पिथोरागढ़ में बादल फटा 12 लोगो की मौत, मुख्यमंत्री सहित प्रकाश पंत पहुंचे

0
143

पिथोरागढ़ में बादल फटा 12 लोगो की मौत, मुख्यमंत्री सहित प्रकाश पंत पहुंचे pithoragarh cloud burst at 12 die

पिथोरागढ़ उत्तराखंड के तहसील धारचूला में कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग में मालपा में बादल फटने से12लोगों की मौत हो गई, जबकि सेना के कई जवान लापता हैं। दो जवान और एक जेसीओ को मलबे से सकुशल निकाल लिया गया है। मालपा नाला उफान में आने से तीन होटल बह गए। साथ ही दर्जनों लोग घायल हैं। घायलों में दो पुलिस के जवान भी शामिल हैं। अब 12लोगो के शव बरामद कर लिए गए हैं। राज्य के मुख्यमंत्री सहित कैबिनेट मंत्री प्रकाश पंत ने आपदा प्रभवित जगह का दौरा कर प्रभवित लोगो को हर संभव सहायता दिए जाने के निर्देश अधिकारियो को दिए है इस आपदा में अभी तक मरने वालो की संख्या 12 हो गयी है जिसकी पुष्टि राज्य सरकार के मंत्री प्रकाश पंत ने की है

कैसे हुआ घटनाक्रम अभी यही है हाल
रात को जब सभी लोग नीद में सो रहे थे तभी अचानक बादल फटने की घटना रात्रि 2 बजकर 45 मिनट पर धारचूला से 8 किमी दूर ऐलागाड से हाइवे बंद है। मांगती और सिमखोला में मोटर पुल क्षतिग्रस्त हो गए । गरबाधार में सेना सहित अन्य वाहन बहने की सूचना है। साथ ही खच्चर भी बह गए हैं। काली नदी का जलस्तर बढ़ गया है।धारचूला के मांगती मालपा क्षेत्र में बादल फटने से मची तबाही में मांगती नाले के पास सेना के तीन ट्रक मय सामान के बह गए हैं। चार अन्य वाहन भी गायब है। कुमाऊ बटालियन का एक जवान लापता है। सेना के एक जेसीओ का शव मिल चुका है और एक सिविलियन महिला का शव भी मिला है। एक सिविलियन वृद्धा भी लापता बताई जा रही है।

अब तक 12 लोगों के शव नाले से निकाले गए हैं। शव सेना के जवानो के हैं या किसके पता नही चल सका है। एक महिला काली नदी पार नेपाल में नजर आई। वह घायल बताई जा रही है। छंकंडे में 50 मीटर कैलास मानसरोवर यात्रा मार्ग बह गया है। यह क्षेत्र संचार विहीन है। इस कारण सूचनाएं भी प्रशासन को समय से नहीं मिल पा रही है।

धारचूला तहसील से आगे पांगला से लेकर मालपा तक जगह-जगह भूस्खलन से भारी तबाही मची। यह मार्ग कैलाश मानसरोवर यात्रा मार्ग है। तहसील मुख्यालय से एसडीएम के नेतृत्व में राजस्व दल और पुलिस मालपा पहुंच चुकी है।जहा पर राहत कार्य चल रहा है

कैलास मानसरोवर यात्रियों को दिन का भोजन यही पर कराया जाता है। भारत चीन व्यापार में जाने वाले और उच्च हिमालयी गावो के लोग धारचूला आने जाने के दौरान रात्रि विश्राम भी करते है। मालपा स्थान भारत नेपाल सीमा पर मालपा नाले के किनारे है। यहां से काली नदी मात्र 50 मीटर दूर पर बहती है।

कैलास मानसरोवर यात्रियों के दल सुरक्षित

पिथौरागढ़ जिले के मालपा में भीषण प्राकृतिक आपदा के बाद कैलास मानसरोवर व आदि कैलास यात्रा के दल सुरक्षित हैं। जो दल जहां पर हैं, उन्हें वहीं रोक दिया गया है। यात्रा संचालक कुमाऊं मंडल विकास निगम के जीएम त्रिलोक सिहं मर्तोलिया ने बताया कि कैलास मानसरोवर यात्रा का 16 वें दल को सिरखा पड़ाव में, वापस लौट रहे 12 वें दल को धारचूला में, 13 वें, 14 व 15 वें दल को गूंजी व चीन में तथा आदि कैलास के दल को बूंदी में रोक दिया गया है। संचार सेवा प्रभावित होने की वजह से संदेशवाहक के जरिये कई दलों को रोका गया। जीएम के अनुसार यात्रियों के लिए पर्याप्त इंतजाम हैं।

हाईवे पर ड्रोन से नजर

पहाड़ से हो रहे भूस्खलन को देखते हुए प्रशासन ने हल्द्वानी-अल्मोड़ा हाईवे को 21 अगस्त तक के लिए बंद कर दिया है। वाहनों को वैकल्पिक मार्ग से भेजा जाएगा। भूस्खलन व बोल्डर गिरने की घटनाओं को देखते हुए पहाड़ी पर ड्रोन से नजर रखने का फैसला किया गया है। राज्य के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने सभी अधिकारियो को समय पर राहत कार्य तेज़ करते हुए हर संभव सहायता दिए जाने की बात कही है उत्तराखंड में कोटद्वार के बाद लगातार इस तरह का बड़ा दूसरा हादसा सामने आया है जिस में सूत्रों के अनुसार मरने वालो की संख्या बढ़ सकती है बताया जा रहा है रात के समय इस हादसे को लेकर राहत कार्य किये जाने में भी काफी परेशानी का समाना करना पड़ा है

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments