर हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

इस दौरान केंद्रीय रक्षा राज्य मंत्री अजय भट्ट ,सांसद अजय टम्टा, कैबिनेट मंत्री गणेश जोशी ,कैबिनेट मंत्री बिशन सिंह चुफाल ,भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक भी मौजूद थे।

error: Content is protected !!