कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट,सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे पलटा राज्यपाल का फैसला

0
197

कर्नाटक विधानसभा में फ्लोर टेस्ट,सुप्रीम कोर्ट ने ऐसे पलटा राज्यपाल का फैसला  :Karnatka Vidhansabha Floor Test
कर्नाटक को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले को भाजपा के लिए झटका भी कहा जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट ने कल यानि शनिवार शाम चार बजे येद्दयुरप्पा को कर्नाटक विधानसभा में बहुमत साबित करने को कहा है। कोर्ट का यह फैसला एक तरह से कांग्रेस और जेडीएस के लिए राहत लेकर आया है और कांग्रेस ने इस फैसले को ऐतिहासिक बताने में भी देर नहीं लगायी। कर्नाटक में विधानसभा चुनाव का परिणाम सामने आने के बाद से ही राजनैतिक लड़ाई सरकार बनाये जाने को लेकर चल रही है बीजेपी के पास विधानसभा में 104 विधायक जीत दर्ज़ किये जाने के रूप में बड़ी राजनैतिक पार्टी का दम है वही कांग्रेस को 78 और जेडीएस को 38 सीटें मिली थीं। दो सीट निर्दलीय के पाले में हैं।

सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद अब विधानसभा में बहुमत को पाने के लिए शनिवार को विधायकों को अपने पक्ष में रखने के लिए बीजेपी को शक्ति परीक्षण करना होगा जिसके लिए बहुमत का आकड़ा 112 है बीजेपी के पास सूत्रों से मिल रही जानकारी के अनुसार कुछ कांग्रेस विधायकों का साथ होने के कारण बीजेपी अपनी सरकार बनाये जाने के लिए पूरी तरह तैयार नज़र आ रही थी अब देखना होगा शनिवार को विधानसभा में बीजेपी कितने विधायकों का फ्लोर टेस्ट पास किये जाने में कामयाब होती है।

हालांकि भाजपा की ओर से इसका विरोध करते हुए कुछ समय और मांगा गया, लेकिन कोर्ट ने इसके लिए इन्‍कार कर दिया। भाजपा के वकील सात दिन का समय चाहते थे।कोर्ट ने यह भी साफ कर दिया कि जब तक शक्ति परीक्षण पास नहीं कर लेते, तब तक मुख्यमंत्री बीएस येद्दयुरप्पा कोई भी नीतिगत फैसला नहीं ले सकते। यही नहीं एंग्लो इंडियन सदस्य के मनोनयन को लेकर भी सुप्रीम कोर्ट ने फैसला दिया है। कोर्ट ने कहा है कि विधायकों के शपथग्रहण से पहले एंग्लो इंडियन सदस्य को मनोनीत नहीं किया जा सकता है।

कर्नाटक में शनिवार को यहाँ की राजनीती के लिए काफी अहम् दिन होने जा रहा है विधानसभा में फ्लोर टेस्ट के साथ साथ बीजेपी के मुख्यमंत्री के रूप में विद्यानसभा में एक नया इतिहास तैयार किया जा सकता है कांग्रेस अभी भी सरकार बनाये जाने को लेकर विधानसभा में बहुमत साबित किये जाने की बात कह रही है लेकिन बीजेपी ने कर्नाटक में अपना राजनैतिक समीकरण पूर्व में ही तैयार कर लिया था लेकिन कांग्रेस इसको भाप नहीं सकी अब देखना होगा कर्नाटक की राजनीती का ये असर क्या कांग्रेस बाकि राज्यों में अपने पक्ष में माहोल बनाये जाने के लिए कामयाब साबित होगी या नहीं।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।