सार्वजनिक अवकाश के बावजूद दुकान खोलना पड़ा महंगा

0
406

सार्वजनिक अवकाश के बावजूद दुकान खोलना पड़ा महंगा

अल्मोड़ा: नगर में सोमवार के सार्वजनिक अवकाश के बावजूद दुकान खोलना पड़ा महंगादिन कई कारोबारियों को सार्वजनिक अवकाश के बावजूद दुकान खोलना महंगा पड़ा। सार्वजनिक अवकाशों के दुकान दुकान खोले जाने की शिकायतों को ध्यान में रखते हुए श्रम प्रवर्तन अधिकारी ने बाजार में चेकिंग शुरू कर दी। उन्होंने बंदी के दायरे में आने वाली दर्जनों दुकानों को खुला पाया और करीब 52 दुकानों का चालान काटा।
गुरुनानक जयंती, गुरु पूर्णिमा व बाल दिवस के उपलक्ष्य में सोमवार को सार्वजनिक अवकाश घोषित था। यह दिन दुकान एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठान अधिनियम 1962 के अंतर्गत बाजार बंदी दिवस घोषित है। लगातार शिकायतों के मद्देनजर सोमवार को श्रम प्रवर्तन अधिकारी आशा पुरोहित ने बाजार में औचक चेकिंग शुरू कर दी। उन्हें शिकायतें सच मिली। दर्जनों दुकानें नियम का उल्लंघन करते पाई। औचक श्रम प्रवर्तन अधिकारी के पहुंचने पर संबंधित दुकानदार सकते में आ गए। कोई नया माल रखने, तो कोई दुकान में माल डालने के बहाने बनाने लगा। उन्होंने पूरी बाजार में घूम कर चेकिंग की। इस दौरान उन्होंने नियम का उल्लंघन करते मिली 52 दुकानों के चालान किया। यह चालान सौ से पांच रुपये तक हुए। श्रम प्रवर्तन अधिकारी आशा पुरोहित ने दुकानदारों से मौके पर ही दुकान बंद कराई और भविष्य के लिए हिदायत दी कि यदि नियम का उल्लंघन किया, तो अधिनियम के तहत कार्रवाई अमल में आएगी। उनके साथ विभाग के देव सिंह भी थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments