त्रिनाथ विश्वाश कहा है देखे, मासूम की मौत लड़की गायब

0
503

त्रिनाथ विश्वाश कहा है देखे,मासूम की मौत,लड़की गायब Treenath Viswash See Where Are Sucide Boys

दिनेशपुर आखो पर काला चश्मा बदन पर सफ़ेद कपडे लेकिन उसके बाद भी विवादों से नाता नहीं छूट पाया विवादित नेता के रूप में अपनी राजनैतिक जमीन को तैयार कर चुके नेता जी इस समय गायब बताये जा रहे है उनके गायब होने की वजह ऐसी है जिसको जानकर उत्तराखंड की भाजपा सरकार के मुखिया से लेकर भाजपा को जनता के बीच जवाब देना मुश्किल हो जाये यशपाल आर्य के करीबी कहे जाने वाले नेता का नाम त्रिनाथ विश्वाश भले ही हो लेकिन उनके कारनामे ने यशपाल आर्य की छवि को भी धूमिल किये जाने का काम किया है।

दिनेशपुर के कालीनगर गांव में एक महिला ने अपने बेटे के साथ घर में फांसी लगाकर आत्महत्या का प्रयास मामले को लेकर अभी तक जिला पंचायत सदस्य मीना और उसका पति त्रिनाथ विश्वाश और कालीनगर निवासी चंपा देवी की बेटी गायब बताई जा रही है मामले को लेकर पुलिस ने मुकदमा दर्ज़ कर जांच शुरू कर दी गयी है जिला पंचायत सदस्य मीना विश्वाश और उनके पति त्रिनाथ विस्वाश को राज्य सरकार में मंत्री यशपाल आर्य का करीबी बताया जाता है।

बीते दिन दिनेशपुर कालीनगर निवासी चंपा देवी सहित उसके बेटे ने विवाद होने के बाद फांसी लगा ली थी जहां चिकित्सकों ने बेटे को मृत घोषित कर दिया था । मां की हालत गंभीर होने पर उसे प्राथमिक उपचार के बाद सुशीला तिवारी चिकित्सालय हल्द्वानी रेफर कर दिया गया था जहा से महिला ने आज थाने में आकर जिला पंचायत सदस्य मीना विश्वाश और उसके पति त्रिनाथ विश्वाश के खिलाफ पुलिस में अपने साथ हुए मामले को लेकर पूरी बात बताई है । घटना के पीछे महिला जिला पंचायत सदस्य मीना विश्वाश और उनके पति त्रिनाथ विस्वाश से विवाद बताया जा रहा है। जिसके बाद चंपा देवी के बेटे ने फांसी लगाकर मौत को गले लगा लिया था।

इस तरह हुआ पूरा क्लाइमेक्स और अब गायब नेता जी

कालीनगर निवासी चंपा देवी पत्नी गिरीश चंद्र मूल रूप से बागेश्वर की रहने वाली है। पति हरियाणा पुलिस में थे। उनकी मौत के बाद चंपा अपने तीनों बच्चों के साथ कालीनगर दिनेशपुर में आकर बस गई। वहां पर चंपा देवी की बहन सहित अन्य परिवार के लोग भी रहते हैं। बुधवार को जो कुछ हुआ उससे कालीनगर दहल गया। शाम को लगभग चार बजे घर में चंपा देवी अपने बेटे मुकेश (19) वर्ष के साथ अकेली थी। बड़ी बेटी और पुत्र किसी काम से बाहर गए थे। इसी बीच अचानक दोनों ने फांसी लगा ली। पहले मुकेश ने फांसी लगाई उसके बाद चंपा देवी ने पहले फिनायल गटका और फिर फांसी लगाने का प्रयास किया। इसकी भनक पड़ोस के लोगों को लग गई। जब वह घर में पहुंचे तो अंदर का माजरा देख उनके होश उड़ गए। आनन-फानन में उन्होंने टेंपो से दोनों को जिला अस्पताल पहुंचाया।

चिकित्सकों ने जांच के उपरांत मुकेश को मृत घोषित कर दिया। वहीं चंपा देवी की हालत लगातार बिगड़ने पर आपातकाल सेवा 108 के माध्यम से हल्द्वानी भेज दिया। घटना के पीछे चंपा देवी की बेटी पर महिला जिला पंचायत सदस्य द्वारा अनर्गल आरोप लगाना बताया जा रहा है। जिसको लेकर चंपा देवी आस पड़ोस के लोगों से मदद मांग रही थी। लेकिन उनके परिवार का मामला होने के कारण किसी ने मदद नहीं की। जिससे आहत होने के बाद चंपा देवी ने बेटे के साथ आत्मघाती कदम उठाने का फैसला कर लिया।

घटना का पता लगने पर अस्पताल पहुंची चंपा देवी की पुत्री ने जमकर हंगामा किया। उसने जिला पंचायत सदस्य पर आरोपों की बौछार कर दी। जिस पर मौके पर पहुंची पुलिस उसको अपने साथ दिनेशपुर थाने ले गई थी । इस मामले को लेकर नगर में अलग अलग तरह की चर्चाओं को पंख लग रहे है कोई इस मामले को लेकर प्रेम प्रसंग बता रहा है वही ऐसी भी चर्चा है की चंपा देवी के परिवार को जिला पंचायत सदस्य मीना विश्वास काफी समय से अनैतिक दवाब में लेकर उनको परेशान कर रही थी
दिनेशपुर में चर्चाओं के अनुसार भड़ास फॉर इंडिया की टीम को मिली जानकारी के अनुसार इस समय गायब युवती और जिला पंचायत सदस्य मीना विश्वाश और उनके पति त्रिनाथ विश्वाश निकाय अध्यक्ष के घर पर छुपे हुए है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments