शहीद दिवस में मुख्यमंत्री ने करोड़ो की योजनाओं का किया शिलान्यास

0
415

 शहीद दिवस में मुख्यमंत्री ने करोड़ो की योजनाओं का किया शिलान्यास
देहरादून स्वतन्त्रता संग्राम सेनानियों की शहादत को व्यर्थ नही जाने दिया जायेगा। उनके सपनों को साकार करने के लिये हमें एकजुट होकर कार्य करना होगा। मुख्यमंत्री हरीश रावत ने देघाट में शहीद दिवस कार्यक्रम के अवसर पर शहीद स्मारक पर पुष्पचक्र अर्पित करते हुए उक्त बात कही। मुख्यमंत्री श्री रावत ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानी हीरामणी एवं हरिकृष्ण उप्रेती जिन्होंने 1942 में भारत छोड़ों आन्दोलन में अग्रणी भूमिका निभाई थी, को नमन करते हुये कहा कि उनके सपनों को साकार करने के साथ ही हम देश की आजादी को अक्षुण बनाये रखना है। आजादी हमारी सामुहिक धरोहर है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने इस अवसर पर 1004.89 लाख की योजनाओं का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि इन योजनाओं को समय से पूर्ण करने के साथ ही गुणवत्ता का ध्यान रखना होगा। जिन योजनाओं का शिलान्यास किया गया उनमें जनपद अल्मोड़ा के विधानसभा क्षेत्र सल्ट के अन्तर्गत घटगाड से मल्ली बाजार तक जिला परिषद मार्ग को मोटर मार्ग एवं मार्ग पर विनोद नदी पर बैरतिया में 36 मी. स्पान स्टील गर्डर सेतु का निर्माण कार्य लागत 425.44 लाख का शिलान्यास, जनपद अल्मोड़ा के विधानसभा क्षेत्र सल्ट के अन्तर्गत चचरोट मुख्य मार्ग से छियाडी बाजार मिलान का नव निर्माण लागत 83.36, भिक्यिासैणदेघाटबुंगीधारमहेलचैरबछुवाबाण मोटर मार्ग के कि 33.00 से कोटस्यारी हेतु मोटर मार्ग का निर्माण लागत 19.00, पंचायती राज विभाग के अन्तर्गत विकास खण्ड स्याल्दे, जनपद अल्मोड़ा से टैक्सी स्टैण्ड देघाट के निर्माण कार्य लागत 38.14, ग्रामीण सडकें एवं डेªनेज विभाग के अन्तर्गत विकास खण्ड स्याल्दे, जनपद अल्मोड़ा में चचरोटी से भूमिया मंदिर तक ग्रामीण मोटर मार्ग निर्माण 279.49, ग्रामीण सडकें एवं डेªनेज विभाग के अन्तर्गत विकास खण्ड स्याल्दे, जनपद अल्मोड़ा में सिमलचैरा से जयन्तेश्वर तक ग्रामीण मोटर मार्ग का निमार्ण 159.46 प्रमुख है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने वीर सैण से बुगीधार, जैनेल राष्ट्रीय राज मार्ग का नाम चन्द्र मार्ग रखने जो वीर चन्द्र सिंह गढवाली के नाम से जाना जायेगा साथ ही मशाण गधेरे का नाम चन्द्र सिर के नाम से रखने की बात कही। देघाट से नीचे जैनेल खुलदूआ तक का मार्ग हीरामणी व हरिकृष्ण के नाम से पृथकपृथक जनता की सहमति से रखने की बात कही साथ ही सराईखेत में पशुपालन की भूमि में कृषि महाविद्यालय खोलने की बात कही। उडलीखान से लखनपुर मोटर मार्ग की स्वीकृति, कल्याणपुर में मेरा गांव मेरी सड़क की स्वीकृति, बलमा तामाढौन विद्यालय का उच्चीकरण, शहीद लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि खददुआ, नकचूलाखान मोटर मार्ग का पक्की करण का काम नई तकनीक से किया जाय। मुख्यमंत्री श्री रावत ने पूर्व विधायक जसवन्त सिंह बिष्ट, प्रताप सिंह बिष्ट का नाम शिक्षण संस्थाओं से जोड़ने सहित उद्योगपति महेश बेलवाल, जिन्होंने पलायन को रोकने के लिये कार्य किया, किसी औद्योगिक संस्थान का नाम उनके नाम से रखने की बात कही। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी आपसी विचार विमर्श के पश्चात यह कार्य प्रारम्भ करायें।

अक्टूबर तक 30 हजार से अधिक बेरोजगारों को रोजगार दिलाये जाने का लक्ष्य

उन्होंने कहा कि अक्टूबर तक 30 हजार से अधिक बेरोजगारों को रोजगार दिलाये जाने का हमारा लक्ष्य है। प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय अब 1 लाख 74 हजार हो गई है, जो वर्ष 2014 में 84 हजार थी यह प्रदेश के लिये गौरव की बात है आज समाज कल्याण की पेंशन लेने वालों की संख्या 7 लाख से ऊपर हो चुकी है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने महिलाओं को आत्मनिर्भर बनने के लिये आगे आने की अपील की और प्रसन्नता भी व्यक्त कि कि महिलायें आगे बढ़कर इन्दिरा अम्मा कैंन्टीन, परम्परागत खाद्य पदार्थों का विपणन एवं हथकरघा के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि जो सहायता समूह सक्रिय है, जिलाधिकारी उनके खाते में 5000 हजार रूपये जमा करेंगे और 25000 हजार रूपये बाद में जो अच्छा कार्य करेंगे उन्हें दिया जायेगा जो सामूहिक खेती सहित अन्य कार्य कलस्टर बनाकर करेंगे उन्हें 1 लाख रूपये दिया जायेगा साथ ही 5 प्रतिशत बोनस भी दिया जायेगा। मनरेगा एवं दुग्ध व्यवसाय के अन्तर्गत काम कर रही महिलाओं को विशेष प्रोत्साहन दिया जायेगा। विद्यालयों में बच्चों की पढाई को ध्यान में रखते हुये सभी विद्यालयों में शिक्षकों की तैनाती को प्राथमिकता दी जायेगी। अन्न सुरक्षा कार्यक्रम के अन्तर्गत एपीएल कार्ड धारकों को भी इस योजना से जोडा गया है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि अभी तक जो भी घोषणायें इस क्षेत्र के लिये की गयी है, उनमें से 75 प्रतिशत पूर्ण हो चुकी हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के समग्र विकास हेतु हमारी सरकार प्रतिबद्ध है। देघाट में माॅ भगवती मंदिर में पूजा अर्चना के बाद उन्होंने कहा कि यह क्षेत्र हमेशा राजनैतिक गतिविधियों में अग्रणी रहा है। महान वीर सपूतों ने जो बलिदान इस क्षेत्र के लिये दिया वह हम सबके लिये अनुकरणीय है। इस अवसर पर पूर्व विधायक रणजीत सिंह रावत ने अपने विचार रखते हुये कहा कि क्षेत्र के विकास के लिये मिलजुल कर कार्य करना होगा साथ ही अधूरे कार्यों को समय से पूर्ण करने का सकल्प लेना होगा। इस अवसर पर क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि, जिलाधिकारी सविन बंसल, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के.एस.नगन्याल, समस्त जिला स्तरीय अधिकारियों सहित क्षेत्रीय जनताउपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments