आईसीयू में है गंगा बेटा कब करेगा इलाज किसके और क्यों किया ये सवाल

0
124

आईसीयू में है गंगा बेटा कब करेगा इलाज किसके और क्यों किया ये सवाल :RIVER GANGA ICU SAYS WATER MAN RAJENDRA SINGH

देहरादून। गंगा को अपनी माँ कहने वालें देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर जल पुरुष राजेंद्र सिंह ने बड़ा सवाल खड़ा करते हुए कहा है माँ गंगा आईसीयू में तो गंगा का बेटा उसके इलाज के लिए क्या कर रहा है ये बातें देहरादून में आयोजित हुई एक प्रेस वार्ता में बोलते हुए कही। राजेंद्र सिंह ने कहा की उत्तराखंड में वो दो नदियो को उसके पुनर्जीवित किये जाने के लिए सरकार से आगे आने की माँग करते है अगर सरकार उनकी माँग पर अपनी सहमति देती है तो वो दो नदियों पर काम किये जाने के लिए तैयार है

गंगा और हिमालय पर खतरा गंभीर है मोदी ने कहा था की वो गंगा के बेटे है जिसके बाद आंदोलन समाप्त कर दिया था। लेकिन आज गंगा पर कुछ नहीं किया चार सालो में गंगा पर कुछ नहीं किया गया,जबकि आज तक उमा भारती के समय बनायीं गयी गंगा को लेकर समिति भी अपनी रिपोर्ट दे चुकी है लेकिन उस पर भी कोई काम नहीं किया गया है।

गंगा कभी भी अविरल नहीं हो पायी,ये बाते जल पुरुष राजेंद्र सिंह ने देहरादून में आयोजित एक प्रेस वार्ता में कही, उन्होंने कहा जीडी अग्रवाल गंगा का सही इलाज़ कर सकते है। लेकिन उनकी बातो पर सरकार कोई ध्यान नहीं दे रही यही वजह है पिछले कई सालो से गंगा पर खर्च किये जाने वाला पैसा गंगा को साफ किये जाने के बाद भी गंगा को साफ नहीं कर सका है।

मोदी ने गंगा के नाम पर वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव में वोट मागे लेकिन उसके बाद चार सालो तक कुछ नहीं किया गया,उन्होंने कहा उनके द्वारा पिछले 35 सालो में 11 नदी को फिर से जीवित किया है,मैं आशा में जीता हूँ आज गंगा icu में भर्ती है लेकिन उसका बेटा इलाज़ नहीं कर रहा,ये देश के साथ किये जाने वाले वादे के खिलाफ है।

उत्तराखंड पर बोलते हुए उन्होंने कहा की यहाँ की जवानी पानी,पहाड़ से पलायन कर रहे है,चार धाम पर आल वेदर रोड से कटान के कारण पहाड़ खतरे में है,हिमालयन में कटान को रोकने के लिए काम करना होगा,नहीं तो आने वाले दिनों में वर्ष 2013 की आपदा से भी बड़ी आपदा हो सकती है।

आल वेदर रोड के लिए उसके इंकॉनॉमि फैक्ट्स पर ध्यान देना होगा,लेकिन सरकार उस पर कोई ध्यान नहीं दे रही पहाड़ो पर कटान को लेकर जिस तरह का मलबा नदी में बहाया जा रहा है। वो भी किसी बड़े खतरे से कम नहीं है जबकि इसको लेकर उसके इकोनॉमी फैक्टर पर ध्यान दिया जाना जरुरी था पर्यटन के नाम पर बर्बादी बंद हो, लेकिन उत्तराखंड में जिस तरहं पर्यटन को लेकर पहाड़ से कटान और सडको का निर्माण किया जा रहा है वो किसी बड़े खतरे का संकेत की तरफ इशारा कर रहा है।

हिमालय जल संग्रह का केंद्र है हिमालय को बचाया जाना जरुरी है तभी गंगा को बचाया जा सकता है उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा की वो किसी भी राजनैतिक पार्टी के साथ नहीं है वो कभी भी कोई चुनाव लड़े जाने की तैयारी भी नहीं कर रहे है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments