Raju bajrangi film open in uttarakhand school 

0
257

Raju bajrangi film open in uttarakhand school

देहरादून मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में फिल्म निर्माता श्री शिव नारायण सिंह रावत ने भेंट की। भेंट के दौरान उन्होंने उत्तराखण्ड में फिल्मों के विकास एवं फिल्मों के माध्यम से उत्तराखण्ड की संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए कोटद्वार में एक फिल्म संस्थान खोलने के लिए सीएम से अनुरोध किया। इसके लिए उन्होंने फिल्म एण्ड टेलीविजन इंस्टीट्यूट आॅफ इंडिया (एफटीआईआई)से परमिशन के लिए भी मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश में फिल्म संस्थान बनने से उत्तराखण्ड में फिल्मों के विकास की अपार संभावनाएं हैं। इससे राज्य में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा और राजस्व में भी वृद्धि होगी। जग्वाल फिल्म से अपने कैरियर की शुरूवात करने वाले श्री शिवनारायण ने स्वनिर्मित सामाजिक बाल फिल्म ‘राजू बजरंगी’ को प्रदेश के स्कूलों में बच्चों को दिखाने हेतु अनुमति के लिए भी अनुरोध किया।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि फिल्मों की शूटिंग के लिए उत्तराखण्ड का वातावरण प्राकृतिक एवं भौगोलिक रूप से हमेशा के लिए अनुकूल है। उन्होंने कहा कि  उत्तराखण्ड में फिल्मों को बढ़ावा देने के लिए फिल्मों की शूटिंग के लिये अब शुल्क नही लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में प्रतिभाओं की कमी नही है। फिल्म संस्थान खुलने से प्रतिभाएं और उभरकर आयेंगी तथा बाॅलीवुड फिल्मों की शूटिंग की सम्भावनाएं भी बढ़ जायेंगी। उन्होंने कहा कि एफटीआईआई से उत्तराखण्ड में फिल्म इंस्टीट्यूट के लिए परमिशन ली जायेगी। इसके लिए उन्होंने सचिव/महानिदेशक सूचना एवं उत्तराखण्ड फिल्म विकास परिषद् के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डाॅ.पंकज कुमार पाण्डेय को आवश्यक कार्यवाही करने को कहा। बाल फिल्म ‘राजू बजरंगी’ को स्कूलों में दिखाये जाने के अनुरोध पर मुख्यमंत्री ने सहमति प्रदान की।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में इंडियन इन्स्टीट्यूट आॅफ इनफाॅर्मेशन टेक्नाॅलाॅजी (आईआईआईटी) के नोडल अधिकारी डाॅ. बी.एस. गुप्ता ने भेंट की। डाॅ. गुप्ता ने उत्तराखण्ड में एक आईआईआईटी खोलने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि इसके लिए 60 से 100 एकड़ भूमि की आवश्यकता पड़ेगी। आईआईआईटी की स्थापना के लिए 50 प्रतिशत  की धनराशि केन्द्र से 35 प्रतिशत राज्य से एवं 15 प्रतिशत उद्योग जगत की भागीदारी होती है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने उत्तराखण्ड में आईआईआईटी के लिए अपनी सैद्धांतिक सहमति दी। उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड में इस संस्थान की स्थापना से शिक्षा के ऐसे ढ़ांचे का गठन होगा जो सूचना प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में मानव संसाधन तैयार कर सके। उन्होंने कहा कि चयनित प्रभाव क्षेत्रों में सूचना प्रौद्योगिकी को लागू करके अर्थव्यवस्था और उद्योग के सेक्टरों में प्रतिस्पर्धा में महत्वपूर्ण योगदान दे सकती है। उन्होंने सचिव  प्रशिक्षण डाॅ. पंकज पाण्डेय को उत्तराखण्ड में आईआईआईटी की स्थापना हेतु नियमानुसार आवश्यक कार्यवाही करने को कहा। मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि कोई तकनीकि परेशानी नहीं हुई तो आईआईआईटी की स्थापना उत्तराखण्ड में की जायेगी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments