उमेश जे कुमार ऐसे हुआ शिकार

0
340

देहरादून। उत्तराखंड में स्टिंग कांड के बाद पुलिस की पकड़ में आए उमेश जे कुमार का पुलिस रिमांड कई ऐसे राज जिनसे पर्दा हटाएगा जो अब तक की उसकी कहानी का राज ही रहा उसके ये राज या तो उसके वो करीबी जानते है या फिर ये राज आज तक उमेश जे कुमार के पास ही मौजूद है लेकिन अब जल्द ही ऐसे कई राज बे पर्दा किये जाने के लिए पुलिस का रिमांड समय वैसे तो न काफी है लेकिन देखना होगा क्या पुलिस इतने काम समय में उमेश जे कुमार से वो राज हासिल कर पायेगी जिसकी पुलिस को तलाश है।

ये खबर भी पढ़े :उमेश के कुमार का सुरक्षा कवच

उत्तराखंड में स्टिंग कांड के आरोप सामने आने के बाद उस समय हलचल मच गयी थी जब उमेश जे कुमार के लिए उनके ही न्यूज़ चैनल में काम करने वाला आयुष गोड़ ने पुलिस को शिकायत दर्ज़ करवा कर अपनी जान का खतरा बताते हुए मुकदमा दर्ज़ करवाया था जिसके बाद पुलिस ने कारवाही करते हुए उमेश जे कुमार की गिरफ़्तारी उसके गाज़ियाबाद घर से की थी जिसके बाद से लगातार उसकी जानकारी लेने के लिए पुलिस कई ऐसे राज पता करना चाह रही थी जिसको लेकर पुलिस ने कोर्ट से पांच दिन का रिमांड माँगा था लेकिन कोर्ट ने पुलिस को सिर्फ कुछ समय ही जिसमे सात घंटे का समय दिया गया है इतने कम समय में देहरादून के कई जगह पर सिर्फ जानकारी और जरुरीं सबूतो को हासिल किया जाना संभव नहीं।

समाचार प्लस के उमेश जे कुमार की गिरफ़्तारी के बाद एक बात तो तय हो गयी है उसको लेकर कई बीजेपी ,कांग्रेस नेताओं का हो खास रहा जिनके करीबी संबध होने का फायदा उठा कर उसके द्वारा अपना इतना बड़ा साम्राज्य कैसे बना लिया इसकी चर्चा भी इन दिनों देखी जा रही है जिसमे वर्ष 2012 बीजेपी के वर्तमान प्रदेश अध्यक्ष अजय भट्ट का वो पत्र भी समाने आया है।

ये खबर भी पढ़े :उमेश जे कुमार की पूरी कहानी कब क्या हुआ

जिसमे जन संघर्ष मोर्चा के अध्यक्ष रघुनाथ नेगी ने बुधवार को देहरादून के एक होटल में प्रेस वार्ता करते हुए खुलासा किया है नेगी ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया की बीजेपी की रमेश पोखरियाल निशक सरकार के समय भी उमेश जे कुमार के खिलाफ कारवाही को अंजाम दिया गया था जिसमे उसके खिलाफ लुक आउट नोटिस तक जारी हुआ था रघुनाथ नेगी ने मीडिया को ये भी बताया कई मुकदमे दर्ज़ होने के बाद भी उसके खिलाफ एक मामले में कोर्ट का आदेश होने के बाद भी वो उस समय के कांग्रेस नेता सुबोध उनियाल के साथ मैच देखे जाने के लिए विदेश गया था जबकि क़ानूनी रूप से उसको विदेश ले जाने के लिए इजाजत देना सही नहीं था।

नेगी ने ये भी मीडिया से बात करते हुए बताया की कैसे निशक सरकार के समय उमेश जे कुमार को बीजेपी नेता भगत सिंह कोश्यारी अपने यहाँ पनाह देते रहे,इसके बाद विजय बहुगुणा की सरकार के समय तो उमेश जे कुमार मुख्यमंत्री आवास से लेकर कई जगह पर नज़र आने लगा था उसका दखल बहुगुणा सरकार में इस कदर था जैसे किसी राजनैतिक दवाब में एक राजनेता काम करता हो, यही नहीं नेगी ने ये भी बताया उमेश जे कुमार को पहले ही मोर्चा ने हरीश रावत सरकार के समय स्टिंग तस्कर कहा था जब उसके द्वारा हरीश रावत का स्टिंग किया गया था लेकिन अब बीजेपी सरकार के समय कारवाही करते हुए उमेश जे कुमार के साथ बीजेपी के ऐसे नेताओं पर भी कारवाही की जानी जरुरी है ताकि उत्तराखंड में ऐसे लोगो को बहार का रास्ता दिखाया जा सके जो इस तरह के कामो को अंजाम दे रहे है।

ये खबर भी पढ़े :मुन्ना सिंह चौहान पचास हज़ार रिश्वत लेते गिरफ्तार

बता दे हरीश रावत सरकार के समय उनका स्टिंग किये जाने के बाद उमेश जे कुमार उस समय अधिक चर्चा में आये थे तब बीजेपी ने इस मामले को लेकर स्टिंग कांड के बाद मामला काफी गरम किया था लेकिन आज ऐसा कुछ सामने आया है जिसको लेकर अब बीजेपी इस मामले को लेकर कानून द्वारा अपना काम किये जाने की बात कह रही है लेकिन राजनैतिक पगडण्डी के सहारे अपनी अकूत धन सम्पदा का मालिक बना उमेश जे कुमार आज एक ऐसा नाम बन गया था जिसको अपनी सुरक्षा के लिए वाई श्रेणी की सुरक्षा मिली हुई थी लेकिन अब स्टिंग कांड में फस जाने के बाद उसकी सुरक्षा को हटाए जाने के लिए अधिकारी जल्द कारवाही करेंगे।

कुल मिलकर उमेश जे कुमार अपनी जिस राजनैतिक पकड़ को लेकर वर्तमान सरकार जिसमे त्रिवेंद्र सिंह रावत भी निशाने पर थे उस सरकार को अस्थिर किये जाने के लिए साजिश का गेम प्लान तैयार कर चूका था इसमें भी कोई दो राय नहीं इस काम को अंजाम देने के लिए उसको किसी राजनैतिक सरक्षण मिला हो ऐसी कई बाते है जिनके ऊपर से पर्दा हटाया जाना अभी बाकि है देखना होगा पुलिस आने दिनों में उमेश जे कुमार को लेकर कितनी मजबूती से अपना केस कोर्ट की चौखट पर मजबूत कर पाती है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments