पोर्न साइट्स:Porn Site Ban

0
90

पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध:Porn Site Ban India Demand

porn site
समाज में अब लोग जागरूक होने के साथ साथ लोगो को भी सामाजिक तरह से अपनी मुहीम की तरफ जोड़े जाने के लिए आगे आ रहे है देवभूमि उत्तराखंड में पहली बार पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध की माँग को लेकर पहाड़ो की रानी मंसूरी से हस्ताक्षर अभियान चलाया गया है,आसानी से इंटरनेट पर उपलब्ध होने वाली इस सामग्री को भारत जैसे देश में बैन किये जाने को लेकर इस मुहीम को शुरू किया गया है जिसका आगे चलकर बड़ा स्वरूप किये जाने का भी प्लान तैयार है

समाज में आज हमारा यूथ आसानी से इन पोर्न साइट इंटरनेट पर उपलब्ध होने के कारण उनका उपयोग बड़े पैमाने पर कर रहा है स्कूल,कॉलेज में पड़ने वाली युवा पीढ़ी सबसे अधिक इसके उपयोग का साधन बनी हुई है इंटरनेट पर उपलब्ध ये पोर्न साइट यूथ को अपनी तरह की भावनाओं में किये जाने के लिए उनके माइंड को डायवर्ट करनी वाली साबित हो रही है यही वजह है आज शहर से लेकर पहाड़ी जनपदों में भी mms बनाये जाने के मामले सामने आ रहे है पोर्न साइट पर परोसी जा रही सामग्री आज भारत जैसे देश में करोड़ो रूपए का कारोबार उस पर अपलोड होने वाली वीडियो के कारण कर रही है

आर्गेनाइजेशन फॉर ह्यूमनराइट्स एंड एन्वायरमेंट द्वारा बीते दिवस पूर्व घोषित कार्यक्रम के अनुसार आरटीआई लोकसेवा , नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति सहयोग से मसूरी में गांधी जी की प्रतिमा के समक्ष किताबघर चौक पर हवाघर में पोर्न साइट्स एवं नेट पर आसानी से उपलब्ध पोर्न मूवीज व साहित्य पर तत्काल प्रतिबन्ध की मांग को लेकर हस्ताक्षर अभियान चलाया जिसे आम जनता एवं विभिन्न स्थान से आये पर्यटको का भरपूर समर्थन मिला और जनता ने इस मांग का समर्थन करते हुए हस्ताक्षर अभियान में बढ़ चढ़ कर भागीदारी निभाई.

आर्गेनाइजेशन फॉर ह्यूमनराइट्स एंड एन्वायरमेंट (ओहरे) के अध्यक्ष भास्कर चुग ने बताया कि आज पांच मीटर के बैनर पर हस्ताक्षर कराये गए हैं. भविष्य में विभिन्न शहरों व् ग्रामीण इलाकों में विभिन्न संस्थाओं व् आम जनता के सहयोग से इसी प्रकार से हस्ताक्षर अभियान चलाया जायेगा. शीघ्र ही देहरादून में प्रेस क्लब में पीसी करके विभिन्न संगठनो, राजनैतिक दलो, शिक्षण संस्थान का सहयोग मांगा जायेगा. अंतिम अभियान दिल्ली में चलाया जाएगा जिसके तहत कम से कम पांच सौ मीटर बैनर हस्ताक्षरित करा कर पीएम को सौंपकर पोर्न साईट्स पर पोर्न मूवीज व अश्लील साहित्य पर तत्काल पूर्ण प्रतिबन्ध की मांग की जायेगी.

ओहरे संगठन के उपाध्यक्ष सुरेन्द्र सिंह रावत एवं महासचिव अजय शाह ने कहा कि सभ्य समाज में पोर्नोग्राफी का कोई स्थान नहीं होना चाहिए और इस बुराई को ख़त्म करने के लिए हम हर स्तर की लड़ाई लड़ने को तैयार हैं.
आर टी आई लोकसेवा संगठन के अध्यक्ष मनोज ध्यानी ने कहा कि कि पूरे देश में बलात्कार व सामूहिक बलात्कार की घटनाएँ तेज़ी से बढी हैं जिस कारण हम सबको अपनी बच्चियों को घर से बाहर कहीं भी भेजते हुए अंतर्मन में भय सा बना रहता है . कुछ घटनाएँ हाल ही में ऐसी भी सामने आयी हैं जिनमें नौ वर्ष , दस वर्ष, ग्यारह वर्ष तक के छोटे बच्चे रेप की घटनाओं को अंजाम दे चुके हैं. कई प्रकरणों में बेटे ने माँ से , भाई ने बहन से रेप किया है इस प्रकार की घटनाएँ मानवता के मस्तक पर बहुत बड़ा कलंक हैं. ऑर्गेनाईजेशन फॉर ह्यूमनराईट्स एंड एन्वायरमेंट एवं अन्य सामाजिक संश्थाओं से जुड़े कई सामाजिक कार्यकर्ताओं ने इस पर विचार किया तो यह तथ्य सामने आया कि इस प्रकार की घटनाओं में तेज़ी से वृद्धि के मूल में पोर्न साईट्स पर पोर्न मूवीज व अश्लील साहित्य का सस्ते इंटरनेट पर आसानी से उपलब्ध होना व बच्चो व युवको द्वारा उनको देखा व पढ़ा जाना है.

नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति के संस्थापक अमर सिंह कश्यप ने कहा कि कि हम इस नतीजे पर पंहुचे हैं कि यदि बलात्कार की घटनाओं पर लगाम लगानी है तो पोर्न साइट्स पर प्रतिबन्ध लगाया जाना बहुत जरूरी है. इस मांग को लेकर हम ऑर्गेनाईजेशन फॉर ह्यूमनराईट्स एंड एन्वायरमेंट के लैटरहैड पर प्रधानमंत्री जी को ज्ञापन प्रेषित कर चुके हैं. परन्तु हमें इसके लिए एक लम्बी लड़ाई भी लड़नी होगी जिसकी शुरुआत ऑर्गेनाईजेशन फॉर ह्यूमनराईट्स एंड एन्वायरमेंट आरटीआई लोकसेवा एवं नई दिशा जनहित ग्रामीण विकास समिति व कई अन्य संस्थाओं के सहयोग देहरादून गांधी पार्क 22 जुलाई 2018 को की थी.
हस्ताक्षर अभियान में भास्कर चुग , अमर सिंह कश्यप, अनुराग गुप्ता , महबूब अली , सुरेन्द्र सिंह रावत, अजय शाह, नरेंद्र सैनी, गुरविंद्र कुमार , हरीश जट, राजेश कुमार सहित विभिन्न सामाजिक कार्यकर्ताओं व आम जनता ने बढ़ चढ़ कर भागीदारी निभाई.

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments