कथित स्टिंग बाज के खिलाफ हरीश लगायेगे जनता की अदालत

0
334

सोमवार को बीजापुर हाउस में आयोजित प्रेसवार्ता में मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का उत्तराखंड  दौरा केवल अपशब्दों व आरोप-प्रत्यारोंप तक सीमित रह गया। ऐसा लगता है कि उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष का पूरा कार्यक्रम  2017 के चुनावी फोबिया से ग्रस्त था। हमने उनके आगमन का स्वागत किया था और हम चाहते हैं कि राष्ट्रीय स्तर के नेता राज्य में आएं और हमारी समस्याओं व तकलीफों को समझें। परंतु अफसोस की बात है कि न तो श्री अमित शाह के बयानों व भाषण में और न ही उनकी राज्य कार्यकारिणी की बैठक में राज्य के बुनियादी मुद्दों की झलक दिखाई दी। इन पर अमित शाह ने कुछ नही कहा। केंद्र में उनकी सरकार है।  सरकार के पास लम्बित राज्य के मुद्दों को हम बार बार उठाते रहे हैं। राज्य हित में वे कुछ बातें तो कर ही सकते थे। वे फडिंग पैटर्न में बदलाव से उत्तराखंड  को हुए नुकसान की क्षतिपूर्ति कर सकते थे। बाह्य सहायतित योजनाओं में 90#10 का अनुपात किया जा सकता था, एसपीए में स्वीकृत कई सौ करोड़ की राशि अभी तक अवमुक्त नही हुई है। आपदा पर केबिनेट कमेटी ने जो संस्तुतियां की थीं उस पर वर्तमान केंद्र सरकार ने कोई रोड़मैप नही दिया है। श्री अमित शाह ने भी इस पर एक शब्द भी नही कहा है। ग्रीन बोनस व विद्युत परियोजनाओं पर भी इनका रूख सकारात्मक नही रहा है। भाजपा के भ्रष्टाचार के आरोपों पर बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि वे एक भी मामला बता दें जिसमें विŸाीय संलिप्तता बनती हो। घोटालों के आरोप दोनेां ओर से लगे हैं। अगर भाजपा चाहे तो मामनीय उच्च न्यायालय से इन सभी की न्यायिक जांच का अनुरोध किया जा सकता है।

मुख्यमंत्री श्री रावत ने कहा कि हमने राज्य के बजट का सवाल उठाया था कि किस तरह से बजट को लेकर राज्य के योजनागत विकास को पटरी से उतारा जा रहा है। इसी से जनता का ध्यान भटकाने की कोशिश की जा रही है। हम इन कोशिशों का पर्दाफाश करेंगे। हरिद्वार व हल्द्वानी के मंचों का प्रयोग केवल राज्य सरकार को कोसने के लिए किया गया। इसमें राज्य के बुनियादी सवालों की अनदेखी की गई। एक राष्ट्रीय अध्यक्ष केवल स्टिंग तक रह गया। ‘‘मैं तो आज भी कह रहा हूं कि कथित स्टिंग व सीडी में जितने भी पात्रों के नाम आए हैं, सीबीआई उन सभी की जांच करे। यही सीबीआई की निष्पक्षता का तकाजा होगा।’’ कथित स्टिंग पर ओपन डायलाॅग की प्रक्रिया प्रारम्भ करेंगे। इसकी शुरूआत हम 2 जुलाई से देहरादून से करेंगे। बाद में राज्य के अन्य स्थानों पर जनता से इस पर डयलाॅग किया जाएगा। आखिर यह भी सामने आना चाहिए कि आम जनता इसके बारे में क्या सोचती है। मै। कहां पर कानून का उल्लंघन कर रहा हूं। भाजपा के पेट में स्टिंग के मरोड़े उठ रहे हैं।

यह पूछे जाने पर कि ‘‘भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कहते हैं जो ईमानदार थे वे भाजपा में आ गए हैं और बेईमान कांग्रेस में रह गए हैं’’, मुख्यमंत्री ने कहा कि यह आजकल नया मापदण्ड बनाया जा रहा है कि देश में जो भाजपा के साथ हैं वही सही हैं बाकी सभी गलत हैं। उन्होंने कहा कि दलबदल अपने आप में संवैधानिक अपराध है, इसके दोषी भाजपा के साथ् हैं। ये अजीब बात है कि जिसने खोया है उसे अपराधी बताया जा रहा है और जिसने लाभ उठाया उसे स्वच्छ बताया जा रहा है।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments