जल संचय को लेकर मुख्यमंत्री ने किया नया आगाज़

0
163

जल संचय को लेकर मुख्यमंत्री ने किया नया आगाज़

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश में जल संचय के प्रति सत्त जन जागरूकता पर बल दिया है। उन्होंने कहा कि भविष्य में पानी की कमी को दूर करने के लिये वाॅटर हार्वेस्टिंग के साथ ही वाॅटर कारपस की दिशा में भी हमें सोचना होगा।
बुधवार को सचिवालय में राज्य योजना आयोग द्वारा उत्तराखण्ड में वर्षा जल संचयन ओर भूजल पुनर्भरण हेतु दिशा निर्देश पुस्तिका का विमोचन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि जल बहुमूल्य प्राकृतिक संसाधन है। जिसका प्रबंधन तथा उपयोग बेहतर तरीके से किया जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि हमारे प्राकृतिक जल स्त्रोत का प्रवाह बना रहे, इस दिशा में भी हमें सोचना होगा। इसके लिये वर्षा जल संग्रहण पर ध्यान देना होगा। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण के प्रति उनका चिन्तन रहा है। इस दिशा में वे वर्ष 2022 में जल चेतना यात्रा का भी संचालन कर चुके है। उन्होंने कहा कि पानी की कमी को दूर करने के लिये राज्य सरकार द्वारा भी प्रयास किये जा रहे है। सूर्यधार झील, सौंग व जमरानी जैसे बांधों पर ध्यान दिया जा रहा है। इससे देहरादून, हल्द्वानी को ग्रेविटी का पानी उपलब्ध होगा तथा भूजल का स्तर भी बना रहेगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें अपनी सोच में परिवर्तन कर अपनी दैनिक जल की आवश्यकताओं की आंशिक पूर्ति के लिये वर्षा जल संचयन एवं उपयोग की तकनीक अपनाने पर ध्यान देना होगा तथा अपने प्राकृतिक जल संसाधनों का भी पुनर्भरण की दिशा में सोचना होगा। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि सभी शहरों और ग्रामीण क्षेत्रों में इस पुस्तिका का व्यापक प्रसार होगा जिससे लोग अपने घर के आंगन, मकान की छतों में वर्षा जल संचयन, भण्डारण एवं उपयोग की रीति के क्रियान्वयन को अपना सकें।
इस अवसर पर सलाहकार राज्य योजना आयोग एच.पी.उनियाल ने उत्तराखण्ड में जल संचय से संबंधित प्रस्तुतीकरण प्रस्तुत किया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव मनीषा पंवार, सचिव डाॅ.भूपेन्द्र कौर औलख, अमित नेगी, आर.मीनाक्षी सुन्दरम, राधिका झा, अरविन्द सिंह ह्यांकी, डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments