चक्रव्यूह भेद पाने में ऐसे हुए कामयाब उमेश जे कुमार

0
465

देहरादून । उत्तराखंड में स्टिंग कांड को लेकर उमेश जे कुमार मामले पर राज्य सरकार और पुलिस को बड़ा झटका लगा है इस मामले पर दूसरे बनाये गए आरोपियों में प्रवीण साहनी और सौरभ साहनी की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है जिसके बाद ये माना जा रहा है कोर्ट में इस फैसले के बाद पुलिस को अब इस मामले में क़ानूनी आदेश के बाद हथियार डाले जाने को मजबूर होना पड़ेगा जिसके बाद ये मामला अब अपनी राजनैतिक सूरत भी लेता हुआ नज़र आ रहा है वर्तमान में उत्तराखंड निकाय चुनाव चल रहे है ऐसे में राज्य सरकार का पूरा ध्यान इस मामले ने अपनी तरफ कर दिया है जिसके कारण निकाय चुनाव पर भी इस मामले को लेकर प्रभाव पड़ेगा।

देहरादून आईएएस स्टिंग केस में उत्तराखंड सरकार को बड़ा झटका लगा है। नैनीताल हाईकोर्ट ने स्टिंग प्रकरण में प्रवीण साहनी और सौरभ साहनी की गिरफ्तारी पर रोक लगा दी है। शुक्रवार को हाईकोर्ट ने कहा कि प्रदेश से भ्रष्टाचार को खत्म करने के लिए ऐसे स्टिंग की जरूरत है। राजनेताओं और भ्रष्ट अधिकारियों को बेनकाब करने के लिए ये सही कदम है। बृहस्पतिवार को कोर्ट ने इस केस में राहुल भाटिया की गिरफ्तारी पर भी रोक लगा दी थी।

वहीं शुक्रवार को एक अन्य फैसले में हाईकोर्ट ने जमरानी बांध को तीन साल के अंदर बनाने के आदेश भी दे दिए हैं। जमरानी बांध के संबंध में रवि शंकर जोशी की जनहित याचिका पर आज हाईकोर्ट द्वारा आदेश पारित करते हुए याचिका निस्तारित कर दी गई है। कहा कि उत्तराखंड और उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव एक माह के भीतर बांध का प्रस्ताव बनाकर केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय को भेजेंगे। केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय इस प्रपोजल को छह माह के भीतर इसको स्वीकृत करेंगे।

स्टिंग प्रकरण में निजी चैनल के सीईओ उमेश कुमार की गिरफ्तारी के बाद अन्य की तलाश में जुटी पुलिस को बृहस्पतिवार को करारा झटका लगा था। सीएम और अपर मुख्य सचिव के स्टिंग के प्रयास में शामिल दर्शाए गए राहुल भाटिया ने नैनीताल हाईकोर्ट से राहत पाकर पुलिस चक्रव्यूह को भेद दिया। माना जा रहा है कि अन्य आरोपी भी राहत पाने को हाईकोर्ट की शरण ले सकते हैं।

बता दे की उत्तराखण्ड में उमेश जे कुमार के ऊपर उनके ही यहाँ काम करने वाले आयुष गोड़ ने पुलिस को शिकायत दर्ज़ कर मुकदमा दर्ज़ करवाया था जिसके बाद से ही उसको लेकर सवाल उठाये जाने शुरू हो गए थे क्योकि इस मामले के उजागर होने के बाद से ही जिस तरह से पुलिस ने गिरफ़्तारी को अंजाम दिया था उसको लेकर भी राजनैतिक गलियो में इसकी चर्चा शुरू हो गयी थी।

अब देखना होगा, इस मामले पर कब कोर्ट उमेश जे कुमार की गिरफ़्तारी को लेकर याचिका पर अपना फैसला देगा सवाल ये भी आ रहा है जिस स्टिंग को लेकर उमेश जे कुमार पर आरोप लगाए जा रहे क्या वो स्टिंग कभी पब्लिक के सामने आएगा या नहीं जबकि अभी तक सिर्फ पुलिस के पास उसके होने की बात कही जा रही है लेकिन इसका सच तभी सामने आएगा जब उमेश जे कुमार रिहा होकर बहार आएंगे।

स्टिंग मामले को लेकर चक्रव्यूह में फ़से उमेश जे कुमार ने दूसरे लोगो की गिरफ़्तारी को लेकर लगाईगयी रोक से आखिर एक किला भेद पाने में कामयाबी जरुरी मिली है। आज जिस तरह से कोर्ट ने अपनी बात कही है ऐसे में माना जा रहा स्टिंग को दिखाए जाने के लिए अनुमति मांगे जाने के लिए आरोपियो की तरफ से स्टिंग दिखाए जाने को लेकर कहा जा सकता है क्योकि इस मामले को लेकर अब पूरा फैसला कोर्ट पर भी टिका हुआ है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments