मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण मछली ने कर दिया पूरा तालाब गन्दा

0
835

मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण मछली ने कर दिया पूरा तालाब गन्दा

देहरादून मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण का काम लोगो के घरो को बिना रकम लिए नक्शा पास करवाने का है लेकिन यहाँ के एक कर्मचारी का घूस लेकर पकड़ा जाना ये बात साबित कर रहा है की यहाँ घूस की पूरी दुकानदारी को कुछ लोग अंजाम दे रहे है वही ये कहावत भी सच हो गयी की एक मछली ने पूरा तालाब गन्दा कर दिया इतनी बड़ी रकम के साथ पकड़ा गया मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण का कर्मचारी आखिर किस के इशारे पर इस रकम को वसूल रहा था ये सच अभी पुलिस की जांच का विषय बना हुआ है देहरादून में काफी समय से मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण को कुछ दलालो ने अपनी दुकान बना दिया है यही नहीं यहाँ रोज़ाना हर फरियादी गलत तरीके से निर्माण काम किये जाने की कम्प्लेन लेकर आता है लेकिन कारवाही के नाम पर कुछ नहीं होता बता दे दी बीते कुछ समय पूर्व देहरादून के डिस्पेंसरी रोड पर अवैध निर्माण को लेकर भी वर्तमान पकड़े गए लोगो की भूमिका जांच का विषय हो सकती है यही नहीं जिस मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के ए ई नौटियाल की इस पुरे मामले में भूमिका सामने आ रही है आखिर उस के खिलाफ कारवाही क्यों नहीं की गयी ये सवाल भी कई तरह की बातो को अंजाम दे रहा है कुल मिलकर मंसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण के पकड़े गए कर्मचारी के बाद एक बात तो साबित हो गयी की यहाँ मोती रकम लेकर बिल्डरों से लेकर रसूकदारो से रकम वसूली का कारोबार अंजाम दिया जा रहा है भड़ास फॉर इंडिया को मिली जानकारी के अनुसार विजिलेंस टीम ने आवास मानचित्र का वाद निस्तारित करने के नाम पर एक लाख रुपये की रिश्वत लेते एमडीडीए के सुपरवाइजर को दबोच लिया। एमडीडीए के एई के इशारे पर आरोपी सुपरवाइजर रिश्वत की रकम लेने आया था पुलिस ने आरोपी के घर छापामारी कर सात लाख रुपये, कई बीमा पालिसी और बैंक एकाउंट की डिटेल कब्जे में ली है।

विजिलेंस के निदेशक अशोक कुमार ने बताया कि एक व्यक्ति ने शिकायत की थी कि उसके घर के नक्शा विवाद के निस्तारण के लिए मसूरी देहरादून विकास प्राधिकरण (एमडीडीए) का एई रिश्वत मांग रहा है। एई का कहना था कि एमडीडीए में पांच लाख रुपये से रिश्वत की शुरूआत होती है। इतनी रकम देने में मजबूरी जताई तो एक लाख रुपये में सौदा तय हुआ। एई ने तीन फरवरी को रकम लेकर आने को कहा।
शिकायत की जांच कराने के बाद आरोप की पुष्टि हुई तो आरोपी को रंगे हाथ पकड़ने के लिए विजिलेंस ने टीम का गठन किया। विजिलेंस टीम ने बुधवार शाम एमडीडीए के सुपरवाइजर अजय कुमार को पटेलनगर के एक होटल से रंगे हाथ रिश्वत लेते पकड़ लिया।

वह एई के इशारे पर रिश्वत का पैसा लेने आया था। इसके बाद आरोपी के घर पर छापामारी की गई तो तलाशी में सात लाख रुपये नकद, प्रापर्टी के कागजात, कई बीमा पॉलिसी आदि मिले निदेशक ने बताया कि अन्य लोगों की संलिप्तता की जांच करने के साथ आरोपी की आय के स्रोत और संपत्ति की जांच की जा रही है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments