राजीव आवास योजना बनी घोटालो का सरताज

0
1072

राजीव आवास योजना बनी घोटालो का सरताज

rajeev-awas-yojana-scam-india-uttarakhand

सुनील थपलियाल
उत्तराखंड से लेकर देश भर में राजीव आवास योजना घोटालो का सरताज बन गयी है केंद्र सरकार में रहते हुए कांग्रेस ने देश भर में गरीबो को पक्का मकान दिए जाने को लेकर इस योजना को सुरु किया था जवाहर लाल नेहरू शहरी नवीनीकरण मिशन (ड्रीनेज) राजीव गांधी आवासीय योजना के तहत करोड़ो रूपए नगर पालिका और नगर पंचायतो को दिए गए थे इस योजना को लेकर कई जगहों पर बड़े घोटाले भी उजागर होने सुरु हो गए है यही नहीं उत्तराखंड में नगर पालिकाएं और नगर पंचायत इस योजना में घोटालो को लेकर जाच का सामना भी कर रही है भड़ास फॉर इंडिया अभी इस मामले को लेकर उत्तराखंड में तह तक जाने की कोशिश में जुटा हुआ है वही राज्य की जनता से भी अपील कर रहा है की अगर किसी के पास इस योजना में हुए घोटालो को लेकर कोई जानकारी हो तो वो उपलब्ध करवा सकता है
नगर पालिका परिषद बड़कोट में जवाहर लाल नेहरू शहरी नवीनीकरण मिशन (ड्रीनेज) योजना सहित राजीव गांधी आवासीय योजना की शासन/जिलाधिकारी के निर्देश पर जांच शुरू हो गयी है। आज पहले दिन उपजिलाधिकारी के नेतृत्व में तकनीकी जांच टीम के सम्मुख नगर पालिका अध्यक्ष व उनके कर्मचारियों ने शिकायतकर्ताओं के साथ धक्का मुक्की एंव गाली गलोच करने से जांच को प्रभावित करने का प्रयास भी किया। भले ही उपजिलाधिकारी ने बीचबचाव करते हुए जांच जारी रखी।

मालुूम हो कि उत्तरकााशी के बड़कोट नगर पचंायत/पालिका में ड्रीनेज योजना में 5 करोड़ 10 लाख से नगर के भीतर नालियांे , सम्पर्क मार्गो सहित सुरक्षात्मक कार्य होने थे और राजीव गांधी आवासीय योजना में 23 करोड़ 83 लाख 44 हजार से 396 निर्बल एंव असाह सहित आवास हीन , कच्चे , अद्र्व कच्चे नगर वासियों को लाभार्थी बनाते हुए आवास बनाये जाने है। परन्तु दोनो योजनाओं में भारी धंाधली होने के चलते नगर पंचायत के सभासद और अन्य नगर वासियों द्वारा ड्रीनेज योजना में गुणवत्ता विहिन कार्य होने व राजीव गांधी आवासीय योजना में अपात्र लोगो का चयन किये जाने की शिकायत हुई थी जिसमें शासन / जिलाधिकारी ने बड़कोट उपजिलाधिकारी राजकुमार पाण्डेय सहित दो तकनीकी विभाग के अधिशासी अभियन्ताओं की जांच टीम गठित की हुई है जो दोनो योजनाओं की जांच कर शासन को भेजेगें । इस मामले में सामाजिक कार्यकर्ता आनन्द सिंह असवाल और वार्ड 3 के सभासद प्रवीन गौड़ ने कहा कि नगर पालिका द्वारा ड्रीनेज योजना के तहत गाड गदेरे में सुरक्षात्मक कार्य सी.सी.पुल बनाये गये जो छः माह तक भी नही टीक पाये जिससे उनकी गुणवत्ता झलकती है और तकनीकी विभाग से इसमें जांच की मांग की गयी थी.

राजीव गांधी आवासीय योजना में गरीब , निर्बल , असाहय नगर वासियों को दर किनार करते हुए सरकारी नौकरी , पेशन्र्स , ठेकेदार , सभासद व जिनके दो या दो अधिक आवास पहले से बने है और तो और कुछ लाभार्थी नगर के वासी तक नही है उनको उक्त येाजना का लाभ दिया गया उन्होने बताया कि नगर पालिका में निर्वाचित सभासद का पहले से दो मंजिला आवास था उनको भी तीसरी मंजिल में राजीव गांधी आवास योजना का लाभ दिया गया। उन्होने कहा कि जांच के दौरान अध्यक्ष और नगर पंचायत के दो कर्मचारियों द्वारा हमारे साथ धक्का मुक्की और गाली गलोच तक की गयी जो कही न कही बौखलाहट के साथ जांच को प्रभावित करने का प्रयास है । उन्होने शासन प्रशासन से गम्भीरता से तकनीकी जांच कराये जाने की मांग जिलाधिकारी से की है। इधर जांच अधिकारी उपजिलाधिकारी राजकुमार पाण्डेय ने बताया कि उत्तरकाशी से दो तकनीकी अधिकारी के तौर पर अधिशासी अभियन्ता टीम में है और दोनो योजनाओं की गम्भीरता से हर पहलु पर जांच की जायेगी ।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments