विद्यालय नहीं रहेंगे प्रधानचार्य विहीनः नैथानी

0
432

विद्यालय नहीं रहेंगे प्रधानचार्य विहीनः नैथानी

देहरादून प्रदेश के विद्यालयी शिक्षा, प्रौढ़ शिक्षा एवं संस्कृत शिक्षा मंत्री, मंत्री प्रसाद नैथानी ने आज विधान सभा स्थित सभा कक्ष में विद्यालयी शिक्षा विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की।
बैठक में उन्होंने शून्य संख्या वाले विद्यालयों की स्थिति पर चर्चा करते हुए कहा कि जिन विद्यालयों में छात्र संख्या शून्य है ऐसे विद्यालयों का सर्वे कर जल्द रिपोर्ट पेश की जाये। साथ ही इन क्षे़त्रों के दो किमी. के दायरे में आने वाले एक ऐसे विद्यालय का चयन किया जाय जिसमें आस-पास के अधिकंाश छात्रों को प्रवेश दिया जा सकेगा। इसके बाद शून्य छात्र संख्या वाले इन विद्यालय भवनों का प्रयोग स्थानीय जनता के हित में करते हुए इनमें आंगनबाड़ी केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या अन्य किसी जनहित में किया जा सकेगा।
निदेशक, माध्यमिक शिक्षा, उत्तराखण्ड द्वारा बताया गया कि अनिवार्य व अनुरोध के आधार पर स्थानान्तरण प्रक्रिया पूर्ण कर ली गयी है, किन्तु नियमावली के नियम 29 (एक) के तहत काफी मात्रा में शिक्षकों द्वारा स्थानान्तरण हेतु अनुरोध किया गया। बैठक में निर्णय लिया गया है कि ऐसे शिक्षक जो अनुरोध के आधार पर स्थानान्तरण की पात्रता रखते हैं, उन्हें अनुरोध के आधार पर स्थानान्तरण करने हेतु नियमावली में उतनी सीमा तक प्रस्ताव किया जाए। शेष विशिष्ठ प्रकार के प्रकरणों पर शासन स्तर पर विचार कर लिया जाए। शिक्षा मंत्री जी द्वारा निर्देश दिये गये कि शिक्षकों की पदोन्नति/नियुक्ति पर प्रक्रिया की समीक्षा कर ली जाए। बैठक में निर्णय लिया गया कि वर्तमान में स्पष्ट रूप से रिक्त पदों पर नवीन नियुक्ति/पदोन्नति पर शिक्षकों की पद स्थापना की जाए। नवीन नियुक्ति हेतु विभागीय स्तर पर भली-भाॅति सत्यापन भी करवा लिया जाए। उन्होंने अधिकारियों निर्देश दिये कि संविदा के आधार पर प्रयोगशाला सहायक एवं कार्यालय सहायक की नियुक्ति तत्काल कर ली जाए। सचिव, विद्यालयी शिक्षा द्वारा उप सचिव को इस संबन्ध में शीघ्र ही शासनादेश जारी करने हेतु प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये गये।
उन्होंने कि वर्तमान में अतिथि शिक्षकों की पदस्थापना होने के उपरान्त स्थानीय जनता में शिक्षण संस्थानों के प्रति विश्वास जागृत हो रहा है। सरकार की प्राथमिकता विद्यालयों में विषय अध्यापक की उपलब्धता सुनिश्चित करना है। अतः विभाग विभागीय स्तर पर परीक्षण कर लें कि प्रत्येक विद्यालय में विषय अध्यापक की तैनाती हो सके। सचिव माध्यमिक शिक्षा द्वारा बताया गया है कि माॅडल स्कूलों के संदर्भ में विभागीय स्तर पर बैठक की जा चुकी है तथा माॅडल स्कूलों को शैक्षिक गुणवत्ता के साथ-साथ आकर्षक एवं तकनीकी सुविधा से युक्त बनाये जाने हेतु कार्य-योजना तैयार की गयी है, जिसे मंत्री जी के संज्ञान में लाया जायेगा। श्री नैथानी जी ने रा0इ0का0 सेलाकुई एवं कन्या इण्टर कालेज हिन्डोलाखाल के नाम परिवर्तन प्रस्ताव प्रस्तुत करने के निर्देश दिये।
निदेशक माध्यमिक शिक्षा ने शिक्षा मंत्री जी को अवगत कराया कि वर्ष 2011 मंे उच्चीकृत 29 हाईस्कूल व 49 इण्टर कालेजों में से 23 विद्यालयों में कक्षायें संचालित नहीं हो रही हैं,
जबकि 26 विद्यालयों में छात्र संख्या कम है, और 29 विद्यालय छात्र संख्या के अनुसार मानक पूर्ण करते हैंै। इस संबन्ध में मंत्री जी ने कहा कि अध्यापकों की व्यवस्था न होने के कारण भी
छात्र संख्या में कमी हुई है। निदेशक माध्यमिक शिक्षा द्वारा बताया गया है कि विद्यालयों में विज्ञान/कामर्स विषय खोले जाने हेतु वित्त विभाग में कार्य गतिमान है। मंत्री जी द्वारा निर्देश दिये गये कि परिषद के साथ विभागीय स्तर पर परिषद के कार्यों की समीक्षा कर ली जाए, विभागीय समीक्षा करने के उपरान्त परिषद कार्यालय में ही माह के अन्त में बैठक प्रस्तावित की ली जाए।
श्री नैथानी ने शहरी क्षेत्रों में वि़द्यालयों में शिक्षकों के रिक्त पड़े पदों का सर्वे कर जल्द भरने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा इन पदों को भरे जाने हेतु स्पष्ट प्रपोजल तैयार कर मानकों के अनुसार इन पदों पर शिक्षकों की नियुक्ति की जाये। शिक्षा मंत्री ने राज्य के समस्त विद्यालयों को प्रिंसिपल उपलब्ध कराने की अपनी महत्वांक्षी योजना को पूरा करने के लिए विद्यालयी शिक्षा सचिव डी सेंथिल पांडियन को शीघ्र आवश्यक प्रक्रियाओं को पूरा कर दिसम्बर अंत तक प्रधानाचार्यो की नियुक्ति प्रारम्भ किये जाने के निर्देश दिये।
शिक्षा मंत्री ने प्रदेश की भौगोलिक परिस्थितियों को दृष्टिगत रखते हुये कहा कि कम से कम 500 विद्यालयों में एन0सी0सी0 खोले जाने हेतु आवश्यक कार्यवाही की जाए। इस संबन्ध में सचिव, मा0 शिक्षा द्वारा बताया गया कि कतिपय विद्यालयों में एन0सी0सी0 खोले जाने हेतु प्रतिक्षा में चल रहे हैं। मा0 मंत्री जी द्वारा निर्देश दिये गये कि एन0सी0सी0 एकेडमी खोलने एवं माध्यमिक विद्यालयों में संचालित किये जाने हेतु शीघ्र ही एन0सी0सी0 के अधिकाकरियों से बैठक प्रस्तावित कर ली जाए। इसी प्रकार स्काउट गाइड/एन0एस0एस0 को विद्यालय स्तर पर बड़ावा दिये जाने के निर्देश अधिकारियों को दिये
बैठक में सचिव विद्यालयी शिक्षा डी.सेंथिल पाण्डियन, अपर सचिव विद्यालयी शिक्षा सुश्री रंजना, संयुक्त सचिव विद्यालयी शिक्षा देवेन्द्र पालीवाल और अपर निदेशक विद्यालयी शिक्षा महावीर सिंह विष्ट सहित विभाग के अन्य अधिकारी मौजूद थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments