नारी निकेतन पर राजनैतिक तड़का मुख्यमंत्री बोले २००९ की मौतों पर भी बोले भाजपाई

0
392

नारी निकेतन पर राजनैतिक तड़का मुख्यमंत्री बोले २००९ की मौतों पर भी बोले भाजपाई

देहरादून उत्तराखंड में नारी निकेतन का मामला जहा सरकार को असहज कर रहा है वही प्रदेश के मुख्यमंत्री हरीश रावत ने भाजपा से सवाल किया है की वर्ष २००९ में हुई मौत पर भी भाजपा को प्रदेश की जनता को जवाब देना जरुरी है राजनीती को एक सही दूरबीन से देखा जाना जरुरी है इन दिनों भाजपा राज्य में नारी निकेतन को लेकर कांग्रेस के खिलाफ सवाल उठा रही है यही नहीं हमेशा भाजपा राज्य में किसी भी मुद्दे को लेकर सी बी आई से कम जांच की माग नहीं करती ऎसे में सवाल ये भी उठ रहे है की क्या भाजपा अपने समय में हुई मौतों की भी जांच की माग करेगी राज्य में इन दिनों जनहित को लेकर भाजपा कांग्रेस क्या कर रही है इस का मूलयांकन जनता कर रही है और सही वक़्त का इंतज़ार भी हो रहा है वही भड़ास फॉर इंडिया को मिली सरकारी जानकारी के अनुसार सोमवार को बीजापुर हाउस में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ नारी निकेतन के संबंध में समीक्षा की। मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि नारी निकेतनों की पूर्ण समीक्षा किये जाने की आवश्यकता है। इनमें व्याप्त कमियों को पहचान कर आवश्यक सुधार किये जाएं। इस हेतु एक संयुक्त कमेटी गठित कर भ्रमण करवाया जाए। कमेटी में मीडिया, राजनीतिक दल एवं बाहरी क्षेत्र से भी एक प्रतिनिधि रखा जाए। उक्त कदम गणतन्त्र दिवस के बाद शीघ्र ही अमल में लाया जाय। नारी निकेतन में रह रही संवासिनियों हेतु राज्य सरकार ने व्यापत कदम उठाये है, परन्तु अभी भी काफी प्रयास किये जाने की आवश्यकता है।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने सचिव डाॅ. भूपेन्द्र कौर औलख को निर्देश दिये कि हल्द्वानी एवं अल्मोड़ा में नारी निकेतन एवं बाल गृह में भी निरीक्षण करें तथा वहां की मूलभूत सुविधाओं को ध्यान में रखते हुए तत्काल आवश्यक कदम उठाये जाये। वहीं भवाली में स्थित सरकारी चिकित्सालय के अन्तर्गत खाली पड़े भवन का भी निरीक्षण कर देखा जाए कि उक्त भवन का प्रयोग किस प्रकार हो सकता है।
बैठक में सचिव डाॅ. भूपेन्द्र कौर औलख ने बताया कि नारी निकेतनों/शरणालय के संचालन हेतु 49 पद अस्थायी रूप से स्वीकृत किये जा चुके है जिसे आउटसोर्स के माध्यम से भरे जा रहे है। उन्होने बताया कि 117 संवासिनियों की रक्त जांच की जा चुकी है। संवासिनियों में हिमोग्लोबिन की मात्रा को बढ़ाने हेतु आयरन एवं अन्य पोषक तत्व दिये जा रहे है। उन्होने बताया कि नारी निकेतनों में सम्पूर्ण सफाई हेतु व्यवस्था की जा रही है। नारी निकेतन हेतु बिजली, पानी, स्वास्थ्य एवं सुरक्षा आदि बुनियादी सुविधाओं को प्राथमिक स्तर पर पूर्ण किया जा रहा है। मूक बधिर संवासिनियों हेतु विशेषज्ञ नियुक्त किया गया है।
इस मुद्दे को लेकर अगर भाजपा ने यहाँ निवास कर रही महिलाओं के अच्छे दिनों को लेकर कोई पहल की होती तो शायद वो इन के लिए फायदे की बात होती लेकिन अपनी राजनैतिक रोटी के लिए नारी निकेतन पर राजनीती का तड़का लगाया जा रहा है
bhadas4india देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल www.bhadas4india.com की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments