देहरादून में आयोजित एग्री एण्ड फूड प्रोसेसर्स काॅन्क्लेव कार्यक्रम

0
197

देहरादून में आयोजित एग्री एण्ड फूड प्रोसेसर्स काॅन्क्लेव कार्यक्रम

देहरादून राज्यपाल डाॅ.कृष्ण कांत पाल ने एसोचैम संस्था की ओर से देहरादून में आयोजित एग्री एण्ड फूड प्रोसेसर्स काॅन्क्लेव में मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि वर्तमान में प्रसंस्करित खाद्य पदार्थाें का प्रचलन बढ़ा है। खाद्य प्रस्संकरण के क्षेत्र में उत्तराखण्ड में अपार सम्भावनाएं हैं यहां फूड प्रोसेसिंग की कईं छोटी-छोटी ईकाईयां लगाई जा सकती है जिनसे गांवों के छोटे कृषक भी अपने उत्पाद समय से इन ईकाईयों में पहुंचा सके।
युवा पीढ़ी के पास समय का अभाव होने के कारण रूझान इन खाद्य पदार्थाें में अधिक देखने को मिलता है। बढ़ती मांग के अनुसार फूड प्रोसेसिंग को बढ़ावा दिये जाने की जरूरत है। राज्यपाल ने कहा कि ये भी आवश्यक है कि बढ़ती मांग के अनुरूप ही प्रसंस्करित पदार्थों की गुणवत्ता भी सुनिश्चित की जाय। विशेष रूप से इस बात को भी ध्यान रखा जाय कि प्रोसेस्ड फूड गुणवत्तायुक्त हो। उनके स्वास्थ्य पर प्रसंस्करित खाद्य पदार्थों का प्रतिकल प्रभाव न पड़े इसलिए गुणवत्ता व मानकों की अनदेखी भी नहीं होनी चाहिए। उत्तराखण्ड राज्य में प्रोसेस्ड फूड इंडस्टीª में अपार सम्भावनाएं हैं। यहां खुबानी, सेब, संतरा, नाशपती, अंगूर, आडू, लीची, आम, अमरूद के फलो को यदि एक गुणवत्तायुक्त तरीके से प्रोसेस्ड किया जाय तो पहाड़ के कृषकों को इसका सीधा लाभ पहुंचेगा। राज्य में पलायन की समस्या को भी रोकने में सफलता मिलेगी। फूड प्रोसेस यूनिट पहाड़ों में लगायें जाय जिससे वहां के युवाओं को रोजगार प्राप्त हो सके। कृषक व युवा कृषि की ओर आकर्षित होंगे। प्रसंस्करण कम्पनियां उचित मुनाफा कृषकों को देगीं तो प्रोसेस्ड सब्जियों को भी प्रचलन में लाया जा सकेगा। राज्यपाल ने कहा कि प्रदेश में एक फूड पार्क हरिद्वार में स्थापित है, दूसरा हल्द्वानी के निकट खुलने जा रहा है इससे उत्तराखण्ड के काश्तकारों को अच्छा लाभ होगा तथा आर्थिकी में सुधार की बहुत सम्भावनाएं बढ़ेंगी।उन्होंने कहा कि कृषि उत्पादों के नुकसान को कम करने के लिए गोदामों और कोल्ड स्टोरेज की खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र के साथ ही परिवहन सुविधा जैसी बुनियादी सुविधाऐं उपलब्ध करायी जानी चाहिए। आपूर्तिकर्ता प्रसंस्करण इकाईंयों के बीच संबंध मजबूत बनाने के लिए बाजारों को गांवों से जोड़ना भी आवश्यक है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments