उत्तराखंड का हरदा पहाड़ी भाजपाइयों पर भारी

0
1064

उत्तराखंड का हरदा पहाड़ी भाजपाइयों पर भारी
देहरादून उत्तराखंड में भाजपा की परिवर्तन यात्रायों में केंद्रीय मंत्रियो की चुनावी कदमताल साबित कर रही है की राज्य के मुख्यमंत्री हरीश रावत उत्तराखंड में अपनी राजनैतिक जमीन को मजबूत कर चुके है उत्तराखंड में वर्तमान समय में भाजपा के अंदर आपसी गुटबाज़ी का आलम इस कदर है की कोई भी एक दूसरे को राजनैतिक जमीन तैयार करने नहीं देना चाहता यही कारण उत्तराखंड में भाजपा की हार का कारण बनेगा राजनैतिक पंडितो के अनुसार उत्तराखंड में कांग्रेस सरकार के मुख्यमंत्री हरीश रावत अभी तक अपने विकासः के रोल मॉडल को विकसित करने के अपने राजनैतिक पायदान को आसानी से कवर करते नज़र आ रहे है जब की भाजपा राज्य में हरीश रावत के खिलाफ आवाज़ जनता के बीच बुलंद कर रही है हरीश रावत का जितना विरोध राज्य में भाजपा नेता कर रहे है उस से भाजपा को फायदा होने के बाजए नुकसान होता नज़र आ रहा है उत्तराखंड की कई विधानसभा सीट २०१७ के चुनावी समर में उलझ गयी है हरीश रावत के राजनैतिक चक्रवियूह में उत्तराखंड भाजपा से लेकर सभी केन्द्रिये नेता तक फॅस चुके है इसी लिए भाजपा अब उत्तराखंड में एक बार फिर कांग्रेस की कमजोर कड़ी को अपने कुनबे में शामिल किये जाने के लिए प्लान तैयार कर रही है उत्तराखंड में वर्तमान समय में राजनैतिक चुनावी समीकरण अगर बदल जाये ये फिर पाला बदल की राजनीती का जन्म हो तो कोई नयी बात नहीं होगी उत्तराखंड की राजनीती को लेकर सिर्फ यही कहा जा रहा है की अगर भाजपा हारी तो अपनों से हारेगी और कांग्रेस हारी तो वो भी अपनों से हारेगी इस का मतलब ये हुआ की भाजपा और कांग्रेस दोनों ही राजनैतिक दलों में अभी भी कही न कही कुछ पक जरूर रहा है कुल मिलकर उत्तराखंड में हरीश रावत का तराजू भाजपा से भारी नज़र आ रहा है उत्तराखंड में कांग्रेस की मजबूत पकड़ को लेकर जब कांग्रेस के मीडिया चेयरमैन राजीव महृषि से बात की गयी तो उन्होंने कहा की राज्य में कांग्रेस सत्ता में फिर से आएगी और भाजपा को उत्तराखंड की जनता कभी भी सत्ता का सुख प्रदान नहीं करेगी क्यों राज्य के विकासः को प्रभवित करने के लिए भाजपा में मार्च माह में जो कुछ किया उसका बदला जनता लेने के लिए तैयार हो गयी है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments