क्यों रोये उत्तराखंड के मुख्यमंत्री हरीश रावत

0
335

उत्रराखंड में जहा बरसात ने लोगो को मौत की नींद सुला दिया है ऎसे में प्रदेश के मुख्यमंत्री भी अपनी आखो को नम होने से नहीं रोक पाये पिथौरागढ़ में आपदा पीड़ितों का दर्द देख मुख्‍यमंत्री हरीश रावत भी रो पड़े। उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि सरकार जल्द से जल्द उनके पुनर्वास की व्यवस्था करेगी।

 

पिथौरागढ़, [युगल पांडेय ] : मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बीते रोज आपदा पीड़ितों के कैंप में पहुंचकर उनका दर्द बांटा। अपना सबकुछ गंवा चुके लोगों की पीड़ा सुन सीएम खुद को रोक नहीं पाए और उनकी आंखें भर आईं।

 

उन्होंने लोगों को आश्वस्त किया कि सरकार जल्द से जल्द उनके पुनर्वास की व्यवस्था करेगी। उन्होंने डीएम को सात दिन के भीतर प्रभावितों को नुकसान के मुताबिक मुआवजा देने का आदेश दिया। इसके साथ ही आपदा में हताहत कर्मचारियों के आश्रितों को नौकरी देने का आदेश दिया।

 

 

सीएम ने पीड़ितों से कहा कि जब तक उनके पुनर्वास की व्यवस्था नहीं हो जाती तब तक वे किराये के मकान में रह सकते हैं। किराये का इंतजाम सरकार करेगी। उन्होंने डीएम को निर्देश दिया कि वह पीड़ितों को एक माह का किराया एडवांस दे दें। इसके साथ ही ग्रामीणों के पशुओं के लिए राहत कैंप के पास ही टिन शेड का निर्माण कराने को भी कहा।

 

 

 

सीएम ने पीड़ितों से कहा कि आपदा में जान गंवा चुके लोगों की भरपाई तो वह नहीं कर सकते, लेकिन किन सरकार उनके पुनर्वास में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। कैंप में पीड़ितों से मिलने के बाद सीएम कार से आपदा प्रभावित गांव बस्तड़ी पहुंचे। वहां पहुंचने के लिए मुख्यमंत्री को करीब डेढ़ किलोमीटर लंबा फिसलन भरा रास्ता भी पैदल तय करना पड़ा। इस दौरान वे कई बार ईश्वर से उत्तराखंड के गांवों को सुरक्षित रखने की प्रार्थना भी करते रहे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments