उत्तराखंड उत्तरी भारत की सबसे बड़ी जलशक्ति बनेगा

0
444

उत्तराखंड उत्तरी भारत की सबसे बड़ी जलशक्ति बनेगा 

UTTRAKHAND UTTARI BHARAT BIG WATAR POWER

देहरादून मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि उत्तराखंड में गन्ना किसानों को अन्य राज्यों की तुलना में बेहतर मूल्य दिया जा रहा है। साथ ही किसानों की समस्याओं को काफी हद तक दूर किया जा चुका है।
बीजापुर हाउस में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष किशोर उपाध्याय के नेतृत्व में प्रदेश किसान कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल से भेंट के दौरान मुख्यमंत्री ने यह बात कही। इस मौके पर प्रतिनिधिमंडल ने किसानों से संबंधित विभिन्न बिंदुओं की ओर मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट किया।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि राज्य में किसान आयोग का गठन किया गया है। उत्तराखंड में खेती में एडहोक एप्रोच से काम नहीं चल सकता है। इसके लिए एक नीतिगत दस्तावेज बनाना होगा। पिछले दो वर्षों में कृषि, बागवानी, पशुपालन आदि में बहुत सी शुरूआतें की गई हैं। वर्ष 2017 तक सभी किसानों को साॅयल हेल्थ कार्ड उपलब्ध करवा दिए जाएंगे। किसानों के बिजली सरचार्ज माफ किए गए हैं। गन्ने का सबसे बेहतरीन मूल्य राज्य में दिया जा रहा है। पिछले वर्ष का गन्ना बकाया भुगतान कर दिया गया है। इस वर्ष का भी गन्ना बकाया का भुगतान लगभग 80 प्रतिशत तक किया जा चुका है। चीनी मिलों में उपउत्पाद के तौर पर बिजली बनाई जाएगी और इसके बायबैक की व्यवस्था भी की जाएगी। गन्ने में बीज बदल का कार्यक्रम भी किया गया है। प्रति हेक्टेयर उत्पादन में बढ़ोतरी हुई है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि पर्वतीय क्षेत्रों में पारम्परिक फसलों पर उत्पादन बोनस भी दिया जा रहा है। मंडुवा, झंगोरा आदि की मांग भी सृजित की गई है। खेती को जंगली जानवरों से बचाने के लिए कई निर्णय लेते हुए काम प्रारम्भ किया गया है। जल संरक्षण व जल संचयन के लिए चालखाल व जलाशयों का निर्माण व पुनरूद्धार किया जा रहा है। अगले पांच वर्षों में उत्तराखंड उत्तरी भारत की सबसे बड़ी जलशक्ति होगा। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि किसानों के हित में राज्य सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों का व्यापक प्रचारप्रसार किसानों के बीच किए जाने की आवश्यकता है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments