राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण द्वारा विकास भवन सभागार में आयोजित।

0
295

राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण द्वारा विकास भवन सभागार में आयोजित।

बागेष्वर जिलाधिकारी मंगेष घिल्डियाल ने विकास भवन सभागार में राष्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण भारत सरकार द्वारा जनपद में चलाये जा रहे आपदा प्रबन्धन प्रषिक्षण ‘‘इन्सीडेन्ट रिस्पाॅन्स सिस्टम’’ की कार्यषाला में प्रतिभाग कर रहे आई.आर.एस. के नामित नोडल एवं आपदा सम्बन्धित कार्यों के लिये उत्तरदायी सभी अधिकारियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राश्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण उत्तराखण्ड षासन द्वारा सभी जनपदों में आपदा सम्बन्धित कार्यों में एकरूपता लाने के उद्देष्य से, विषेश रूप से आपदा उपरान्त किये जाने वाले कार्यों की पूर्ण जानकारी होने तथा उनपर तत्काल अमल करने के लिये यह प्रषिक्षण दिया जा रहा है। उन्होंने सभी अधिकारियों को निर्देष दिये कि वे प्रषिक्षण के दौरान दिये जा रहे अपनेअपने से सम्बन्धित कार्यों को सीखें तथा तदनुसार कार्यवाही प्रारम्भ करें। कार्यषाला को सम्बोधित करते हुये इन्सीडेन्ट रिस्पाॅन्स सिस्टम के विषेशज्ञ बी0बी0 गणनायक ने बताया कि आपदा कभी भी आ सकती है, आपदा को रोका तो नहीं जा सकता पर उसके प्रभाव को न्यूनतर किया जा सकता है। आपदाग्रस्त क्षेत्रों में तत्काल राहत देने एवं आपदा के प्रभाव को कम करने हेतु राश्ट्रीय आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण द्वारा राज्य व जिला स्तर पर यह प्रषिक्षण दिया जा रहा है। इसका मुख्य उद्देष्य आपदाग्रस्त इलाकों में आपदा के समय आई.आर.एस. प्रषिक्षण प्राप्त अधिकारियों द्वारा 2025 मिनट के अन्तर्गत राहत पहॅुचाना हैं ताकि आपदागस्त क्षेत्र के लोगों को राहत मिल सके। उन्होंने बताया कि आई.आर.एस.के अन्तर्गत अधिकारियों को कार्ययोजना तैयार कर उसके अनुरूप कार्य सम्पादित करना है। कार्यषाला में आई.आर.एस. विषेशज्ञ द्वारा अधिकारियों को इन्सीडेन्ट रिस्पाॅन्स सिस्टम की कार्ययोजना की जानकारी देते हुये बताया कि आपदायें आकस्मिक होती हैं जिनसे जानमान एवं सम्पत्ति का नुकसान होता है। इन आपदाओं के प्रभाव एवं इनसे होने वाले नुकसान को कम करने के लिए पूर्व तैयारी अत्यन्त आवष्यक है। आपदा प्रबन्धन कार्य योजना इसी पूर्व तैयारी का एक हिस्सा है जो किसी भी आपातकालीन स्थिति में राहत एवं बचाव कार्य करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। उन्होंने आई.आर.एस.के अन्तर्गत जनपद में आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण की षक्तियाॅ व कृत्य, जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र आदि के बारे में विस्तार से बताया। कार्यषाला में पुलिस अधीक्षक सुखबीर सिंह, अपर जिलाधिकारी एस0एस0 जंगपांगी, मुख्य विकास अधिकारी एस0एस0एस0पांगती, उपजिलाधिकारी बागेष्वर ष्यामसिंह राणा, कपकोट एन0एस0नगन्याल, गरूड़ रवीन्द्र सिंह बिश्ट, वरिश्ठ कोशाधिकारी भाश्करानन्द पाण्डे, डीपीआरओ पूनम पाठक, तहसीलदार, बीडीओ सहित सभी अधिकारी मौजूद थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments