मैं आज भी तेरा ही हूँ

0
432

मैं आज भी तेरा ही हूँ
आज सालों बाद एक वादा याद आया
किया था जो तूने विछड़ते वक्त
आज उसी वादे ने मुझे चोट पहुँचाया
जब देखा तेरा मुरझा चेहरा
उस अजनबी सगं पर क्या कहता
जब वही तेरा नसीब बन आया
कहा था तूने मैं खुष रहूंगी बिन तेरे
तो बता न आज ये चेहरा क्यों है मुरझाया

मैं भी अपने वादे पे अडिग था
पर आज मैं भी वादे से डगमगाया
तेरे चेहरे की उदासी देख
आज फिर मैने अपना आपा खोया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

मैंने कई साल काटे बिन तेरे तेरी नजरों से
पर कसम से मैनें तो तुझे हर रात अपने करीब पाया
हूँ उदास बिन तेरे आज भी
मुझे देख षायद तेरी आँखों में दर्द उभर आया
कहती थी न मुझे देख के मुँह मोड़ोगी
पर क्या आज तुझे वो वादा याद न आया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

मैनें भी तेरी यादों में अपनी जिन्दगी बसा ली
कैसे देखूँ किसी ओर को
जब तेरे अलावा मुझे कोई ओर न नजर आया
अजब किस्सा है मेरा थोड़ा
पर तुझे उसे वक्त मुझसे विष्वास न आया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

आज अचम्भित हूँ कहाँ है तेरा वो गुस्सा
जो कभी तूने मुझे था दिखाया
पर आज तेरे चेहरे की रौनक गायब है
याद कर वो बिछड़ते वक्त का वादा
जे कसमें देके तूने मुझे था डराया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

मैंने तो उसी वादे पे अपनी जिन्दगी गुजारी
पर इतनी उदास क्यों है में आज भी तेरा हूँ
ये भी जानता हूँ तू मेरी नही है
पर बता न ऐसा कौन सा तूफान आया
जिसकी वजह से तू इतनी रोयी है
और आज तुझ पागल ने मुझे फिर से रूलाया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

तेरी उदासी नहीं देखी जाती मुझसे
क्या उस अजनबी ने तुझे मेरे बारे में सुनाया
क्यों कहा था कि खुष रहेगी मेरे बिन
आज देख मेरे प्यार का चेहरा कितना है मुरझाया
कहा था तूने चेहरा क्यों है मुरझाया

सच बता किस बात सी भीगी तेरी पलके
मुझे अपना समझए नहीं हूँ मैं कोेई पराया
किसे ढूढँ रही है तेरी आँखे
तेरी इन नजरों ने मुझे आज फिर पागल बनाया
चल कहीं दूर चलते है यहाँ से
वो सपना पूरा करते है जो कभी साथ था सजाया
क्यों कहा था खुष रहेगी मेरे बिन
खुद से पूछ कि तेरा चेहरा क्यों है मुरझाया
षायद मेरे प्यार की हकीकत ने तुझे है रूलाया
कहा था तूने खुष रहेगी मेरे बिना
तो जबाब दे ये चेहरा क्यों है मुरझाया
लेखिका-बबीता तनवार
त्यागी रोड़ देहरादून

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments