उत्तराखंड में ११ की मौत दर्जनों लापता अधिकारी जुटे राहत बचाव में

0
431

उत्तराखंड में ११ की मौत दर्जनों लापता अधिकारी जुटे राहत बचाव में
देहरादून राज्य में गुरूवार-शुक्रवार की रात्रि में हुई अतिवृष्टि के कारण 11 व्यक्तियों की मृत्यु और 17 व्यक्तियों के लापता होने की सूचना है। खोज बचाव राहत कार्य हेतु एस0डी0आर0एफ0, एन0डी0आर0एफ0, एस0एस0बी0 एवं आई0टी0बी0पी0, खोज एवं बचाव दल डी0एम0एम0सी0 एवं पुलिस फोर्स तथा राजस्व की विभाग की टीम द्वारा प्रभावित स्थलों में राहत बचाव का कार्य किया जा रहा है। घटना स्थल पर जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक सहित अन्य जनपदीय अधिकारी राहत एवं बचाव कार्योें का पर्यवेक्षण कर रहे है। 01 जुलाई, 2016 को समय प्रातः लगभग 1.00 बजे राज्य में हुयी अतिवृष्टि से विभिन्न स्थानों पर क्षति की सूचना प्राप्त हुयी है, जिनमें जनपद पिथौरागढ़ के डीडीहाट एवं थल तहसील में अत्यधिक वर्षा से त्वरित बाढ़ व मलवा आने की घटनायें हुयी हैं। ग्राम सिगांली, दाफीला, बस्तड़ी एवं नौलड़ा क्षेत्र में अत्यधिक वर्षा से वर्तमान तक लगभग 12 परिवारों के प्रभावित होने के साथ ही नौलड़ा गांव में 02, बस्तड़ी में 05, चर्मा में 01 मानव हानि हुई। उक्त अनुसार कुल 08 मानव हानि, 02 व्यक्ति घायल एवं 11 व्यक्तियों के लापता होने की सूचना है। 03 गम्भीर घायलों को उपचार के लिए हैलीकाप्टर से पिथौरागढ़ लाया गया है। 3 घायलों को आई0टी0बी0पी0 द्वारा मिर्थी चिकित्सालय में लाया गया है। साथ ही जनपद पिथौरागढ़ से 12 भवन आंशिक एवं 04 भवन पूर्ण क्षतिग्रस्त होने की सूचना प्राप्त हुई है।
आपदा प्रभावितों के लिए अस्थायी आवास के लिए टैन्टों व खाद्यान्न सामग्री उपलब्ध करवायी जा रही है। पिथौरागढ़ में जौलजीबी व बरम के बीच खनपेरा के पास नाले में उफान आने से 02 पुल एवं ग्रैफ का डिपो भी बह जाने की सूचना प्राप्त हुई हैै।जनपद में राष्ट्रीय राजमार्ग एंव ग्रामीण मोटर मार्ग भूस्खलन से अवरूद्ध है। कनालीछीना-अस्कोट-धारचूला राष्ट्रीय राजमार्ग कई स्थानों पर टूटने से अवरूद्ध है।थल-मुनस्यारी मार्ग भूस्खलन एवं मलवा आने से अवरूद्ध है। जनपद में अनेक ग्रामीण मोटर मार्ग अवरूद्ध है। मार्ग को खोलने हेतु बी0आर0ओ0 एवं जे.सी.बी. द्वारा मार्ग को खोलने का कार्य किया जा रहा है। जनपद पिथौरागढ़ में जिला प्रशासन द्वारा कार्य का विवरण निम्नवत् है।
जनपद चमोली-
01 जुलाई, 2016 को समय प्रातः तहसील घाट एवं तहसील चमोली के ग्राम सिरजी, जाखण़ी, वादुक, गौली में अतिवृष्टि/भूस्खलन से 03 मानव हानि (2 सिरजी (सैंजी) व 1 वादुक गांव) एवं 06 लापता, 25 पशुहानि, 02 भवनों के क्षतिग्रस्त एवं 05 गौशालाओं के क्षतिग्रस्त होने की सूचना प्राप्त हुई है। खोज बचाव राहत कार्य किया जा रहा है। ऋषिकेश-बद्रीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग क्षेत्रपाल, परथादीप, मैठाणा एवं बाजपुर (कुहेड़) के पास मलवा आने से अवरूद्ध है। लो0नि0वि0 एवं ग्रैफ द्वारा राजमार्ग को खोलने का कार्य किया जा रहा है।
मौसम विभाग द्वारा प्रदेश में अगले 2-3 दिनों में प्रदेश में भारी से बहुत भारी वर्षा की संभावना बताई गयी है किन्तु अगले 72 घंटों में कुछ स्थानों पर भारी वर्षा की भी चेतावनी दी गयी है। अतः राज्य में सभी नागरिकों से सतर्क रहने का अनुरोध किया जा रहा है तथा सभी जिलाधिकारियों को नदी के आस-पास संवेदनशील क्षेत्रों की बसावटों में एनाउन्समेट के साथ-साथ सुरक्षित स्थानों पर शिफ्ट करने के निर्देश दिये गये है।
मौसम विभाग से प्राप्त जानकारी के अनुसार प्रदेश के मैदानी क्षेत्रों में विषेशरूप से भारी वर्षा के सम्भावना व्यक्त की गई है, अतः मैदानी क्षेत्रों में संवेदशील क्षेत्रों बसावटों को सुरक्षित स्थान पर ले जाने राहत बचाव दलों को सर्तक रहने तथा पानी वाले स्थानों पर आवाजाही बन्द रखने तथा स्कूलों को बन्द रखने के निर्देश आपदा प्रबन्धन विभाग द्वारा जारी किये गये है। ये सभी जानकारी राज्य के सुचना विभाग ने उपलब्ध कारवाही है जिस के आधार पर इस समाचार को प्रकशित किया गया है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments