SUNJWAN ATTACK RAKESH RATURI SHAHID PAKISTAN MURDABAD

0
238

SUNJWAN ATTACK RAKESH RATURI SHAHID PAKISTAN MURDABAD:  पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारो से गूजा शहीद की अंतिम यात्रा का नज़ारा
पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारो से गुज गया शहीद का घर कुछ इसी तरह का नज़ारा उस समय देखे जाने को मिला जब शहीद के घर से उसकी अंतिम शव यात्रा निकल रही थी  जम्मू के सुंजवां में आतंकियों से लोहा लेते हुए देहरादून के शहीद हुए राकेश रतूड़ी के आवास पर बुधवार को देहरादून के शिमला बाईपास बडोवाला स्थित घर से शहीद की अंतिम यात्रा निकली। इसमें जनसैलाब उमड़ पड़ा। राज्य के मुख्यमंत्री सहित कई विधायक और राजनैतिक लोगो ने भी शहीद के घर जाकर परिजनों से मुलाकात कर श्रद्धांजलि दी

इस दौरान पाकिस्तान मुर्दाबाद और भारत सरकार पाकिस्तान को जवाब दो के नारे लगे। लोगों में पाकिस्तान को लेकर भारी रोष दिखा। साथ ही राकेश रतूड़ी अमर रहे, रतूड़ी तेरा ये बलिदान याद रखेगा हिन्दुस्तान जैसे नारे लगे। भारतीय सेना जिंदाबाद के नारों के बीच शहीद का पार्थिव शरीर गाड़ी से हरिद्वार के लिए रवाना हुआ। हरिद्वार के खड़खड़ी घाट पर शहीद का अंतिम संस्कार किया गया ।

जम्मू कश्मीर के सुंजवां में तीन दिन पहले आतंकियों ने हमला किया था। इस दौरान आतंकियों से लोहा लेते हुए हवलदार राकेश रतूड़ी (44 वर्ष) गंभीर रूप से घायल हो गए। जिसके बाद उन्हें उपचार के लिए सेना के अस्पताल ले जाया गया, जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। हवलदार राकेश रतूड़ी मूलरूप से पौड़ी गढ़वाल के पाबौ ब्लॉक की बाली कंडारस्यूं पट्टी स्थित सांकर सैंण गांव के रहने वाले थे। उन्होंने देहरादून के शिमला बाईपास बड़ोवाला में सालभर पहले ही घर बनाया था। राकेश रतूड़ी महार रेजीमेंट में तैनात 1996 में भर्ती हुए थे।

शहीद के घर पर जहा मातम का माहौल है वही परिजन भी इस के बाद शोकाकुल नज़र आ रहे है परिवार में शादी को लेकर जहा तैयारी चल रही थी भारतीय सेना में हवलदार राकेश रतूड़ी इसी साल तीन जनवरी को घर आए थे। छह दिन पत्नी और बच्चों के साथ बिताने के बाद नौ फरवरी को वह ड्यूटी पर चले गए थे। वह पत्नी नंदा देवी से फरवरी में घर आने की बात कहकर गए थे। 22 फरवरी को पटियोंवाला में उनके चचेरे भाई जगदीश की बेटी की शादी है और पांच मार्च को दूसरे चचेरे भाई अनिल रतूड़ी की बेटी की शादी में सांकर गांव में होनी है। लिहाजा, पत्नी और बच्चे उनके लौटने का बेसब्री से इंतजार कर रहे थे। बच्चे हर ख्वाहिश पूरी करने वाले पिता की राह ताक रहे थे, लेकिन विधाता को कुछ और ही मंजूर था।

इस दौरान उच्च शिक्षा राज्यमंत्री धन सिंह रावत, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह, मेयर एवं धर्मपुर विधायक विनोद चमोली, हरिद्वार सांसद डा रमेश पोखरियाल निशंक, मसूरी विधायक गणेश जोशी, सहसपुर विधायक सहदेव पुंडीर, उपाध्याक्ष सूर्यकांत धस्माना, डीएम एसए मुरुगेशन, एसएसपी निवेदिता कुकरेती समेत सब एरिया के अधिकारियों ने भी शहीद को श्रद्धांजलि दी। देहरादून से गई सेना की टुकड़ी ने हवा में फायर कर शहीद को सलामी दी। सेना की ओर से ब्रिगेडर एमएस जग्गी, कर्नल जेवी सिंह और कैप्टन राहुल औझा समेत अन्य सैन्य कर्मियों की मौजूदगी में सैन्य सम्मान के साथ शहीद रतूड़ी को अंतिम विदाई दी गयी। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, मेयर मनोज गर्ग, डीएम दीपक रावत, एसएसपी कृष्ण कांत वीके, एसडीएम मनीष सिंह भी घाट पर मौजूद रहे।

 

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments