यमनोत्री धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद

0
72

यमनोत्री चारधाम यात्रा के प्रथम तीर्थ यमुनोत्री धाम मंदिर के कपाट शुकरवार दोपहर 12.15 पर बंद कर दिए गए।कपट बंद होने के बाद अब खरसाली गांव में शीतकाल के अगले छह माह तक श्रद्धालु इसी मंदिर में मां यमुना के दर्शन एवं पूजा-अर्चना कर सकेंगे। इस बार मंदिर में अधिक संख्या में धार्मिक लोगो की संख्या देखी गई यही नहीं चार धाम यात्रा में आये लोगो की संख्या भी सभी धामों में अधिक रही है
सुबह 9 बजे मां यमुना के चचेरे भाई शनि देव (समेश्वर देवता) की डोली खरसाली गांव से यमुनोत्री धाम के लिए रवाना हुई, जहां यमुनोत्री धाम में विशेष पूजा अर्चना कर दोपहर 12.15 बजे मंदिर के कपाट बंद कर दिए गए।

इसके बाद मां यमुना व शनि देव की डोलियों को भव्य शोभायात्रा के साथ खरसाली गांव लाया जाएगा, जहां नवनिर्मित मंदिर में मां यमुना की उत्सव मूर्ति को स्थापित किया जाएगा। शीतकाल के अगले छह माह तक श्रद्धालु इसी मंदिर में मां यमुना के दर्शन एवं पूजा-अर्चना कर सकेंगे।

उत्तराखंड में चार धाम यात्रा का प्रथम यमनोत्री धाम इस बार अधिक संख्या आने से गुलज़ार रहा है यही वजह है यहाँ पर कारोबार करने वाले कारोबारी भी इस बार संख्या अधिक होने से खुश नज़र आये है दीपावली के बाद भैया दूज के दिन अब शीतकाल के अगले छह माह तक खरसाली गॉव में श्रद्धालु इसी मंदिर में मां यमुना के दर्शन एवं पूजा-अर्चना कर सकेंगे।अब अगले साल वर्ष 2019 की अप्रेल माह में धाम खुलेंगे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments