Navratri 2016 news ten days Navratri 2016 ten day festival Navratri 2016

0
443

Navratri  2016 news ten days Navratri 2016 ten day festival Navratri 2016

देहरादून नवरात्रो को लेकर जहा बाज़ारो में रौनक नज़र आ रही है वही मंदिरो में भी धार्मिक आयोजन सुरु हो गए है इस बार दस नवरात्रो को आयोजन भारत में हो रहा है बाज़ारो में रोनक से व्यपारियो के चहरो पर भी ख़ुशी देखि गयी।

शारदीय नवरात्र एक अक्टूबर से शुरू हो रहे है। इस बार नौ के बजाय दस दिन के नवरात्र है। खास बात ये है कि आठ दिन तक राज, द्विपुष्कर, सिद्धि, सर्वार्थसिद्धी, अमृत आदि योग बन रहे है। अभिजीत मुहूर्त धनु लग्न मे सुबह 11.42 से दोपहर 12.22 तक है, इसी मुहूर्त मे घटस्थापन करना शुभ है। आचार्य संतोष खंडूड़ी ने बताया कि प्रतिपदा इस बार एक और दो अक्टूबर यानी दो दिन है। इसलिए इन दोनो दिनो मे मां के प्रथम रूप शैलपुत्री की पूजा-अर्चना की जाएगी। 10 अक्टूबर को नवमी पूजन होगा और 11 अक्टूबर को विजय दशमी पर्व मनाया जाएगा।
ऐसे करे घटस्थापन
मिट्टी से वेदी बनाकर उसमे हरियाली के प्रतीक जौ बोएं। इसके बाद सोने, मिट्टी या तांबे के कलश पर स्वास्तिक बनाएं। पूजा गृह के पूर्वोलार भाग मे विधि-विधान के साथ कलश स्थापित करे। श्रीफल, गंगाजल, चंदन, सुपारी पान, पंचमेवा, पंचामृत आदि से शक्ति की आराधना करे।
इनका लगाएं भोग
मां शैलपुत्री-आरोग्य जीवन को गाय का शुद्ध घी मां ब्रह्मचारिणी-परिवार की सुरक्षा और खुशहाली के लिए शक्कर मां चंद्रघंटा-दुखो से मुक्ति के लिए खीर मां कूष्मांडा-ज्ञान मे वृद्धि के लिए मालपुआ या मीठी पूरी मां स्कंदमाता-बेहतर स्वास्थ्य के लिए केला मां कात्यायनी-सौदर्य बढ़ाने के लिए शहद मां कालरात्रि-कष्टो को हरने के लिए गुड़ मां महागौरी-घर मे सुख-शांति के लिए नारियल मां सिद्धिदात्रि-मृत्यु भय से छुटकारा पाने के लिए काले तिल पढ़ें-यहां भगवान शिव को मिली थी ब्रह्म हत्या के पाप से मुक्ति, अब करते हैं पिंडदान राशियो के अनुसार ऐसे करे शक्ति की पूजा मेष-चंदन, लाल पुष्प और सफेद मिष्ठान अर्पण करे। वृष-पंच मेवा, सुपारी, सफेद चंदन, पुष्प चढ़ाएं। मिथुन-केला, पुष्प, धूप से पूजा करे। कर्क-बताशे, चावल, दही अर्पण करे। सिंह-तांबे के पात्र मे रोली, चंदन, केसर, कपूर के साथ आरती करे। कन्या-फल, पु्ष्प, गंगाजल मां को अर्पण करे। तुला-दूध, चावल, चुनरी चढ़ाएं और घी के दिए से आरती करे। वृषक-लाल, फूल, गुड, चावल और चंदन के साथ पूजा करे। धनु-हल्दी, केसर, तिल का तेल, पीले फूल अर्पण करे। मकर-सरसो का तेल का दिया, पुष्प,चावल, कुमकुम और सूजी का हलवा मां को अर्पण करे। कुंभ- पुष्प, कुमकुम, तेल का दीपक और फल अर्पण करे। मीन-हल्दी, चावल, पीले फूल और केले के साथ पूजन करे।
इन मंत्रो का करे जाप
-या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नम: -सर्वबाधा विनिर्मुक्तो धन-धान्य सुतान्वित:, मनुष्यो मत्प्रसादेन भवष्यति न संशय

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments