श्रम विभाग द्वारा बिन्दुखत्ता में टूलकिट वितरण कार्यक्रम आयोजित किया

0
264

श्रम विभाग द्वारा बिन्दुखत्ता में टूलकिट वितरण कार्यक्रम आयोजित किया 

हल्द्वानी श्रम विभाग द्वारा जनता उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कार रोड बिन्दुखत्ता में टूलकिट वितरण कार्यक्रम आयोजित किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन श्रम मंत्री हरीशचन्द्र दुर्गापाल द्वारा किया व 1516 श्रमिकों को लगभग एक करोड की धनराशि के टूलकिट साईकिल, इलेक्टिशियन किट,आर्थिक सहायता चैक वितरित किये गये। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए श्रममंत्री हरीश दुर्गापाल ने कहा कि लालकुआं बिन्दुखत्ता में स्वास्थ्य सुविधा देने हेतु सीएचसी, पीएचसी के साथ ही नये विद्यालयों का निर्माण व पुराने विद्यालयो का उच्चीकरण व आईटीआई जैसे संस्थान खोले गये है। उन्होने कहा कि बिन्दुखत्ता, लालकुआं क्षेत्र का संर्वार्गीण विकास प्राथमिकता से किया जायेगा। श्रम विभाग से टूल किट आदि के साथ ही शौचालय व बिजली विहिन परिवारों को सोलर लाईट दी जायेगी। उन्होने कहा विकास हमारी परम्परा एवं संस्कृति है। विकास कार्यों में हम इस बात का विशेष ध्यान रखते हैं कि विकास की किरण हर गरीब आदमी के दर पर पहुचे । उन्होंने कहा कि हम गरीब को विकास की धारा में जोडने के लिए कृत संकल्पित हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए श्रम विभाग के माध्यम से पंजीकृत श्रमिकों को टूलकिट वितरित की जा रही है। इससे गरीब श्रमिक अपना रोजगार कर जीवकोपार्जन कर सकते है। श्री दुर्गापाल ने कहा कि उन्होने कहा प्रदेश में एक लाख सढसठ हजार श्रमिको को टूलकिट वितरित किये जा चुके है। उन्होनें कहा कि कामगारों के बच्चों की शिक्षाहेतु कक्षा 1 से 5 तक 200 प्रतिमाह, कक्षा 6 से 8 तक 300 प्रतिमाह, 9 से 10 तक 400 प्रतिमाह, कक्षा 11, 12 तथा आईटीआई को 500 प्रतिमाह, स्नातक/परास्नातक के छात्रछात्राओं को 800 प्रतिमाह, पाॅलिटेक्निक के छात्रछात्रों को 1000 प्रतिमाह व उच्च व्यवसायिक शिक्षा हेतु 2500 प्रतिमाह आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है। उन्होनें कहा कि हल्द्वानी में आईएसबीटी, अन्तर्राष्ट्रीय स्टेडियम के साथ ही चिडियाघर का निर्माण किया जा रहा है। ये विकास का मील का पत्थर भी साबित होगंे। उन्होने कहा कि दुग्ध व्यवसाय स्वरोजगार का सर्वोच्च माध्यम है। पढेलिखे नौजवान व महिलायें आधुनिक तरीके से दुग्ध उत्पादन कर डेरी व्यवसाय को आजीविका के रूप में अपना रहे है। उन्होने कहा स्वेत कांन्ति के क्षेत्र मंे उत्तराखण्ड अग्रणीय राज्यों मे खडा हो रहा है। राज्य सरकार दुग्ध उत्पादकों को प्रति लीटर 4 रूपये प्रोत्साहन राशि दे रही है। उत्तराखण्ड देश का प्रथम राज्य है जो उत्पादको को 4 रूपये प्रोत्साहन राशि देता है। उन्होने कहा सरकार द्वारा दुग्ध उत्पादक हितांे के लिए अनेक कल्याणकारी योजनायें संचालित किये जा रहे है। राज्य सरकार द्वारा 2014 से चलाई जा रही गंगा गाय महिला डेरी योजना के सकारात्मक परिणाम सामने आ रहे हैै। इस योजना के माध्यम से महिलायें अथवा महिला समूह आर्थिक रूप से सुदृढ व आत्मनिर्भर हो रहे है। उन्होने कहा कि गंगा गाय योजना के अन्तर्गत गाय खरीदने के लिए दिये जा रहे 52 हजार में 27 हजार अनुदान व 20 हजार ऋण है, जिसमें मात्र 5 हजार रूपये मार्जिन मनी के रूप में लाभार्थियो द्वारा दी जाती है। नगर पंचायत अध्यक्ष लालकुआं रामबाबू गुप्ता ने सम्बोधित करते हुये कहा कि सरकार द्वारा बिन्दुखत्ता के साथ ही प्रदेश के विकास मे अहम कार्य किये गये है। क्षेत्र व प्रदेश का चहुमुखी विकास किया जा रहा है। क्षेत्र मे सडको का जाल बिछाया गया है, साथ ही शिक्षण व स्वास्थ्य संस्थानों की स्थापना के साथ ही सभी श्रमिकों के हितलाभ के लिए हमेशा सरकार प्रयासरत रही है। उप श्रमायुक्त मधु नेगी ने बताया कि कार्यक्रम में कुल 1516 श्रमिकों को हितलाभ दिया गया। जिसमें 704 श्रमिकों को साईकिल, मजदूरी किट 652, इलैक्टिशियन 78, कारपेन्टर 22, राजमिस्त्री 32 एवं प्लम्बर 28 के साथ ही 10 श्रमिको को पुत्रि विवाह हेतु आर्थिक सहायता भी वितरित किये गये। कार्यक्रम में सरदार गुरदेव सिह, बलबन्त सिह दानू, गिरधर बम, पुष्कर दानू, भगवान सिह दानू, भूवन पाण्डे, उमेश कबडवाल, चंदन बोरा, निशार खान,हरीश बिसौती, मोहन कुणाई,सरस्वती ऐरी सहित अनेक जनप्रतिनिधि व अधिकारी के साथ भारी संख्या मे क्षेत्रीय जनता श्रमिक मौजूद थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments