जुम्मा से द्रोणागिरी ट्रैकिंग मार्ग पर विकास कार्यो को समय से पूर्ण करें। डीएम

0
190

जुम्मा से द्रोणागिरी ट्रैकिंग मार्ग पर विकास कार्यो को समय से पूर्ण करें। डीएम

चमोली ट्रैकिंग आॅफ द ईयर 2017 घोषित जुम्मा से द्रोणागिरी पैदल मार्ग में किये जाने वाले समस्त व्यवस्थाओं एवं निर्माण कार्यो को समय से पूर्ण करना सुनिश्चित करें। यह निर्देश आज जिलाधिकारी विनोद कुमार सुमन ने क्लेक्ट्रेट परिसर में ट्रैकिंग मार्ग विकास से संबधित विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक करते हुए दिये। विदित हो कि राज्य सरकार ने सीमांत क्षेत्र जुम्मा से द्रोणागिरी तक के लगभग 15 किलोमीटर क्षेत्र को ट्रैकिंग आॅफ द ईयर 2017 घोषित किया गया है जो मई 2017 से प्रारम्भ किया जाना है। इसके लिए आयुक्त गढवाल मण्डल को नोडल अधिकारी तथा गढवाल मण्डल विकास निगम को नोडल एजेंसी नामित किया गया है। जिलाधिकारी ने इस रूट पर लोक निर्माण विभाग द्वारा संचालित कार्यो में जुम्मा से रूईन तक स्वीकृत 4 किलामीटर मोटर मार्ग पर तेजी से निर्माण कार्य पूरा करने तथा छांचा से द्रोणागिरी गांव तक सड़क सर्वेक्षण कार्य का तैयार प्रस्ताव के सापेक्ष धनराशि की मांग करने के निर्देश दिये। उन्होंने वन विभाग से सड़क निर्माण में सहयोग करने तथा अपने क्षेत्रान्तर्गत ट्रैकिंग रूट को दुरस्त करने को कहा। पर्यटकों की सुविधाओं के लिए रूंईग एवं छांचा में पर्यटक आवास गृह, जुम्मा से द्रोणागिरी ट्रैकिंग रूट पर रागतुई, सोधारी आदि अलगअलग स्थानों पर बैंन्च, छतरी, सैड एवं घोडों के लिए चरी आदि का निर्माण करने के निर्देश पर्यटन अधिकारी को देते हुए शीघ्र प्रस्ताव शासन को उपलब्ध कराने को कहा। मैठाणा, बिरही में निवासरत द्रोणागिरी गांव के स्थानीय लोगों से संपर्क करते हएु द्रोणागिरी गावं में पर्यटकों को ठहरने के लिए होमस्टे एवं अन्य योजनाओं के तहत ग्रामीणों को ऋण उपलब्ध कराने को कहा, जिससे स्थानीय लोग अपनेअपने घरों में पर्यटकों के लिए एक अतिरिक्त कमरा एवं शौचालय निर्माण कर सके तथा पर्यटन सुविधाओं हेतु घोडे, खच्चर आदि खरीद सके। जल निगम एवं जल संस्थान को प्राकृतिक स्रोतों से द्रोणागिरी गांव तक पेयजल सुविधा एवं नव निर्मित पर्यटक आवासों एवं शौचालयों में पानी की व्यवस्था समय से करने के निर्देश दिये। टैंकिग रूट पर सोधारी, छांचा, रागतुई में पेयजल सुविधा, बैठने हेतु बैंन्च इत्यादि की व्यवस्था करने के निर्देश दिये। उरेडा को सौलर लाइट व्यवस्था तथा स्वास्थ्य विभाग को चिकित्सा सुविधा व एएनएम सेंन्टरों में स्वास्थ्य सुविधाओं हेतु आवश्यक तैयारी पूर्ण करने को कहा। जिलाधिकारी ने अगामी 10 से 15 दिनों के अन्दर निर्माण कार्यो एवं अन्य अवस्थापना सुविधाओं के विकास से संबधित कार्यो हेतु टैण्डर संबधित प्रक्रियायें को अनिवार्य रूप से पूरा करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। जिलाधिकारी ने कहा कि द्रोणागिरी क्षेत्र जडी़बूटी बहुल्य क्षेत्र है यहाॅ कूटी, शिलगुडी, अतीश, बालछडी आदि जडी बूटियां पायी जाती है। द्रोणागिरी गांव व आसपास के क्षेत्र में मुख्तः जिम्बू फर्ण, जंगली जीरा, काला जीरा, मांसी, आलू आदि की खेती की जाती है, जो पर्यटकों का मुख्य आर्कषण का केन्द्र रहेगा। उन्होंने बिक्री वाली सभी जड़ीबूटियों एवं अन्य उत्पादों का प्रोसेजर भी तैयार करने के निर्देश दिये है। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को स्थानीय लोगों के साथ बेहतर तालमेल व आपसी समन्वय बनाकर निर्धारित समय सीमा के अन्दर सभी कार्यो को अनिवार्य रूप से पूरा करने के निर्देश दिये। बैठक में सीडीओ विनोद गोस्वामी, ईई लोनिवि डीएस रावत, जिला पर्यटन अधिकारी एसएस यादव, मुख्य प्रशासनिक अधिकारी केएस रावत, डीईओ मा0 आशुतोष भण्डारी,, जेई जल निगम विपिन चन्द्र, अभियंता उरेडा भूपाल सिंह कुंवर आदि उपस्थित थे।

Bhadas 4 India देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल की हिंदी वेबसाइट है। भड़ास फॉर इंडिया.कॉम में हमें आपकी राय और सुझावों की जरुरत हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें bhadas4india@gmail.com पर भेज सकते हैं या हमारे व्हाटसप नंबर 9837261570 पर भी संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज Bhadas4india भी फॉलो कर सकते हैं।

Comments

comments