रक्षाबन्धन पर उत्तराखंड मुख्यमंत्री के हाथो पर किस की सजी राखी

0
607

रक्षाबन्धन पर उत्तराखंड मुख्यमंत्री के हाथो पर किस की सजी राखी
देहरादून गुरूवार को रक्षाबन्धन के अवसर पर मुख्यमंत्री हरीश रावत केदारपुरम स्थित नारी निकेतन पॅहुचे। मुख्यमंत्री श्री रावत ने संवासनियों से राखी बंधवायी तथा मिष्ठान व फल आदि वितरित किये। उन्होंने नारी निकेतन के अधिकारियों से संवासिनियों को दी जा रही सेवाओं व सुविधाओं तथा उनके विकास के लिए किये जा रहे कार्यो की जानकारी ली। मुख्यमंत्री श्री रावत ने नारी निकेतन परिसर का निरीक्षण किया तथा संवासिनियों से अनौपचारिक वार्तालाप किया। नारी निकेतन की कई संवासिनियों ने मुख्यमंत्री को पहचानते हुए बताया कि वह मुख्यमंत्री श्री रावत से परिचित है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री हरीश रावत प्रत्येक वर्ष दीपावली तथा रक्षाबन्धन के अवसर पर नारी निकेतन में पहुचते है तथा संवासिनियों के साथ समय बिताते है। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि राज्य सरकार संवासनियों व विकंलाग वर्ग के विकास व कल्याण के प्रति प्रतिब़द्ध है। समाज कल्याण विभाग के अन्र्तगत विभिन्न योजनाओं द्वारा समाज के कमजोर वर्गो के उत्थान के प्रयास किये जा रहे। सरकार द्वारा संवासनियों व विकंलाग वर्ग को निस्बड के माध्यम से कौशल विकास का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। इसके पश्चात मुख्यमंत्री श्री रावत राजकीय शिशु गृह केदारपुरम भी गये जहाॅं उन्होने बच्चों के साथ समय बिताया तथा फल व मिष्ठान आदि वितरित किये। मुख्यमंत्री श्री रावत ने शिशुओ के पालन पोषण तथा उन्हे दी जा रही सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की।
इससे पूर्व मुख्यमंत्री श्री रावत ने बीजापुर अतिथि गृह में प्रजापति ब्रह्मा कुमारीज ईश्वरी विश्वविद्यालय की सिस्टरस से राखी बंधवायी। मुख्यमंत्री श्री रावत ने वाल्मिीकि समाज की बालिकाओं तथा मुस्लिम समाज की महिलाओं से भी राखी बंधवायी। रक्षाबन्धन के अवसर पर प्रदेश के विभिन्न भागों से अनेक महिलाएॅ बीजापुर अतिथि गृह पहुंची तथा मुख्यमंत्री को राखी बांधी। मुख्यमंत्री श्री रावत ने इस स्नेह व सम्मान के लिए सभी महिलाओं का आभार व्यक्त किया

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments