उत्तराखंड में आफत की बारिश सरकार पहुची ग्राउंड जीरो पर

0
337

[7/1, 1:39 PM] narayan pargain: मानसून के आते ही उत्तराखंड में आफतों का दौर भी शुरू हो गया। आज भारी बारिश से सूबे में आठ लोगों की मौत हो गई, जबकि 33 लोग लापता हो गए। पिथौरागढ़ में बारिश कहर बनकर बरसी। डीडीहाट में मलबे में दबने से छह लोगों की मौत हो गई, जबकि 25 लोग अभी भी मलबे में दबे हुए हैं। राहत और बचाव कार्य जारी है। वहीं, चमोली में बादल फटने से दो लोगों की मौत हो गई, जबकि आठ लोग लापता बताए जा रहे है। वहीं, अपुष्ट सूत्रों के अनुसार सूबे में 17 लोगों की मौत हो गई है। हालांकि, प्रशासन सिर्फ आठ लोगों की मरने की बात कह रहा है। चमोली जनपद में बादल फटने के बाद अलकनंदा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।

पिथौरागढ़ में आफत की बारिश

आज सुबह पिथौरागढ़ जिले के डीडीहाट और थल तहसील क्षेत्र में बादल फटे। इससे सबसे ज्यादा नुकसान बस्तड़ी क्षेत्र में हुआ। यहां पहाड़ी से आए मलबे में कई लोग दब गए। सूचना पर आपदा प्रबंधन टीम, पुलिस-प्रशासन और सेना के जवान मौके पर पहुंचे और राहत बचाव कार्य शुरू किया। पुलिस ने मलबे से अब तक छह शवों को निकाला है, जबकि अभी 25 लोगों के मलबे में दबे होने की आशंका है। गंभीर हालत में दो लोगों को अस्पताल लाया गया। जिले में संचार सेवा ठप हो गई है। ओगला-सिंगाली-भागिचौरा मार्ग दो स्थानों पर 30-40 मीटर बह चूका है।

 

टोपराधार दाफिला में दो माकन ध्वस्त होने से तीन जानवर मलबे में दबकर मर गए। थल और मुवानी के बीच मार्ग में मलबा आने से मार्ग बंद हो गया है। वहीं, थल-डीडीहाट-अस्कोट मार्ग भी मलबे से पट चूका है। जौलजीबी से बरम के बीच खन्पैरा के पास नाले के उफान में आने से 2 पुल बह गये है। सिंचाईगूल और ग्रिफ का डिपो भी गोरी नदी की भेंट चढ़ चूका है। पुरे जिले में संचार सेवा ठप है।

 

 

ऋषिकेश-बद्रीनाथ मार्ग पर तोता घाटी के समीप राजमार्ग पर चट्टान आ गिरी। इससे प्रातः चार बजे से राजमार्ग बंद है। फिलहाल चट्टान को हटाने का काम जारी है। प्रभारी थानाध्यक्ष देवप्रयाग हीरामणि पोखरिया ने बताया कि क्षेत्र में रात से ही भारी बारिश जरी है, जिससे तोताघाटी के समीप प्रातः 4:00 बजे मार्ग अवरुद्ध हो गया था। जेसीबी की मदद से मार्ग को खोने का काम जारी है, फिलहाल मार्ग बंद होने से दोनों ओर लंबा जाम लग गया है।

मुख्यमंत्री हरीश रावत ने पिथौरागढ़ और चमोली जिले में गत दिवस से हो रही भारी वर्षा व भूस्खलन से मृत लोगों के प्रति गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने इस घटना में मृत लोगों के परिजनों को दो-दो लाख रुपये की राहत राशि देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि यह दुःखद घटना है। प्रभावितों के साथ राज्य सरकार खड़ी है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि जिलाधिकारियों को निर्देश दिये गये है कि घायलों को त्वरित उपचार उपलब्ध कराया जाय, साथ ही अनुमन्य राहत राशि भी शीघ्र उपलब्ध करायी जाय। मुख्यमंत्री श्री रावत ने संबंधित जिलाधिकारियों को राहत एवं बचाव कार्यों में तेजी लाने के निर्देश दिये है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने दोनो मण्डलों के आयुक्तों को निर्देश दिये है कि वे प्रभावित क्षेत्रों में कैम्प कर राहत एवं बचाव कार्यों का अनुश्रवण करें। घायलों को बेहतर चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराने के साथ ही प्रभावितों को मुआवजा संबंधी कार्यवाही भी तत्काल शुरू की जाय। इन क्षेत्रों में एस.डी.आर.एफ. को तत्काल रवाना कर दिया जाए, जो राहत एवं बचाव कार्यों में जिला प्रशासन को सहयोग करेगा। इसके साथ ही प्रभावितों की सहायता के लिए हैलीकैप्टर भी उपलब्ध कराये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिये है कि जनपदों में दैवीय आपदा की घटनाओं की जानकारी मुख्य सचिव को निरंरत उपलब्ध कराये। प्रभावित क्षेत्रों में खाद्यान्न सामग्री की पूरी व्यवस्था की जाय। बंद रास्तों को तत्परता से खोला जाय। बाधित बिजली, पानी की सुविधाएं यथाशीघ्र बहाल की जाए। मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि नदियों के किनारे निवास करने वाले लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जाय।

 

राज्य आपातकालीन परिचालन केन्द्र से प्राप्त सूचना (पूर्वाह्न 11 बजे तक की सूचना) के अनुसार जनपद पिथौरागढ़ से प्राप्त सूचना के अनुसार देर रात्रि तहसील थल, धारचूला, डीडीहाट, गंगोलीहाट, पिथौरागढ़ कनालीछीना बेरीनाग, बंगापानी दवेथल एवं गणाईगंगोली में वर्षा एवं भूस्खलन होने की सूचना प्राप्त हुई है। जिसमें नौलड़ागांव/नाचनी, तहसील थल में कुल 160 परिवार प्रभावित हुए है, जबकि 03 लोगो की मृत्यु हुई है। जिला प्रशासन द्वारा एन.डी.आर.एफ. अल्मोड़ा, एस.डी.आर.एफ., एस.एस.बी., आई.टी.बी.पी., आसाम रेजिमेंट चर्मा व खोज एवं बचाव दल घटना स्थल के लिए रवाना कर दिया गया है। जनपद चमोली से प्राप्त सूचना के अनुसार जाखणीगांव तहसील घाट के पास भूस्खलन होने की सूचना प्राप्त हुई, जिसमें 02 लोगो की मृत्यु की सूचना है, जबकि 04 लोग लापता है। जनपद उत्तरकाशी में ऋषिकेश-गंगोत्री राष्ट्रीय राजमार्ग गंगोत्री तक छोटे-बडे वाहनों के लिये खुला हुआ है। ऋषिकेश-यमुनोत्री राजमार्ग जानकीचट्टी तक छोटे-बडे वाहनों के लिए खुला हुआ है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments