उत्तराखंड निकायों के सीमांकन देखे पूरी लिस्ट

0
377

उत्तराखंड में शहरी आबादी सात फीसद बड़ी, निकायों के सीमांकन देखे पूरी लिस्ट Uttarakhand Municipal Bodies in Area Increased

देहरादून उत्तराखंड में निकाय चुनावो से पहले राज्य सरकार ने कई जगह पर निकाय परिसीमन को बड़ा कर आबादी को निकाय में मिला दिया है उत्तराखंड में निकाय चुनाव २०१८ में होने प्रस्तावित है ऐसे में निकाय चुनावो में परिसीमन को लेकर जनता को फायदा मूलभूत आबादी सात फीसद बढ़ जाएगी। भविष्य में अन्य निकायों की सीमा में भी इजाफा किया जाएगा। अगले नगर निकाय चुनाव में नए विस्तारित क्षेत्र भी शामिल होंगे। निकायों के विस्तारित क्षेत्रों में जन सुविधाओं के लिए केंद्रीय योजनाओं का अधिक फायदा मिलेगा। साथ ही नए बनने वाले वार्डों को विकास के लिए अधिक धनराशि उपलब्ध होगी। उन्होंने बताया कि उत्तराखंड आवास नीति के तहत अगले पांच सालों में गरीबों को एक लाख आवास मुहैया कराने की कार्ययोजना को मंजूरी मिल गई है। इस कार्ययोजना को निजी भागीदारी से पूरा किया जाएगा।

उत्तराखंड के तीन नगर निगमों समेत 35 नगर निकायों की सीमा में इजाफा होगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत मंत्रिमंडल ने इस अहम फैसले पर मुहर लगा दी। इससे प्रदेश में शहरी आबादी सात फीसद बढ़ जाएगी।वहीं 2022 तक गरीब व कमजोर वर्गों को एक लाख आवास मुहैया कराने के लक्ष्य पर आगे बढ़ते हुए उत्तराखंड आवास नीति को मंजूरी दी गई है। निजी क्षेत्र की मदद से बनने वाले आवासों को राज्य सरकार प्रति आवास छह लाख रुपये की दर से खरीदेगी, जबकि आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों को प्रति परिवार साढ़े तीन लाख रुपये पर आवास मुहैया कराया जाएगा।

राज्य खाद्य योजना के 11 लाख परिवारों को सरकारी सस्ते गल्ले की दुकानों पर चक्कर काटने से निजात रहेगी। आगामी एक नवंबर से इन परिवारों के बैंक खाते में खाद्यान्न सब्सिडी पहुंचेगी। इसीतरह अंत्योदय परिवारों को भी चीनी की सब्सिडी उनके खाते में मुहैया कराई जाएगी। उक्त फैसले के साथ ही मंत्रिमंडल ने ऊर्जा के तीन निगमों को सातवां वेतनमान देने पर मुहर लगा दी। सचिवालय में मंत्रिमंडल की बैठक में आम जनता, कर्मचारियों और किसानों के हित में अहम फैसले लिए गए। फैसलों को ब्रीफ करते हुए सरकार के प्रवक्ता व काबीना मंत्री मदन कौशिक ने बताया कि राज्य के तीन नगर निगमों, 22 नगर पालिकाओं और 10 नगर पंचायतों की सीमा बढ़ाने का निर्णय लिया गया है।

योजना में भागीदार निजी क्षेत्र को सरकार की ओर से रियायतें दी जाएंगी। राज्यभर में आवासहीन कमजोर वर्गों का चिह्नीकरण सर्वे नगर निकायों के जरिए कराया गया था। इस सर्वे के आधार पर ही निकायवार कमजोर वर्गों के लिए आवासों का निर्माण किया जाएगा।इस योजना में भागीदार होने निजी क्षेत्र को बतौर प्रोत्साहन कई रियायतें दी जाएंगी। नई नीति में किफायती आवास के लिए पांच मॉडल तय किए गए हैं।

मंत्रिमंडल ने ऊर्जा निगम, जलविद्युत निगम और पारेषण निगम के कार्मिकों को सातवां वेतनमान देने का फैसला किया। काबीना मंत्री ने कहा कि अन्य निगमों पर आगामी कैबिनेट बैठक में फैसला लिया जाएगा। मंत्रिमंडल ने राज्य के गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले लघु व सीमांत किसानों को एक लाख ऋण मात्र दो फीसद ब्याज दर पर उपलब्ध कराने का निर्णय लिया है। इस योजना को दीनदयाल सहकारिता सहभागिता योजना का नाम दिया गया है।
उत्तराखंड में राज्य सरकार के लिए निकाय चुनाव त्रिवेंद्र रावत के लिए अपनी राजनैतिक मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने के बाद पहला अवसर होगा जिसको लेकर उनकी अग्नि परीक्षा भी सामने आएगी यही वजह है की राज्य सरकार निकाय चुनावो को लेकर जनता के बीच अपना अलग सन्देश देने के लिए कार्य योजना पर काम कर रही है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments