Priya Sharma Farar Police Serch In India:भूमिगत प्रिया शर्मा कुछ मीडिया वाले बने मुखबीर

0
464

Priya Sharma Farar Police Serch In India: भूमिगत प्रिया शर्मा और कुछ मीडिया वाले बने मुखबीर
देहरादून एनएच मुआवजा घोटाले में एसआइटी के शिकंजे में आई महिला बिल्डर प्रिया शर्मा ने मेल भेजकर आधा दर्जन लोगों से जान का खतरा बताया है। फिलहाल पुलिस अधिकारी इस तरह का मेल मिलने से इन्कार कर रहे हैं। एक तरफ जहा पुलिस प्रिया शर्मा और उसके साझेदार सुधीर चावला की गिरफ़्तारी को लेकर कई जगह पर दबिश दे चुकी है लेकिन दोनों काफी समय से भूमिगत बताये जा रहे है ऐसे में अचानक अपनी जान का खतरा बताये जाने का मेल भेजे जाने के पीछे क्या मकसद होगा इसकी भी जांच जरुरी है

प्रिया शर्मा को अगर अपनी जान का खतरा है तो उसको पुलिस के पास जाकर शिकायत दर्ज़ करवाई जानी चाहिए थी लेकिन मेल भेज कर मीडिया के कुछ लोगो ने प्रिया शर्मा को लेकर जिस तरह उसका साथ देने का काम किया है उसको लेकर ये भी कहा जा रहा है कही न कही मीडिया के ऐसे लोग जिनके ऊपर पूर्व में कई तरह के आरोप लगाए जा चुके है वो प्रिया शर्मा की मदद करते नज़र आ रहे है सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उधम सिंह नगर में कई लोगो का जिसमे मीडिया के भी कुछ लोग शामिल बताये जा रहे है वो प्रिया शर्मा के लिए मुखबिर की तरह काम कर रहे है

भेजे गए मेल में बीजेपी विधायक राजकुमार ठुकराल,पीसीएस अधिकारी निधि यादव,हल्द्वानी निवासी मोहन पाल,मीनू पाल,सौरभ नारंग,मंजू नारंग,मोहसिन खान,प्रदीप और गोपाल बिष्ट पर जान का खतरा बताया गया है सवाल ये भी खड़ा हो रहा है की जब प्रिया शर्मा एक अपराधी है तो उसको अपनी जान का खतरा इन लोगो सी ऐसे समय में क्यों हुआ है जब ये नेशनल हाई वे घोटाले में एक करोड़ सी अधिक के बैंक खाते में हुए जमा रकम को लेकर पुलिस में दर्ज़ मुकदमे में आरोपी है

महिला बिल्डर प्रिया शर्मा और उनके साझेदार सुधीर चावला पर एनएच मुआवजा घोटाले में गिरफ्तार स्टांप वेंडर जीशान से डेढ़ करोड़ रुपये लेकर अधिकारियों तक कमीशन पहुंचाने का आरोप है। मुकदमा दर्ज होने के बाद प्रिया शर्मा और उनका साझेदार फरार चल रहे हैं। उनकी गिरफ्तारी को पुलिस ने गाजियाबाद, दिल्ली, हल्द्वानी और रामनगर में कई बार दबिश दी, लेकिन वह नहीं मिले। शुक्रवार को शहर में एकाएक चर्चा उड़ी कि महिला बिल्डर प्रिया शर्मा ने पुलिस को मेल भेजी है। जिसमें उन्होंने आधा दर्जन लोगों से अपनी जान का खतरा बताया है। इस मामले में एसएसपी डॉ.सदानंद दाते ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में नहीं है। ना ही पुलिस को इस तरह की मेल मिली है। वह पुलिस के पास आकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकती हैं।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।