यूपीएससी में नंबर-1 जब अपना दिल नंबर-2 वाले को दे बैठी

0
426

UPSC NO ONE TEENA LOVE UPSC NUMBER TWO IAS : यूपीएससी में नंबर-1 जब अपना दिल नंबर-2 वाले को दे बैठी


देहरादून/ मंसूरी 2015 में आईएएस टॉप करने वाली टीना डाबी और सेकेंड टॉपर अतहर आमिर खान जब एक दूसरे से मिले तो एक होकर रह गए। उत्तराखंड की खूबसूरत वादियों में दोनों का प्रेम और भी गहरा होता चला गया। फिर क्या था दोनों ने प्यार को एक नाम दिया और एक दूजे का हाथ थाम लिया। हाल ही में दोनों आईएएस टॉपर्स ने अपने प्यार पर शादी की मुहर लगा दी। इनका उत्तराखंड से एक गहरा नाता है, जहां दोनों मिले और एक दूसरे के होकर रह गए। प्रेम कहानी का उत्तराखंड से क्या और कैसे रिश्ता रहा जानते है मंसूरी में बिताए वो पल जिनको भूल पाना दोनों के लिए किसी इतिहास से कम नहीं  दोनों ने जम्मू कश्मीर में शादी कर ली है जिसका दिल्ली में रेसप्शन दिया गया था जिसमे कई राजनैतिक से लेकर दूसरी हस्तिया शामिल थी

सबसे पहले यहाँ हुई मुलाकात

आईएएस की परीक्षा में सफल होने के बाद पहली बार दोनों दिल्ली के नार्थ ब्लॉक में पर्सनल और ट्रेनिंग विभाग के सम्मान समारोह में मिले थे। आमिर को पहली नजर में ही टीना से प्यार हो गया। लेकिन दोनों एक दूसरे से प्यार का इजहार नहीं कर पाए। फिर मसूरी के लाल बहादूर शास्त्री प्रशासनिक अकादमी में मिले। बस यहीं से दोनों के बीच प्यार बढ़ता गया और इतना गहरा हो गया कि दोनों एक दूजे के हो गए। कई जगह पर मंसूरी में बिताए हुए उनके दिनों को आज भी दोनों याद करते है दोनों मंसूरी में आगामी समय में भी आने का अपना मन बना रहे है

यूपीएससी में नंबर-1 जब अपना दिल नंबर-2 वाले को दे बैठी
मसूरी की खूबसूरत वादियों में प्रशासनिक दांव-पेंच की पढ़ाई के दौरान टीना और अतहर आमिर के नैन लड़ते रहे। टीना डाबी ने खुद कहा था कि यूपीएससी में नंबर-1 आई और अपना दिल नंबर-2 वाले अतहर आमिर उल साफी खान को दे बैठीं। साल 2016 में अपने फेसबुक अकाउंट पर टीना से अपने और आमिर के रिश्ते को दुनिया को बताया। टीना हिंदू हैं और आमिर मुस्लिम इसी वजह से दोनों के इस रिश्ते को कई हिंदू संगठनों ने ‘लव जिहाद’ का नाम दिया। टीना डाबी राजस्थान कैडर ऑफिसर हैं और इनकी पोस्टिंग अजमेर में है।

मंसूरी में ट्रेनिंग के समय दोनों का प्यार परवान चढ़ चूका था करीब तीन सालो तक दोनों लिव इन रिलेशन शिप में रहे जिसके बाद टीना ने अपने रिश्ते को सोशल मीडिया के माध्यम से उजागर किया था उस समय उनके परिवार को इस शादी को न किये जाने को लेकर कई हिन्दू वादी संघठन ने लव जिहाद का नाम देकर काफी बदनाम भी किया था लेकिन दोनों परिवारों पर इसका कोई असर नहीं हुआ और अब दोनों शादी के बंधन में बंध कर अपना जीवन जी रहे है
इस प्रेम कहानी का जितना विरोध हुआ था उतना ही एक सन्देश देने का काम भी किया गया है की अगर प्यार पर भरोसा कायम है तो उसको कोई दीवार नहीं रोक सकती समाज के लिए भी ऐसे उन लोगो को इस शादी से सीख लिए जाने की जरुरत है जो आज भी सामाजिक सरोकारों से इतर जा रहे है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments