पूनम पाण्डेय हत्याकांड लड़कियों का खुलासा

0
251

देहरादून। पूनम पाण्डेय हत्याकांड को लेकर पुलिस को जो राज पता चले थे उनसे अभी तक कोई ऐसी जानकारी हासिल नहीं हो पायी है जिसकी वजह से हत्याकांड को अंजाम दिए जाने का राज सामने आया हो लेकिन इस हत्याकांड की जांच कर रही पुलिस को ऐसी जानकारी मिली है जिसके माध्यम से हल्द्वानी में नशे का कारोबार किस तरह अंजाम दिया जा रहा है उसकी कलाई खुल गयी है।

पूनम पाण्डेय हत्याकांड की जांच कर रही पुलिस को जब कई लड़कियों से इस मामले को लेकर पूछताश हुई तो कई ऐसे राज सामंने आए जिसमे कई लड़किया नशे के लिए गलत काम किये जाने तक जाने की बात कहती हुई नज़र आई है पुलिस ने पूनम पाण्डेय हत्याकांड को लेकर कई दर्जन लड़कियों और दूसरे लोगो को अपनी राडार पर लिया था जिसके बाद इस मामले में पुलिस को गलत काम किये जाने तक की जानकारी मिली थी पुलिस के लिए ये हत्याकांड एक तरह से पहेली बन कर रह गया है।

हल्द्वानी पुलिस को अब कोर्ट से इस मामले की जांच के लिए एसआइटी गठित करने के निर्देश मिल जाने के बाद इस मामले पर अब जांच कई दूसरे पहलू पर भी होनी तय है जबकि कुछ दिन पूर्व पुलिस के अफसर इस मामले का खुलासा जल्द किये जाने का दावा कर रहे थे लेकिन अभी तक मामले का खुलासा नहीं होना भी पुलिस पर सवाल खड़े करता नज़र आ रहा है।

पूनम पाण्डेय हत्याकांड लड़कियों का खुलासा

पूनम हत्याकांड में हाईकोर्ट के स्वत: संज्ञान लेकर एसआइटी गठित करने के आदेश के बाद बुधवार को एसटीएफ ने फिर से हल्द्वानी में डेरा डाल दिया है। एसटीएफ ने अर्शी की सहेलियों व दोस्तों से पूछताछ करने के साथ ही पूनम हत्याकांड से जुड़े हर साक्ष्य का ब्यौरा जुटाया। एसटीएफ के चार एक्सपर्ट जवानों ने युवतियों व दोस्तों की छोटी-छोटी बातें तक नोट की हैं। गोरापड़ाव के हरिपुर पूर्णानंद में रहने वाले ट्रांसपोर्टर लक्ष्मी दत्त पांडे के घर 27 अगस्त की रात घुसे बदमाशों ने उनकी पत्‍‌नी पूनम पांडे की निर्मम हत्या व बेटी अर्शी उर्फ अर्शा को अधमरा कर दिया था।

बदमाश घर से नकदी, बंदूक व स्कूटी ले उड़े। 28 अगस्त को स्कूटी लावारिस हालत में रोडवेज स्टेशन में मिली थी। अर्शी को होश आने पर पुलिस ने कई बार उससे पूछताछ की, लेकिन अब तक बदमाशों के बारे में वह कुछ नहीं बता पायी है। जबड़े का आपरेशन होने से बुधवार को भी पुलिस उससे पूछताछ नहीं कर पायी।

हत्याकांड पर हाईकोर्ट ने खुद संज्ञान लेकर एसआइटी गठित कर जांच के निर्देश दिए हैं। बुधवार को एसटीएफ की टीम ने फिर से हल्द्वानी में डेरा डाल दिया और अर्शी से जुड़ी 20 युवक-युवतियों से अलग-अलग पूछताछ की। उनके पूर्व व वर्तमान के बयानों का मिलान भी किया जा रहा है। वहीं पुलिस को वारदात में बहेड़ी, बरेली, मुरादाबाद, व रामपुर जिले के बदमाशों की संलिप्तता की आशंका है। पुलिस टीमें वहां डेरा जमाकर लूट व हत्या क घटनाओं को अंजाम देने वाले पेशेवर बदमाशों की कुंडली खंगाल रही हैं। हालांकि अब तक पुलिस को कोई कामयाबी मिलती नहीं दिख रही है।

पूनम हत्याकांड के बाद आइजी कानून एवं व्यवस्था दीपम सेठ भी तीन दिन तक हल्द्वानी में डेरा डालकर पुलिस कार्रवाई की समीक्षा करते रहे। शनिवार शाम जाने से पहले उन्होंने अर्शी के बयानों से सटीक लाइन मिलने और दो-तीन दिन के भीतर बदमाशों को पकड़ने के साथ ही हत्याकांड से पर्दा उठाने का दावा किया था। अब चार दिन का समय भी बीत चुका है। पुलिस बदमाश पकड़ना तो दूर, उनके बारे में क्लू तक नहीं ढूंढ पायी है।

अशोक कुमार अपर महानिदेशक कानून वयवस्था ने जानकरी देते हुए बताया की पूनम पांडेय हत्याकांड को लेकर एसआईटी का गठन कर दिया गया है जिसकी जांच के लिए डीआईजी
पुष्पक ज्योति को हल्द्वानी रवाना कर दिया गया है इस मामले को लेकर अब हल्द्वानी पुलिस एसआईटी को अपनी रिपोर्ट देगी।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments