priynaka murder case judgement: प्रियंका हत्याकांड में आशिक को कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा

0
319

priynaka murder case judgement:प्रियंका हत्याकांड में आशिक को कोर्ट ने सुनाई आजीवन कारावास की सजा

विकासनगर: अपर जिला एवं सत्र न्यायालय ने वर्ष 2016 में सेलाकुई के प्रियंका हत्याकांड में आरोपी युवक पंकज को दोषी करार दिया है। पंकज ने एकतरफा प्यार में पहले तो बर्बरता से प्रियंका की नाक पर कुल्हाड़ी से वार किया था, बाद में कई वार कर प्रियंका की हत्या कर दी थी। इसके बाद उसने आत्महत्या का भी प्रयास किया था। मामले में शुक्रवार को सजा सुनाई गयी जिसमे आरोपी को आजीवन कारावास की सजा और २५ हज़ार रूपए दिए जाने का फैसला किया गया है

एडीजीसी अपराध नरेश चंद्र बहुगुणा के अनुसार 28 अप्रैल 2016 को सेलाकुई स्थित एक कंपनी में रात्रि ड्यूटी कर रहे पचपन सिंह चौहान को सुबह छह बजे किसी ने फोन कर सूचना दी कि उनके घर से उठा-पटक व कराहने की आवाज आ रही है। साथ ही कमरा अंदर से बंद है। जिसके बाद वह तुरंत घर पहुंचे। वहां पहले से मौजूद पुलिस व ग्रामीणों की मौजूदगी में कमरे की खिड़की तोड़ी गई। कमरे के अंदर पचपन ¨सह की 22 वर्षीया बेटी प्रियंका गंभीर घायल अवस्था में पड़ी थी। साथ ही कमरे में पंकज ¨सह लटवाल (22 वर्ष) पुत्र मदन ¨सह मूल निवासी देवल जिला अल्मोड़ा व हाल निवासी सेलाकुई भी घायल पड़ा था। पुलिस ने 108 के माध्यम से दोनों घायलों को अस्पताल पहुंचाया। जहां प्रियंका को मृत घोषित कर दिया गया। घटना के समय तहसीलदार रहे गुरदीप ¨सह ने घायल पंकज के बयान दर्ज किए। पुलिस ने घटनास्थल से प्रियंका की हत्या में प्रयुक्त कुल्हाड़ी, फर्श पर पड़ा खून, अभियुक्त पंकज के कपड़े भी कब्जे में लिए।

सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता फौजदारी नरेश चंद्र बहुगुणा ने बताया कि अभियुक्त पंकज ने एकतरफा प्यार में बर्बरता से पहले प्रियंका की नाक काटी। फिर शरीर पर कई वार कर उसकी हत्या कर दी। इसके बाद उसने खुद की जान लेने का भी प्रयास किया। विधि विज्ञान प्रयोगशाला की रिपोर्ट में कुल्हाड़ी व कपड़ों पर प्रियंका का खून पाया गया। विवेचक रहे एएसपी मंजूनाथ टीसी व थानाध्यक्ष सहसपुर रहे मुकेश त्यागी ने जांच के बाद चार्जशीट कोर्ट में पेश की। जिस पर कुल 24 गवाहों में से 12 गवाह पेश किए गए। तमाम सबूत पेश होने के बाद एडीजे मोहम्मद सुल्तान ने प्रियंका हत्याकांड में अभियुक्त पंकज को अपराध का दोषी करार दिया। आजीवन कारावास की सजा के साथ २५ हज़ार रूपए की सजा भी सुनाई गयी है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments