विपक्ष ने की पीएम से बयान देने की मांग

0
288

विपक्ष ने की पीएम से बयान देने की मांग

नई दिल्लीसंसद में आज नोटबंदी के मुद्दे पर हुए हंगामे के चलते राज्‍यसभा को 11:30 बजे तक के लिए स्‍थगित कर दिया गया है। रेल मंत्री सुरेश प्रभु आज दोनों सदनों ट्रेन हादसे पर अपना बयान देंगे।
संसद में आज फिर से नोटबंदी के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को घेरने की कोशिश की। इस मुद्दे पर हंगामे के चलते राज्यसभा कुछ देर के बाद ही 11:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। वहीं लोकसभा में भी इस मुद्दे पर जबरदस्त हंगामा हुआ। एक ओर जहां विपक्ष इस मसले पर प्रधानमंत्री से जवाब देने की मांग कर रहा था वहीं सरकार की तरफ से जेटली का आरोप था कि विपक्ष चर्चा से भाग रहा है। सरकार की तरफ से कुछ मंत्री विपक्ष को शांति से बैठने और चर्चा को आगे बढ़ाने की अपील करते भी सुने गए।
शुक्रवार को इस मुद्दे पर हुए हो-हल्ले के बाद लोकसभा और राज्यसभा को सोमवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया था। इसके अलावा संसद में आज रविवार तड़के हुए कानपुर ट्रेन हादसे की भी गूंज सुनाई दे सकती है। इस हादसे में अब तक 133 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 200 से अधिक लोग घायल हैं। इस हादसे पर आज ही रेल मंत्री सुरेश प्रभु दोनों सदनों में अपना बयान देंगे।

रणनीति बनाने को विपक्ष ने की बैठक

सदन में आज रणनीति के मद्देनजर विपक्ष ने एक बैठक भी की है, जिसमें राज्यसभा और लोकसभा के सांसदों ने हिस्सा लिया है। इस बैठक में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी समेत अन्य भी शामिल हुए हैं। इस बैठक में फैसला किया गया है कि सरकार के नोटबंदी के फैसले के खिलाफ विपक्ष बुधवार को संसद भवन में स्थित गांधी मूर्ति के पास धरना देकर अपना विरोध जताएगा। वहीं पीएम मोदी ने इस भी संसद शुरू होने से पहले एक बैठक की है। इस बैठक में कई वरिष्ठ मंत्रियों ने हिस्सा लिया है।
नोटबंदी पर चर्चा के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद के एक बयान के बाद सरकार की तरफ से उनसे माफी मांगने की मांंग की जा रही है। जिसको लेकर सरकार और विपक्ष के बीच गतिरोध लगातार कायम है। वहीं सरकार ने साफ कर दिया है कि इस फैसले को किसी भी सूरत से वापस नहीं लिया जाएगा।
दरअसल आजाद ने शुक्रवार को कहा था कि जितने लोग नोटबंदी के दौरान लाइन में लगने से मारे गए हैं, उससे आधे ही लोग उड़ी में आतंकी हमले के दौरान मारे गए थे। उनके इस बयान पर सरकार की तरफ से गहरी नाराजगी जताई गई थी और उनपर पाकिस्तान का साथ देने का आरोप तक लगाया गया था। सरकार की तरफ से केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने आजाद के इस बयान पर आपत्ति जताते हुए इसको देश की गरिमा के खिलाफ बताया था और उनसे तुरंत माफी मांगने की भी अपील की थी, जिसे कांग्रेस ने ठुकरा दिया था। इसके बाद लोकसभा में लगातार शोर हाेेता रहा जिसके बाद सदन की कार्रवाई पहले शुक्रवार और फिर साेमवार तक के लिए स्थगित कर दी गई थी।
आज एक बार फिर से इस मुद्दे पर विपक्ष और सरकार के बीच गरमागर्मी हो सकती है। गौरतलब है कि 16 नवंबर को संसद के शीतकालीन सत्र की शुरुआत नोटबंदी के साए में हुई थी। विपक्ष लगातार इस फैसले को लेकर सरकार पर आरोप लगा रहा है। हालांकि इस मुद्दे पर विपक्ष की मांग को मानते हुए सरकार ने इस मुद्दे पर चर्चा की बात स्वीकार कर ली थी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments