UTTAR PRADESH POLICE ARRESTS SI IN ROBBERY CASE: खाकी वाले लुटेरे, खाकी की गिरफ्त

0
385

UTTAR PRADESH POLICE  ARRESTS SI IN ROBBERY CASE: खाकी वाले लुटेरे,खाकी की गिरफ्त
गाजियाबाद : जब रक्षक ही भक्षक बन जाये तब क्या होगा उत्तर प्रदेश पुलिस में तैनात पुलिस वालो ने कुछ ऐसा ही कारनामा अंजाम दिया जिसको लेकर पूरा पुलिस महकमा बदनाम हो गया है मामले का पता चल जाने के बाद दोनों के खिलाफ कारवाही करते हुए उनकी गिरफ़्तारी कर ली गयी है मिली जानकारी के अनुसार गाजियाबाद साहिबाबाद थाना इलाके में गत 18 मार्च की रात मुंबई की यूनियन चेंस एंड ज्वेलर्स प्राइवेट लिमिटेड के दो मार्केंटिंग एजेंटों से करीब तीन करोड़ रुपये के सोने के गहनों की लूट के मामले का पुलिस ने पर्दाफाश किया है।

खाकी वाले लुटेरे

एडीजी जोन मेरठ प्रशांत कुमार का दावा है कि लूट को अंजाम दिल्ली पुलिस में कार्यरत दो एएसआइ ने मेरठ के सराफ कारोबारी के यहां काम करने वालों की मुखबिरी के बाद दिया था। घटना का पर्दाफाश कर पुलिस ने मेरठ तिराहे से बुधवार रात बुलंदशहर के जहांगीराबाद निवासी एवं दिल्ली के गाजीपुर थाने में तैनात एएसआइ सतेंद्र, गुलावठी निवासी एवं दिल्ली के कल्याणपुरी थाने में तैनात एएसआइ ब्रह्मपाल सिंह, दिल्ली के स्वरूपनगर निवासी रवि कश्यप उर्फ पहलवान उर्फ दुर्गा प्रसाद और कन्नौज के सोरिख थाना इलाके में रहने वाले शैलेंद्र यादव को गिरफ्तार किया है। आरोपितों से लूटे गए 8.948 किलो सोने में से छह किलो सोना और घटना में प्रयुक्त दिल्ली के सरिता विहार से चोरी जेन कार बरामद की है।एडीजी ने आरोपियों को गिरफ्तार करने वाली टीम के लिए 50 हजार रुपये के पुरस्कार व डीजी के प्रशंसा चिह्न की संस्तुति की।

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया कि मार्केटिंग एजेंट रोहित जैन व किशन 18 मार्च को मेरठ गए थे। यहां उन्होंने आनंद ज्वेलर्स समेत कई ज्वेलर्स से सामान खरीदा। आनंद ज्वेलर्स पर तैनात शैलेंद्र सतेंद्र और ब्रह्मपाल के साथ मिलकर पूर्व में कई करा चुका है। शैलेंद्र ने दोनों को सूचना दी। मेरठ से रोहित चले ही थे कि पहलवान इनका पीछा करने लगा और एक-एक मिनट की अपडेट सतेंद्र को देने लगा। इसी बीच सतेंद्र व ब्रह्मपाल वर्दी पहनकर चोरी की जेन कार में सतेंद्र के भाई रवि और ब्रह्मपाल के साला विकास के साथ आए। रेलवे स्टेशन कट के पास इन्हें रोका, चेकिंग के बहाने सतेंद्र रोहित के चालक को हटा गाड़ी चलाने लगा। बॉर्डर के पास करनगेट चौकी क्षेत्र में दोनों एजेंट को गन प्वाइंट पर लेकर ज्वेलरी लेकर फरार हो गए।एडीजी ने बताया कि इतनी बड़ी लूट आरोपितों ने इसलिए बॉर्डर पर की ताकि लूट के बाद तुरंत फरार हो सकें। लूट के बाद छह किलो सोना हर्ष विहार में दोनों के घरों में रखवा दिया, जबकि रवि और विकास बाकी सोना लेकर फरार हो गए। एडीजी ने बताया कि इस मामले की रिपोर्ट दिल्ली पुलिस को सौंपी जाएगी।

पेशेवर लुटेरे हैं दोनों एएसआइ 

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि दिल्ली पुलिस में तैनात सतेंद्र और ब्रह्मपाल 50 साल से अधिक उम्र के हैं और पूर्व में सस्पेंड भी हो चुके हैं। सतेंद्र के खिलाफ हत्या के प्रयास और आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज है। दोनों शैलेंद्र से 12 साल से जुड़े हुए हैं। 10 साल पहले दिल्ली में आरोपितों ने बस से सराफ को चेकिंग के नाम पर लाखों की ज्वेलरी लूटी थी। इस मामले को लेकर दोनों के खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस से लिखित शिकायत मिलने के बाद बर्खास्तगी की कार्रवाई भी शुरू कर दी जाएगी। एएसआइ सतेंद्र पिछले तीन सालों से पूर्वी जिले में लाइन में तैनात है। बताया जाता है कि उसे दिल की बीमारी है और उसका ऑपरेशन भी हो चुका है। बीमारी की वजह से ही उसे गाजीपुर थाने से हटाकर लाइन में रखा गया है। वहीं दूसरा आरोपित एएसआइ ब्रह्मपाल पूर्वी जिले के गाजीपुर थाने में एक साल से तैनात है। ब्रह्मपाल करीब एक माह से बीमारी का बहाना बनाकर छुट्टी पर चल रहा था।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments