Google search engine
Thursday, July 7, 2022
Google search engine
Home Blog Page 50

अवैध खनन पर ज़िलों से रिपोर्ट तलब

0

अवैध खनन पर ज़िलों से रिपोर्ट तलब Mining Report Zila Afsar 21 देहरादून उत्तराखंड में अवैध खनन को लेकर राज्य सरकार ने कारवाही किये जाने को लेकर अफसरों को कड़े निर्देश जारी किये है राज्य में बड़े पैमाने पर कई ज़िलों से अवैध खनन किये जाने के मामले सामने आ रहे है उधम सिंह नगर हरिद्वार देहरादून तीन ज़िलों में बड़े पैमाने पर खनन का कारोबार संचालित किया जाता है ऐसे में यही वो ज़िले है जो सबसे अधिक राजस्व उत्तराखंड को उपलब्ध करवाते है चुनावी साल से पहले अब राज्य में अवैध खनन पर बड़ी कारवाही किये जाने का मन बनाया जा चूका है।

मुख्य सचिव डॉ. एस.एस. संधु ने प्रदेश में खनिज के अवैध खनन, परिवहन एवं भंडारण पर प्रभावी अंकुश लगाए जाने हेतु अधिकारियों को कड़े निर्देश दिए हैं। पुलिस महानिदेशक, प्रमुख मुख्य वन संरक्षक, महानिदेशक भूतत्व एवं खनिकर्म इकाई और समस्त जिलाधिकारियों को जारी अपने आदेश में मुख्य सचिव ने खनिजों के अवैध खनन, परिवहन एवं भंडारण की प्रभावी रोकथाम एवं पूर्ण रूप से अंकुश लगाए जाने हेतु पूर्व में जारी आदेश पर की गई कार्रवाई और क्रियान्वयन आख्या अविलंब उपलब्ध कराए जाने हेतु आदेश दिए हैं।

मुख्य सचिव ने कहा कि खनिजों के अवैध खनन, परिवहन एवं भंडारण की प्रभावी रोकथाम एवं पूर्ण रूप से अंकुश लगाया जाए। लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के विरुद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

जननायक मुहीम पर भारी कद्दू छुरी वार

0

जननायक मुहीम पर भारी कद्दू छुरी वार Kaddu Churivaar Jannayak Target 22 देहरादून 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले उत्तराखंड कांग्रेस में गुटबाजी का आलम यह है कि कांग्रेस चौराहे पर लड़ती नजर आ रही है गुटबाजी की आग में घी डलाने का काम पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत अकेले ही अपने दम पर खुद को जननायक साबित करने में जुटे हुए है सोशल मीडिया पर उनकी टीम लगातार हरीश रावत को 2022 का चुनाव उनके नेतृत्व में लड़वाने की पैरवी कर रही है

वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस मेड का बड़ा ग्रुप हरीश रावत को किसी भी कीमत पर 2022 में जन नायक के रूप में पसंद नहीं करते कांग्रेस में गुटबाजी की चरम सीमा को लांघा जा चुका है जिसका नतीजा यह है कि अब हरीश रावत खुद को जन नायक साबित करने में जुटे हुए हैं अगर राजनीतिक समीकरण को देखा जाए तो उत्तराखंड में हरीश रावत ऐसे नेता के रूप में उभरे हैं जो अपने साथ रहने वालों को कभी भी पनपने नहीं देते जिसका जीता जागता उदहारण उत्तराखंड में देखा जा चूका है

रंजीत रावत हो या फिर किशोर उपाध्याय दोनों ही नेताओं को दरकिनार करने में हरीश रावत ने कोई कसर नहीं छोड़ी है यही नहीं राजनैतिक जमीन को बंजर करने के लिए हरीश रावत का बड़ा योगदान दोनों नेता कभी भी नहीं भूल सकते जबकि दोनों नेताओं को हरीश रावत का राइट लेफ्ट कन्धा माना जाता था लेकिन आज वो कीप डिस्टेंस अपनाकर अपनी राजनैतिक पारी को आगे बड़ा रहे है

हरीश रावत से किनारा करते हुए उत्तराखंड में कांग्रेसी नेता उनको नेता नहीं मानते आखिर ऐसी क्या वजह है जो हरीश रावत का साथ कोई भी कांग्रेसी नेता देता हुआ नजर नहीं आ रहा जो उनके सबसे करीबी नेताओं में शुमार रहे हैं उन्होंने ही हरीश रावत से किनारा कर लिया है 2017 के विधानसभा चुनाव में हरीश रावत ने खुद को नेता साबित करते हुए चुनाव की वैतरणी को पार करने में कोशिश की थी लेकिन वह इस कोशिश में विफल साबित हुए

कांग्रेस में उत्तराखंड के ऐसे नेता बहुत अधिक संख्या में मौजूद है जो उत्तराखंड की राजनीती में हरीश रावत से दूरी बनाकर अपनी राजनीती का मिजाज चाहते है जिसका सबसे बड़ा कारण हरीश रावत अपने साथ किसी भी नेता को पनपने नहीं देना चाहते थे अब कांग्रेस में आपसी जो विरोध देखने को मिल रहा है वह सब बताता है कि कांग्रेस में गुटबाजी का यही आलम कांग्रेस को 2022 के मिशन में फतह करने के लिए बड़ी चुनौतियां का सामना करना पड़ेगा

हरीश रावत को उत्तराखंड की राजनीति के सबसे बड़े पद पर उत्तराखंड की सी ऍम कुर्सी पर विराजमान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले रंजीत रावत और किशोर उपाध्याय को अब हरीश रावत पसंद नहीं करते आखिर वह क्या वजह है कि जिन कंधों पर हरीश रावत सबसे अधिक भरोसा किया करते थे वही कंधे हरीश रावत से दूरी बना गए हैं ऐसा इन दोनों नेताओं मैं ही देखने को नहीं मिलता और भी दूसरे कई नेता हैं जिन्होंने हरीश रावत को मजबूती देने का काम तो किया लेकिन हरीश रावत ने उन नेताओं को मजबूत ही नहीं दी

जिन नेताओं की बदौलत हरीश रावत सत्ता की कुर्सी पर विराजमान होने का दम भरते हुए देखे गए थे आज आलम यह है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में जाने से पहले हरीश रावत को इन नेताओं की पसंद में शुमार नहीं किया जाता हरीश रावत भी किशोर उपाध्याय को लेकर लगातार तंज करते रहे हैं बीते दिनों हरीश रावत ने किशोर उपाध्याय को इनडायरेक्टली वे में कद्दू की परिभाषा से परिभाषित किया

हरीश रावत का सोशल मीडिया पर दिया गया वक्तव्य काफी चर्चा में रहा उन्होंने कहा कि कद्दू छुरी पर गिरे या छुरी कद्दू पर कटना दोनों ही दशा में कद्दू को होता है अब इसका क्या अर्थ है जो राजनीति के गलियारों में चर्चा का केंद्र बन गया है इससे पहले भी हरीश रावत सांप और नेवले की लड़ाई का जिक्र कर चुके हैं जिसमें उन्होंने हरक सिंह रावत पर तंज कसा था सोशल मीडिया पर इसकी भी काफी चर्चा रही चर्चाओं में रहने वाले हरीश रावत एक बार फिर से उन खंभों को कमजोर करने की कोशिश करते हुए देखे जा रहे हैं जिन खंभों की बदौलत वह सत्ता की कुर्सी पर विराजमान हुए थे कांग्रेस में यह आलम 2022 के लिए एक अच्छा संकेत तो नहीं कहा जा सकता लेकिन इसका फायदा भारतीय जनता पार्टी को उत्तराखंड में मिलता हुआ जरूर नजर आ रहा है

पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के मुख्यमंत्री की कुर्सी पर विराजमान होने के बाद से ही लगातार राजनैतिक बैटिंग कर रहे हैं वह जनता से जुड़े हुए मुद्दों पर लगातार फैसले ले रहे हैं टी ट्वैंटी मैच की तर्ज पर पुष्कर सिंह धामी लगातार आखिरी ओवर तक राजनीति छक्कों की बरसात के रूप में कई ऐसे फैसले लेते हुए नजर आ सकते हैं जिसका मकसद जनता से जुड़ा हुआ है

ऐसे में स्वाभाविक है कि भारतीय जनता पार्टी के जो फैसले हैं वह जनता को पसंद आ रहे हैं और शायद यही वजह है कि पुष्कर सिंह धामी का कद उत्तराखंड की सियासत में और अधिक बढ़ा है इसे भाजपा के शीर्ष नेतृत्व में भी माना है और युवा मुख्यमंत्री के सहारे भाजपा उत्तराखंड में फिर से फतह करने की तैयारी में जुट गई है 12 साल कांग्रेस की गुटबाजी कहिए आलम कांग्रेस के लिए एक बड़ा खतरे के रूप में सामने है जिसको पार्टनर हरीश रावत के बस की बात नजर नहीं आ रही

किसानो के लिए पुष्कर सरकार का फैसला

किसानो के लिए पुष्कर सरकार का फैसला Farmer Crop Prize Uttarakhand Big News सितारगंज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी द्वारा सोमवार को सितारगंज में लम्बे समय से बन्द पड़ी किसान सहकारी चीनी मिल्स लि0 के पेराई सत्र का विधिवत पटला पूजन व कनवेयर में गन्ना डालकर शुभारम्भ किया गया। साथ ही सरकडा के गन्ना किसान प्रकट सिंह व तरसेम सिंह को शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया। इस अवसर पर उन्होने गन्ने की अगेती प्रजाति का मूल्य 355 रू प्रति कुन्तल तथा सामान्य प्रजाति का मूल्य 345 रू प्रति कुन्तल किये जाने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इस अवसर पर किसानों को बधाई देते हुए कहा कि आज सितारगंज के लिए ऐतिहासिक दिन है। सितारगंज किसान सहकारी चीनी मिल के पेराई सत्र के शुभारम्भ से विकास का नया अध्याय शुरू हो रहा है। भविष्य में इस चीनी मिल से बिजली व एथेनॉल का उत्पादन भी किया जायेगा। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार व केन्द्र सरकार हमेशा किसानों को आधुनिक व सम्पन्न बनाये जाने हेतु कार्यरत है। हम हमेशा किसानो के साथ थे और भविष्य में भी किसानो के साथ खडे रहेंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को उत्तराखण्ड की विशेष चिंता रहती है, जल्द ही उत्तराखण्ड में दूसरा एम्स खुलने जा रहा है ताकि लोगो एम्स की तरह सारी चिकित्सा सुविधाएं मिल सके। उन्होने कहा केन्द्र सरकार के सहयोग से किच्छा से खटीमा रेल लाईन व टनकपुर से बागेश्वर रेल लाईन की मंजूरी मिल गई है साथ ही जमरानी बांध परियोजना भी स्वीकृत हो चुकी है।

उन्होने बताया कि भौगोलिक स्थिति को देखते हुए पहाडी और मैदानी किसानों के लिए अलग-अलग कृषि योजनाएं बनाई जा रही है। प्रदेश सरकार द्वारा हर वर्ग, हर क्षेत्र के लिए योजनाएं बनाई जा रही है। 2025 तक उत्तराखण्ड को देश का सर्वश्रेष्ठ राज्य बनाया जायेगा इसके लिए रोडमैप तैयार किया जा रहा है। अभी तक 400 से अधिक फैसले लिए है, जिनका शासनादेश भी जारी हो चुका है। उन्होने बताया आशा, आंगनबाडी, उपनल, राज्य आंदोलनकारी, ग्राम पंचायत, क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत, भोजन माताओं, पी.आर.डी. जवानों आदि की मांगो पर विचार कर इनका मानदेय बढाया गया। उन्होने कहा जिनकी मांगे छूट गई है, उनको भी शीघ्र पूरा किया जायेगा।

उत्तराखंड में गन्ना किसानो के बढ़ाये दाम

उत्तराखंड में गन्ना किसानो के बढ़ाये दाम Uttarakhand Sugar Farmer Rate Increase सितारगंज उत्तराखंड में पुष्कर सिंह धामी ने गन्ना किसानो को लेकर बड़ा फैसला लेते हुए उत्तर प्रदेश से अधिक गन्ना राशि को बढ़ाये जाने की घोषणा करते हुए बड़ा ऐलान किया है सितारगंज चीनी मिल के अवसर पर बोलते हुए उत्तराखंड के सी ऍम पुष्कर सिंह धामी ने किसानो को बड़ा तोहफा देते हुए बड़ा फैसला लिया है उत्तर प्रदेश में गन्ना किसानो को 350 रूपए प्रति कुंतल की राशि दी जाती है उत्तराखंड सरकार के सी ऍम पुष्कर सिंह धामी ने पांच रूपए अधिक राशि बढ़ाये जाने का फैसला लिया है

एक नयी उम्मीद की किरण के रूप में युवा सी ऍम पुष्कर सिंह धामी राज्य में अगले दस सालो में आदर्श राज्य के रूप में आगे लेकर जा रहे है किसानो के लिए सितारगंज चीनी मिल फिर से शुरू होने के कारण खटीमा, नानकमत्ता, सितारगंज विधानसभा सीट के किसानो को इसका लाभ मिलेगा राज्य के गन्ना किसानो के लिए सरकार का बड़ा फैसला ये बड़ी राहत के रूप में नज़र आता है

विजय बहुगुणा की भविष्यवाणी 22 में सीऍम बनेगे पुष्कर

विजय बहुगुणा की भविष्यवाणी 22 में सीऍम बनेगे पुष्कर Vijay Bhuguna Says 2022 Cm Pushkar Singh Dhami सितारगंज विजय बहुगुणा ने कहा चौथे गैर में चल रही उत्तराखंड सरकार युवा सी ऍम पुष्कर सिंह धामी बखूबी राज्य की सरकार को चला रहे है जनता का भरोसा आशीर्वाद के रूप में आगे भी मिलता रहेगा सितारगंज में चीनी मिल के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे विजय बहुगुणा ने कहा चुनाव आते ही कुछ लोग चार सो रूपए के होर्डिंग लगाकर चुनाव में चले आते है उन्होंने कहा पुष्कर सिंह धामी अगले 22 के विधानसभा चुनाव में फिर से राज्य के सी ऍम बनेगे ये उनकी भविस्यवाणी है।

22 के विधानसभा चुनाव में पुष्कर सिंह धामी जिस गति से विकास को आगे बड़ा रहे है वो जनता के भरोसे पर पूरी तरह सफल साबित हुए है अपने चार महीने के कार्यकाल में अभी तक पुष्कर सिंह धामी ने राजनैतिक मैच में अच्छी बैटिंग करते हुए तीस रन बना लिए है बाकि छक्का 22 के मैच में लगाकर फिर से सत्ता में बीजेपी की सरकार को बनायेगे।

विजय बहुगुणा ने कहा उत्तराखंड में ऐसे नेता भी मौजूद है जो मुंगेरी लाल के सपने देख रहे है वो सी ऍम बन जाने के लिए जो सपना देख रहे है वो कभी भी पूरा नहीं होगा अपनी जमानत बचाने के लिए उनको सोचना पड़ेगा राज्य की जनता फिर से उत्तराखंड में बीजेपी सरकार को देखने के लिए पूरी तरह तैयार है अभी तक सरकार का काम बेहतर तरह से आगे बढ़ रहा है युवा सी ऍम पुष्कर सिंह धामी को देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आश्रीवाद बाबा केदारनाथ धाम में मिल चूका है।

विजय बहुगुणा ने कहा उत्तराखंड में जनता ने हमेशा बीजेपी पर भरोसा कायम किया है अपने अभी तक के कार्यकाल में घोषणा पत्र में किये गए वादों को पूरा कर लिया है डबल इंजन की सरकार अपने वादे पर पूरा काम करते हुए आगे जा रहा है एक नयी उम्मीद की किरण के रूप में युवा सी ऍम पुष्कर सिंह धामी राज्य में अगले दस सालो में आदर्श राज्य के रूप में आगे लेकर जा रहे है किसानो के लिए सितारगंज चीनी मिल फिर से शुरू होने के कारण खटीमा, नानकमत्ता, सितारगंज विधानसभा सीट के किसानो को इसका लाभ मिलेगा

गन्ना किसानों के लिए सहायक सिद्ध होगा चीनी मिल का उद्घाटन

0

गन्ना किसानों के लिए सहायक सिद्ध होगा चीनी मिल का उद्घाटन Sitargunj Sugar Mil Inaugration Cm Pushkar Singh Dhami सितारगंज आज वो समय आ गया है जिसका हम सभी को बेसब्री से इंतजार था। सोमवार को सितारगंज में जो चीनी मिल का उद्घाटन हो रहा है वो निश्चित ही गन्ना किसानों के लिए सहायक सिद्ध होगी ये कहना है मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का वो सितारगंज में चीनी मिल का उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे उत्तराखंड में जनता के बीच एक सेतु के रूप में सरकार ने काम किया है जो लगातार जारी है।

उत्तराखंड में सरकार जनता के विस्वास को आगे बढ़ाने का काम कर रही है जो भरोसा सरकार पर यहाँ की जनता के 2017 के विधानसभा चुनाव में जताया था उत्तराखंड की भाजपा सरकार उसपर पूरी तरह से खरा उतरा रही है जनसेवक के रूप में मुझे काम करने का अवसर मिला है उसको पूरी ईमानदारी से किया जा रहा है गन्ना किसानो को लेकर उत्तराखंड की बीजेपी सरकार ने हर वो पहल की है जिसकी उम्मीद सरकार से किसानो ने की थी।

22 के विधानसभा चुनाव में उत्तराखंड की जनता का भरोसा कायम रखने के लिए आगामी विजन को तय किया जा चूका है राज्य को अगले दस वर्षो के लिए तैयार होने वाले मिशन और विजन पर काम किया जा रहा है जनसेवक के रूप में उत्तराखंड की देवतुल्य जनता का आशीर्वाद बना रहेगा ऐसा भरोसा जनता की उम्मीद से आगे बढ़ाने का काम किया जा रहा है हमारी सरकार हर वर्ग के लिए काम कर रही है यही भरोसा आगे भी बना रहे इसके लिए हमारी कोशिश लगातार जारी रहेगी।

22 की राजनैतिक पिच पर बैटिंग से पहले कप्तान करेंगे बदलाव

22 की राजनैतिक पिच पर बैटिंग से पहले कप्तान करेंगे बदलाव Cm 2022 Bating Poltics News देहरादून उत्तराखंड सियासत में देवस्थानम बोर्ड 22 की राजनैतिक पिच पर बड़ा मुद्दा बनता हुआ नज़र आ रहा है भाजपा की सरकार के मुखिया रहे त्रिवेंद्र सिंह रावत का फैसला लिए जाने के बाद से लगातार विरोध अभी भी जारी है फैसले को लेकर उत्तराखंड के तीर्थ पुरोहित दो कैंप में बाटे हुए नज़र आते है एक कैंप को हवा देने का काम कांग्रेस कर रही है तो एक कैंप बीजेपी के पक्ष में खड़ा हुआ नज़र आता है ये मुद्दा 22 से पहले खत्म किये जाने के संकेत मिलते हुए नज़र आ रहे है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से रविवार सायं को ऋषिकेश में देवस्थानम बोर्ड के सम्बन्ध में गठित उच्च स्तरीय समित के अध्यक्ष मनोहर कान्त ध्यानी ने भेंट की। उन्होंने बोर्ड के सम्बन्ध में समिति द्वारा तैयार किया गया अन्तिम प्रतिवेदन आधिकारिक रूप से मुख्यमंत्री को सौंपा। मुख्यमंत्री ने कहा कि समिति द्वारा प्रस्तुत प्रतिवेदन का परीक्षण कर शीघ्र निर्णय लिया जायेगा। इस अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, सुबोध उनियाल, सचिव एच.एस.सेमवाल उपस्थित थे।

उत्तराखंड की सियासत में पुष्कर सिंह धामी को 22 की राजनैतिक पिच पर बैटिंग के लिए उतरना है युवा सी ऍम हर वर्ग को साथ में लेकर अभी तक चल रहे है यही वजह है राजनैतिक समीकरण जुलाई के बाद बीजेपी के पक्ष में जाता हुआ नज़र आ रहा है जनता की कसौटी पर उम्मीद की किरण पुष्कर सिंह धामी से राज्य की जनता और बीजेपी हाई कमान को नज़र आने लगी है।

विधानसभा चुनाव 22 में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को ओवर कॉन्फिडेंस फीडबैक को नजरअंदाज किये जाने की जरुरत नहीं है इसके पीछे उधम सिंह नगर की चार विधानसभा सीट पर बीजेपी विधायकों की तस्वीर राजनैतिक पिच 22 में अच्छी नज़र नहीं आती चुकी पुष्कर सिंह धामी को पाने ज़िले में राजनैतिक मजबूती से 22 में रिजल्ट देना है ऐसे में यहाँ पर सिटिंग बीजेपी विधायकों का टिकट कटा जाना तय है।

चार विधानसभा सीट में से कई जगह पर युवा सोच वाले नेताओं का आभाव नज़र आ रहा है ऐसे में यहाँ पर अपना राजनैतिक भगवा लहरा पाने के लिए एक नयी कोशिश को परवान चढ़ा पाने के लिए समय का आभाव भी बड़ा कारण नज़र आता है बरहाल पुष्कर सिंह धामी अपने ज़िले में राजनैतिक रूप से 2017 की विधानसभा सीटों जिसमे आठ सीट पर जीत का परचम लहरा कर बीजेपी ने रिकॉर्ड बनाया था उसको बरक़रार रखे जाने के लिए अपने कुनबे में पोलटिक्स का मिजाज बदले जाने की जरुरत है।

पुष्कर सिंह धामी बनायेगे इतिहास

0

पुष्कर सिंह धामी बनायेगे इतिहास Cm Pushkar Singh Dhami History 21 देहरादून 2022 विधानसभा चुनाव से पहले देवस्थानम बोर्ड को लेकर उत्तराखंड सरकार बड़ा फैसला ले सकती है इस बात के संकेत राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मीडिया को दिए हैं शनिवार को उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी देहरादून में आयोजित एक कार्यक्रम में मीडिया से बात कर रहे थे मीडिया के सवालों का जवाब देते हुए राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखंड सरकार देवस्थानम बोर्ड को लेकर समिति की रिपोर्ट का अध्ययन कर रही है।

बीते 2 दिन पहले ही देवस्थानम बोर्ड को लेकर बनाई गई समिति के अध्यक्ष मनोहर कांत ध्यानी की अध्यक्षता वाली समिति ने अपनी रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंपी है राज्य सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट का अध्ययन कर रही है और जल्द ही जनहित और तीर्थ पुरोहितों के हक हकूक को लेकर उत्तराखंड सरकार बेहतर विकल्प के तौर पर रास्ता तलाशने की दिशा में आगे जाएगी।

आपको बता दें उत्तराखंड की सियासत में देवस्थानम बोर्ड को लेकर लगातार पंडे पुजारी विरोध करते रहे हैं उत्तराखंड सरकार देवस्थानम बोर्ड को लेकर बेहद संजीदा है वह जनहित के इस फैसले को लेकर किसी का भी अहित नहीं करना चाहती और शायद यही वजह है कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इस बेहद गंभीर मसले को सुलझाने की दिशा में आगे बढ़ रहे हैं उत्तराखंड सरकार सौंपी गई रिपोर्ट का अध्ययन कर रही है और उसके रास्ते को तलाशने में जुटी हुई है जो सबके लिए सर्वमान्य फैसला बन सके।

देवस्थानम बोर्ड को भंग करने की मांग लगातार तीर्थ पुरोहित उठाते रहे हैं यहां तक कि कांग्रेसी भी इस मुद्दे को सरकार में आने के बाद तुरंत भंग करने की बात कह चुकी है विधानसभा चुनाव 2022 में जाने से पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी इस मसले को निपटाना चाहते हैं और कोई बड़ी बात नहीं देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उत्तराखंड आगमन से पहले उत्तराखंड सरकार इस फैसले पर कोई बड़ा फैसला ले सकती है।

हालांकि इस अध्ययन रिपोर्ट को कैबिनेट के सामने प्रस्तुत किया जाएगा और उसी आधार पर राज्य सरकार बड़ा फैसला लेने की तरफ अपना कदम आगे बढ़ाएगी सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार संकेत मिल रहे हैं कि उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी देवस्थानम बोर्ड को लेकर बड़ा फैसला जनहित में लेते हुए नजर आ सकते है पिछले दिनों से लगातार ये फैसला लेने से पहले वो इसका पूरा अध्ययन कर रहे है ताकि जनहित का फैसला लेने से पहले कोई कमी नहीं रहे। इस मामले को लेकर लगातार सियासत की पिक्चर को पुष्कर सरकार खत्म करेगी।

सीऍम की अपील दो गज दूरी मास्क है जरुरी

सीऍम की अपील दो गज दूरी मास्क है जरुरी Cm Covid Apeel Do Gaj Duri Mask Hai Jaruri देहरादून मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कोरोना के नए वैरिएंट के दृष्टिगत प्रदेश वासियों से अपील की है कि कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर का पूरा पालन करें। कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए राज्य में पूरा जन सहयोग मिला है। राज्य सरकार द्वारा कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए सभी तैयारियां की गई है। उन्होंने लोगों से अपील की है कि जिन लोगों का अभी दूसरा टीका नहीं लगा है, समय होते ही टीकाकरण करा लें। मास्क का उपयोग जरूर करें एवं एक दूसरे से उचित दूरी बनाए रखें।

मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव, डीजीपी एवं सचिव स्वास्थ्य को कोरोना के नए वैरिएंट की दृष्टिगत कोविड एप्रोप्रियेट बिहेवियर का पालन सुनिश्चित कराने एवं सभी आवश्यक व्यवस्थाएं कराने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने सचिव स्वास्थ्य को निर्देश दिए कि यह सुनिश्चित किया जाय कि कोविड पर प्रभावी नियंत्रण के लिए अस्पतालों में सभी व्यवस्थाएं हो।

उत्तराखंड के देहरादून में FRI में एक साथ 11 आईएफएस अफसरों के कोरोना सक्रमित पाए जाने के बाद लगातार देहरादून में दो जगह पर कैंटोमेंट जोन को बनाया जा चूका है बाज़ारो में बिना मास्क का उपयोग करने वालो से अपील की जा रही है वो सामजिक दुरी का पालन मास्क लगाकर करे। उत्तराखंड के देहरादून में लगातार तेजी से सावधानी पूर्वक अपील करते हुए प्रयास तेज कर दिए गए है देहरादून में कई जगह पर अभी भी बाजारों में मास्क का उपयोग नहीं किया जा रहा है जिस पर सामजिक जागरूकता की जरुरत है।

राइजिंग उत्तराखण्ड जुबिन के साथ बेडू पाको बारामास

0

राइजिंग उत्तराखण्ड जुबिन के साथ बेडू पाको बारामास Raising Uttarakhand Jubin Notiyal Bedu Pako मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी शुक्रवार को देर सांय जीएमएस रोड स्थित वेडिंग प्वाईंट में आयोजित राइजिंग उत्तराखण्ड कार्यक्रम में शामिल हुए। मुख्यमंत्री ने गायक जुबिन नौटियाल को सम्मानित करते हुए उन्हें पूरे उत्तराखण्ड की शान बताया। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर जुबिन के साथ बेडू पाको बारामास लोक गीत भी गाया।

इस अवसर पर आयोजित संवाद कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि वे प्राण प्रण से प्रदेश की जनता की भलाई तथा प्रदेश के समग्र विकास के लिये कार्य कर रहे हैं। मुख्य सेवक के रूप में अपने दायित्वों का निर्वहन करते हुए राज्य हित में उनके द्वारा 400 से अधिक घोषणाये की हैं तथा उनके क्रियान्वयन से सम्बन्धित शासनादेश एवं आवश्यक धनराशि भी जारी की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य स्थापना के दो दशक के बाद अब उत्तराखण्ड युवा राज्य बन चुका है। पिछले दो दशकों में राज्य के विकास के लिये सतत् प्रयत्न किये गये हैं, जिनका असर धरातल पर दिखाई भी दे रहा है। इन दशकों में राज्य के विकास का आधारभूत ढ़ांचा बनाने के लिये भी कई पहलुओं पर प्रयोग हुए हैं। प्रदेश के सर्वागीण विकास के लिये एक दूरगामी योजना बनाने के लिये समाज के विभिन्न वर्ग के लोगों एवं विषय विशेषज्ञों को सहयोगी बनाने का हमारा प्रयास है। इसके लिये आत्मनिर्भर उत्तराखण्ड बोधिसत्व विचार श्रृंखला के माध्यम से राज्य के सर्वागीण विकास की रूपरेखा के निर्धारण में विभिन्न क्षेत्रों के विषय विशेषज्ञों एवं प्रबुद्धजनों को सहयोगी बनाये जाने का हमारा प्रयास है। इसके लिये इस विचार श्रृंखला की शुरूआत की गई है।

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि उत्तराखण्ड को 2025 तक सभी क्षेत्रों में अग्रणी राज्य बनाने के लिए हम सबको मिलकर प्रयास करने होंगे। विभिन्न क्षेत्रों से जुड़े महानुभावों के जो भी सुझाव प्राप्त होंगे, उनको ध्यान में रखते हुए आगे के लिए रोडमैप तैयार किया जायेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के मार्गदर्शन एवं केन्द्र सरकार के सहयोग से राज्य में ऐसे बहुत से काम हुए हैं, जो पहले नामुमकिन लग रहे थे।

पिछले साढ़े चार वर्षों में केन्द्र सरकार द्वारा करीब एक लाख करोड़ रूपये से अधिक की विभिन्न परियोजनाएं प्रदेश के लिये स्वीकृत हुई है। जिनमें से बहुत सी योजनाएं पूर्ण हो चुकी है और अन्य पर कार्य चल रहा है। हम पहाड़ में रेल का सपना देखते थे। मोदी जी ने इस सपने को साकार किया है। आज ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल परियोजना तथा सामरिक दृष्टि एवं भौगोलिक दृष्टि से महत्वपूर्ण टनकपुर-बागेश्वर रेल परियोजना पर तेजी से काम हो रहा है। इसी प्रकार चार धाम ऑल वेदर रोड, भारत माला प्रोजेक्ट पर भी तीव्र गति से काम किया जा रहा है। चार धाम यात्रा उत्तराखण्ड के लिए लाइफ लाईन है और ये परियोजनाएं जहां चारधाम यात्रा को सुगम बनाएंगी, पर्यटन को बढ़ावा देगी वहीं हमारी अर्थव्यवस्था में क्रांतिकारी परिवर्तन भी लाएगी।

error: Content is protected !!