मदरसा बोर्ड नियमावली व एक्ट केबिनेट में लायी जाएगी

0
758

मदरसा बोर्ड नियमावली व एक्ट केबिनेट में लायी जाएगी

देहरादून राज्य के जिन क्षेत्रों में मदरसे नहीं हैं, वहां यदि 20 से अधिक बच्चे उर्दू पढ़ना चाहते हैं तो वहां के स्कूलों में उर्दू के गेस्ट टीचर नियुक्त किए जाएं। मदरसा बोर्ड के नियमावली व एक्ट जल्द से जल्द केबिनेट में लाई जाए। अगले विŸाीय वर्ष के बजट में 200 अल्पसंख्यक आवासहीन परिवारों को आवास मुहैया कराने के लिए योजना तैयार की जाए। गुरूवार को सचिवालय में 15 सूत्री कार्यक्रम क्रियान्वयन समिति की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री हरीश रावत ने उक्त निर्देश देते हुए कहा कि प्रत्येक तीन माह में समिति की बैठक नियमित रूप से आयेाजित की जाएं।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि कब्रिस्तान की दीवारों के लिए इस वर्ष 26 करोड़ रूपए का प्राविधान किया गया है। यह सुनिश्चित किया जाए कि इससे होने वाले काम की क्वालिटी बेहतर हो। समिति के सदस्य यह सुझाव दें कि नए मदरसों को किस तरह से सहायता पहुंचाई जा सकती है। जिन मदरसों को मध्याह्न भोजन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है उनके प्रस्ताव भी केंद्र सरकार को प्रेषित किए जाएं। उर्दू अनुवादकों के रिक्त पदों पर नियमित भर्ती की प्रक्रिया शुरू की जाए। जिलाधिकारी यह सर्वेक्षण करें कि अल्पसंख्यक बाहुल्य किन क्षेत्रों में आबादी के अनुरूप आंगनबाड़ी केंद्र नहीं हैं। हुनर योजना, अल्पसंख्यकांे को रोजगार उपलब्ध करवाने व स्किल डेवलपमेंट की योजनाओं को बैंकों के साथ टाईअप किया जाए और यह देखा जाए कि बैंकों से ऋण मिलने में असुविधा न हो। अल्पसंख्यक कल्याण विभाग ऐसे अल्पसंख्यक बाहुल्य इलाकों की सूची तैयार करें जहां पानी, बिजली आदि मूलभूत न्यूनतम सुविधाओं का अभाव है। मुख्य सचिव सभी विभागाध्यक्षों को निर्देशित करें कि विभागीय बजट का एक निश्चित प्रतिशत अल्पसंख्यक वर्ग बाहुल्य क्षेत्रों पर व्यय किया जाए। जो मदरसे अपने अध्यापकों को रिओरिएंटेशन कराना चाहे उनके लिए टीचर्स ट्रेनिंग सेंटरों में व्यवस्था की जाए।
मुख्यमंत्री श्री रावत ने निर्देश दिए कि तीन सदस्यीय समिति बनाई जाए जिसमें कि एक-एक प्रतिनिधि मदरसों व शिक्षा विभाग से व अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के सचिव शामिल होंगे। यह समिति इस पर अपनी संस्तुति देगी कि मदरसों द्वारा जारी किए जाने वाले विभिन्न प्रकार के सर्टिफिकेटों को किसके समतुल्य रखा जाए। स्कूलों को माइनोरिटी स्टेटस देने हेतु एनओसी देने की प्रक्रिया प्रारम्भ की जाए। ईसाई समुदास के सेमीटेरी(कब्रिस्तान) के लिए जिलाधिकारी भूमि चिन्हित करें। अल्पसंख्यक विशेष तौर पर मुस्लिम समुदाय में लड़कियों की शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए मुस्लिम समुदाय में कार्यरत संस्थाओं का सहयोग लिया जाए। शहरी विकास विभाग सभी बड़े शहरों में मुसाफिरखाना स्थापित करने की योजना तैयार करे। मौलाना आजाद एजुकेशन फाईनेंस फाउंडेशन ब्याज मुक्त शिक्षा ऋण योजना को और भी प्रचारित किए जाने की जरूरत है।
सचिव अल्पसंख्यक कल्याण डा.भूपिंदर कौर औलख ने बताया कि एमएसडीपी के तहत अल्पसंख्यक महिलाओं के कौशल विकास, शिक्षा उन्नयन के लिए 3 महिला आईटीआई व 2 महिला डिग्री कालेज निर्माणाधीन हैं। मुख्यमंत्री हुनर योजना के तहत राष्ट्रीय उद्यमिता एवं लघु व्यवसाय विकास संस्थान को अल्पसंख्यक समुदाय के 350 लाभार्थियों को विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण प्रदान करने व इंस्टीट्यूट आॅफ होटल मेनेजमेंट कैटरिंग टेक्नोलोजी एंड एप्लाईड न्यूट्रीशन देहरादून को 180 लाभार्थियों को प्रशिक्षण की स्वीकृति दी गई है। बैठक में सभी 15 बिंदुओं पर विस्तार से विचार विमर्श किया गया। बैठक में केबिनेट मंत्री डा.हरक सिंह रावत, मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह, प्रमुख सचिव श्रीमती मनीषा पंवार सहित समिति के अन्य सदस्य व अधिकारी उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments