LIVE-मंच पर पहुंचे पीएम, नोट बदलने में न हो समस्या; ट्रेन को दिखाई झंडी

0
399

 LIVE-मंच पर पहुंचे पीएम, नोट बदलने में न हो समस्या; ट्रेन को दिखाई झंडी

गाजीपुर प्रधानमंत्री ने गाजीपुर पहुंचकर आयोजित समारोह में मऊ-ताड़ीघाट नई लाईन के मध्य गंगा नदी पर रेल सह सड़क पुल और गाजीपुर सिटी-बलिया रेल खण्ड के दोहरीकरण का शिलान्यास के साथ गाजीपुर सिटी-कोलकाता साप्ताहिक सुपरफास्ट ‘शब्द भेदी ‘ एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाकर रवाना भी किया ।
गाजीपुर पहुंचने के पहले बनारस के बाबतपुर हवाईअड्डे पहुचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हवाईअड्डे के एप्रन पर भारतीय जनता पार्टी के स्थानीय नेताओं से मुलाकात के दौरान कहा कि बनारस में लाइन लगकर नोट बदलने और जमा करने वालों को किसी प्रकार की समस्या न हो। यदि किसी को कोई समस्या होती है तो आप अपने स्तर से उसको तत्काल दूर करने का प्रयास करें। एप्रन पर पीएम से मुलाकात करने वालों में प्रदीप अग्रहरि, जिलाध्यक्ष हंसराज विश्वकर्मा, नागेंद्र रघुवंसी, जयनाथ मिश्रा, विद्याशंकर राय, धर्मेंद्र सिंह सहित बीजेपी के कुल नौ स्थानीय नेता शामिल रहे।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गाजीपुर पहुंच गए हैं। चार दिशाओं से निकली 17 हजार किलोमीटर लंबी भाजपा की परिवर्तन यात्र में यह उनका पहला पड़ाव है। यहां परिवर्तन यात्रा की पहली रैली को वह संबोधित करेंगे। कभी बाढ़, कभी सूखा और कभी अतिवृष्टि से दो चार होने वाले इस अंचल को मोदी से बहुत उम्मीदें हैं। इस पड़ाव में विकास से जुड़ी जिन योजनाओं की वह आधारशिला रखेंगे, वह पूर्वी उत्तर प्रदेश की हसरतों का मुकाम बनेंगी।
वर्ष 1966 में राही मासूम रजा का ‘आधा गांव’ उपन्यास प्रकाशित हुआ। गाजीपुर की पृष्ठभूमि पर लिखे गए इस उपन्यास में दुख-दर्द शिद्दत से बयां है। गाजीपुर के तत्कालीन सांसद विश्वनाथ सिंह गहमरी संसद में यहां का करुण क्रंदन सुना चुके थे। इसी पीड़ा से द्रवित होकर प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू ने पूर्वाचल के विकास के लिए पटेल आयोग का गठन किया। दशकों बाद भी पटेल आयोग की सिफारिशें जस की तस रह गईं। गाजीपुर विकास की राह में पीछे छूटा तो फिर कभी मुख्यधारा से जुड़ नहीं पाया। राही मासूम रजा के शब्दों में ‘यह शहर क्षण-क्षण जीता है, क्षण-क्षण मरता है और फिर जी उठता है। कौन जाने इसकी यह घोर तपस्या कब खत्म होगी। गाजीपुर जिंदगी के काफिले के रास्ते पर नहीं है। कभी हवा इधर से होकर गुजरती है तो काफिलों की धूल आ जाती है और यह बस्ती उस धूल को इत्र की तरह अपने कपड़ों और अपने बदन पर मलकर खुश हो लेती है।’ आजादी के दशकों बाद आज भी गाजीपुर को कोई मुकाम नहीं मिला। केंद्रीय संचार मंत्री मनोज सिन्हा ने मोदी सरकार में मंत्री बनने के बाद गाजीपुर के विकास का बीड़ा उठाया है। लोकसभा चुनाव के दौरान मोदी गाजीपुर आए थे और प्रधानमंत्री बनने के बाद सिन्हा की पहल पर पहली बार आ रहे हैं। परिवर्तन यात्र के प्रभारी और भाजपा के प्रदेश मंत्री कामेश्वर सिंह कहते हैं कि गाजीपुर के विकास के लिए भाजपा सरकार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ेगी।
उत्तर प्रदेश में विकास की कड़ी में गाजीपुर एक नया नाम होगा। प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद यहां के सभी सपने पूरे होंगे।गंगा किनारे मेल्हते हुए इस शहर ने आजादी के बाद से न जाने कितने वादे सुने होंगे। पर सच यही है कि पहले कोलकाता की चटकलों में यहां के सपने सन के ताने-बाने में बुनकर चले जाते थे और फिर सिर्फ सूनी आंखें और वीरान दिल रह जाते। हर घर से विरह की वेदना सुनाई पड़ती। अब तक यह सिलसिला टूटा नहीं है। कोलकाता के अलावा मुंबई, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब .. और बहुत आगे बढ़कर दुबई, बैंकाक, सिंगापुर, दक्षिणी कोरिया तक गाजीपुर की हदें बढ़ गई हैं। सच यही है कि जब गजदार छातियों वाले यहां के नौजवान बेरोजगारी के कोल्हू में जोत दिए जाते हैं। वह अपने सपनों को पूरा करने की आस में इस शहर से उस शहर तक भटक कर रह जाते हैं। हाल के कुछ दशकों में गाजीपुर अंडरवल्र्ड को भी युवाओं की खेप आपूर्ति करने लगा। बेरोजगारी की जंग में जरायम की ओर मुड़ गए कदमों ने न जाने कितनी कहानियां लिखीं जो किसी न किसी के लिए दुख का सबब बनकर रह गयी हैं। मोदी के आने पर उम्मीद जगी है। उनके लोकसभा चुनाव के वायदों की भी यादें ताजा होने लगी हैं। गाजीपुर खुश है। इसलिए क्योंकि जिंदगी के काफिलों पर खूबसूरत रास्तों के बनने की उम्मीद जगायी गई है। गंगा नदी पर एक ऐसे पुल की आधारशिला रखी जानी है जो सबको जोड़ सकेगा। संभव है कि गाजीपुर विकास की पटरी पर दौड़ पड़े।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments